• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • धीरूभाई अंबानी, जिनके सपने से देश को मिली नई पहचान

धीरूभाई अंबानी, जिनके सपने से देश को मिली नई पहचान

आज धीरुभाई अंबानी का जन्मदिन है

आज धीरुभाई अंबानी का जन्मदिन है

28 दिसंबर 1932 को एक छोटे से गांव में जन्मा लड़का आम नहीं था. उसकी आंखों में कुछ अलग, कुछ नया करने का सपना था और उसने अपने दम पर उस सपने को साकार किया.

  • Share this:
    कहते हैं कि कोई मन में कुछ ठान ले और उसमें अपने सपनों को पूरा करने की हिम्मत हो, तो दुनिया की कोई ताकत उसे रोक नहीं सकती. धीरूभाई अंबानी ने इस बात को सौ प्रतिशत पूरा और सही साबित किया. एक छोटे से गांव में जन्मा लड़का आम नहीं था. उसकी आंखों में कुछ अलग, कुछ नया करने का सपना था और उसने अपने दम पर उस सपने को साकार किया. इस सपने ने न सिर्फ धीरूभाई  को बल्कि पूरी दुनिया को नई दिशा दी. 28 दिसंबर 1932 को जन्‍मे अंबानी का आज जन्‍मदिन है.

    इस एक्टर के पिता ने की थी भविष्यवाणी- बहुत बड़े आदमी बनेंगे धीरूभाई  अंबानी

    बिजनेस ऑपरेशन को दिया नया अंदाज
    हमेशा लीक से हटकर सोचने के कारण धीरूभाई अंबानी ने देश में बिजनेस करने के तौर-तरीकों को नया अंदाज दिया. अपनी नायाब बिजनेस स्‍ट्रैटजी की बदौलत वह चंद दशकों में ही देश के सबसे रईस लोगों में शुमार हो गए. यही वजह है कि 2002 में उनके निधन तक रिलायंस देश के सबसे सम्‍मानित और बड़े बिजनेस समूह में एक हो गया था.

    दुल्हन की साड़ी से लेकर अमिताभ की खास चिट्ठी तक, ईशा अंबानी की शादी की खास बातें

    कठिनाई से शुरू हुआ सफर
    गुजरात के जूनागढ़ जिले के चोरवाड़ गांव में जन्मे धीरूभाई को आर्थिक तंगी की वजह से हाईस्कूल की पढ़ाई छोड़कर छोटा-मोटा काम करना पड़ा था. उनके पिता हीराचंद गोवरधनदास अंबानी एक स्कूल में शिक्षक थे.

    रिलायंस की स्थापना
    यमन के अदन शहर में उन्‍होंने 300 रुपये महीने पर A.Besse and Co. में गैस स्‍टेशन पर अटेंडेंट का काम भी किया था. आठ साल वहां गुजारने के बाद 1958 में यमन से 500 रुपये की पूंजी के साथ लौटे और अपने कजन चंपकलाल दमानी के साथ एक टेक्‍सटाइल ट्रेडिंग कंपनी की शुरुआत की थी. उसके बाद 1960 में उन्होंने रिलायंस की स्‍थापना की थी.

    आज है देश की सबसे बड़ी कंपनी
    रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) आज देश की सबसे बड़ी कंपनी बन चुकी है. इसका मार्केट कैप यानी बाजार पूंजीकरण इस समय 581,732.30 करोड़ रुपए है. इस मामले में यह देश की सबसे बड़ी कंपनी है. रिलायंस इंडस्ट्रीज हाइड्रोकार्बन एक्‍सप्‍लोरेशन एंड प्रोडक्‍शन, पेट्रोलियम रीफाइनिंग एंड मार्केटिंग, पेट्रोकेमिकल्‍स, रिटेल और हाई-स्‍पीड डिजिटल सर्विस बिजनेस की सबसे बड़ी प्‍लेयर बन चुकी है.

    डिस्क्लेमरः न्यूज 18 हिंदी नेटवर्क 18 समूह का हिस्सा है. न्यूज 18 हिंदी और अन्य डिजिटल, प्रिंट और टीवी चैनल नेटवर्क 18 के अंतर्गत आते हैं. नेटवर्क 18 का स्वामित्व और प्रबंधन रिलायंस इंडस्ट्रीज के हाथ में है.

    ये भी पढ़ें:

    मेघालय: क्या है रैट माइनिंग, जिसके चलते मौत के मुंह में फंसे हैं 15 मजदूर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज