ट्रैफिक पुलिस इस हिसाब से काट रही है 2 लाख रुपए तक के चालान

नए मोटर व्हीकल एक्ट (New Motor Vehicle Act) में एक ट्रक पर ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन (violation of traffic rules) के लिए 2 लाख रुपए का जुर्माना (traffic fines) लगाया गया है. नए ट्रैफिक एक्ट के लागू होने के बाद ये अब तक का सबसे मोटा जुर्माना है. सवाल है कि ट्रैफिक पुलिस किस हिसाब से इतना मोटा जुर्माना वसूल रही है...

News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 11:09 AM IST
ट्रैफिक पुलिस इस हिसाब से काट रही है 2 लाख रुपए तक के चालान
दिल्ली में एक ट्रक का 2 लाख रुपए का चालान काटा गया है
News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 11:09 AM IST
1 सितंबर से लागू नए मोटर व्हीकल एक्ट (New Motor Vehicle Act) में फिर एक ट्रक का मोटा चालान (Challan) कटा है. दिल्ली में एक ट्रक का 2 लाख रुपए का चालान काटा गया है. ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन (violation of traffic rules) पर मोटे चालान (traffic fines) का ये नया रिकॉर्ड है. दिल्ली में राम किशन नाम के ट्रक ड्राइवर से ट्रैफिक पुलिस ने 2 लाख 5 सौ रुपए का जुर्माना वसूल किया है.

हरियाणा नंबर की गाड़ी को दिल्ली में ओवरलोडिंग की वजह से चालान काटा गया. ट्रक में 43 टन रेत भरा हुआ था, जबकि ट्रैफिक पुलिस के नए नियमों के मुताबिक सिर्फ 25 टन की लोडिंग की अनुमति है. 18 टन एक्सट्रा रेत का चालान काटा गया है. नए मोटर व्हीकल एक्ट के लागू होने के बाद ये अब तक का सबसे मोटा चालान है.

इसके पहले दिल्ली में ही राजस्थान में रजिस्टर्ड एक ट्रक का पर 1 लाख 41 हजार 700 रुपए का जुर्माना लगाया गया था. वहीं नगालैंड में रजिस्टर्ड एक ट्रक पर ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर 86 हजार 500 रुपए का जुर्माना लगाया गया था. इसी तरह से गुरूग्राम में एक स्कूटी वाले का 23 हजार का चालाना काटा गया था, जबकि स्कूटी की कीमत ही सिर्फ 15 हजार रुपए थी.

इतने मोटे चालान के बाद सवाल उठता है कि नए मोटर व्हीकल एक्ट में ऐसे क्या प्रावधान हैं कि ट्रैफिक पुलिस इतने मोटे चालान काट रही है? नए मोटर व्हीकल एक्ट में ऐसे कौन-कौन से नियम हैं, जिसमें सबसे ज्यादा जुर्माना वसूला जा रहा है? 2 लाख का चालान काटने के लिए ट्रैफिक पुलिस कौन सा हिसाब लगाती है?

ओवरलोडिंग पर सबसे मोटा जुर्माना

नए मोटर व्हीकल एक्ट में बड़े कमर्शियल वाहनों में ओवरलोडिंग होने पर सबसे मोटा जुर्माना लगाने का प्रावधान है. इसलिए सबसे ज्यादा जुर्माना ट्रकों पर लगाया जा रहा है. ओवरलोडिंग होने पर कम से कम 20 हजार का जुर्माना और परमिट से ज्यादा हर टन के लिए 2 हजार रुपए के जुर्माने का प्रावधान है. इसके साथ ही परमिट से ज्यादा लोडिंग को ऑफलोड का खर्च भी वाहन मालिक को ही देना पड़ता है.

पुराने कानून में ओवरलोडिंग होने पर 2 हजार रुपए का जुर्माना और परमिट से ज्यादा हर टन के लिए 1 हजार रुपए जुर्माने का प्रावधान था. इस हिसाब से 2 लाख के चालान वाले ट्रक का ओवरलोडिंग की वजह से 56 हजार का चालान कटा . इसके साथ ही ट्रैफिक पुलिस ने ऑफ लोड करने और बाकी ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का जुर्माना वसूल किया होगा. जो कुल मिलाकर 2 लाख 5 सौ रुपए की बनी.
Loading...

traffic police imposed biggest challan on a truck in delhi know how traffic fines calculated in new motor vehicle act
ओवरलोडिंग पर वसूला जाता है मोटा जुर्माना


इसी हिसाब से राजस्थान के जिस ट्रक पर 1 लाख 41 हजार 700 रुपए जुर्माना लगाया गया था, उसमें जुर्माने की सबसे ज्यादा रकम ओवरलोडिंग की वजह से वसूली गई. ट्रक पर 18 टन ज्यादा माल लोड करने की वजह से 56 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया था.

इसके साथ ही 20 हजार का जुर्माना गलत तरीके से ओवरलोडिंग की वजह से लगा था, बिना ड्राइविंग लाइसेंस के वाहन चलाने के लिए 5 हजार, अनाधिकृत व्यक्ति के ड्राइव करने की वजह से 5 हजार और 500 रुपए का जनरल ऑफेंस के लिए जुर्माना लगा था.

नए एक्ट में कमर्शियल वाहनों के ओवरलोडिंग, ओवरस्पीडिंग और दूसरे तरह के ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर सबसे ज्यादा जुर्माना वसूला जा रहा है. प्राइवेट व्हीकल ओनर से भी कुछ मामलों में सबसे ज्यादा जुर्माना वसूलने का प्रावधान है.

इन ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर वसूला जाता है सबसे ज्यादा जुर्माना

नए मोटर व्हीकल एक्ट में गाड़ी में गलत तरीके से बदलाव या गलत कागजात पर गाड़ी खरीदने या बेचने पर सबसे ज्यादा जुर्माने का प्रावधान है. गाडियों में गलत तरीके से फेरबदल, गलत तरीके से बेचने, गाड़ियों में नकली और गलत कलपुर्जे लगाने पर 1 साल की सजा और एक लाख रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान है.

उसी तरह से खराब और जर्जर हालत वाले व्हीकल पर 1 लाख का जुर्माना लगाया जा सकता है. इसमें 1 साल तक की सजा का भी प्रावधान है. सेफ्टी के लिहाज से महत्वपूर्ण कलपुर्जों की गलत तरीके से बिक्री पर 1 लाख रुपए के जुर्माना और 1 साल तक की सजा दी जा सकती है.

traffic police imposed biggest challan on a truck in delhi know how traffic fines calculated in new motor vehicle act
नए मोटर व्हीकल एक्ट में ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर वसूला जा रहा है मोटा जुर्माना


ड्राइविंग में डिसक्वालिफाई किए गए लोगों के वाहन चलाने पर 10 हजार रुपए के जुर्माने का प्रावधान है. शराब पीकर गाड़ी चलाना भी भारी पड़ सकता है. शराब पीकर गाड़ी चलाने के पहले ऑफेंस के लिए 10 हजार रुपए का जुर्माना और 6 महीने तक की सजा का प्रावधान है, वहीं दूसरी बार ऐसी गलती करने पर 15 हजार का जुर्माना या 2 साल तक की जेल की सजा हो सकती है.

खतरनाक तरीके से ड्राइविंग करने के लिए भी सख्त सजा का प्रावधान है. पहली बार ऐसा किए जाने पर 5 हजार तक का जुर्माना या 6 महीने की जेल हो सकती है जबकि दूसरी बार ऐसी गलती करने पर 10 हजार का जुर्माना या 2 साल तक की जेल हो सकती है.

इन ट्रैफिक नियमों की अनदेखी पर पड़ेगी भारी

नए मोटर व्हीकल एक्ट में ओवरसाइज व्हीकल चलाने पर 5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है. ओवरस्पीडिंग पर पहली बार 1 हजार से 2 हजार और दूसरी बार 2 हजार से 4 हजार रुपए तक का जुर्माना वसूला जा सकता है.

रोड सेफ्टी, शोर करने वाले और एयर पॉल्यूशन फैलाने वाले वाहनों पर पहली बार 10 हजार का जुर्माना या 3 महीने की जेल हो सकती है, लाइसेंस भी 3 महीने के लिए जब्त हो सकता है. वहीं दूसरी बार ऐसी गलती करने पर 6 महीने की जेल और 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: जानिए कहां जमा होता है ट्रैफिक चालान का पैसा, अब तक कितने की हुई 'वसूली'

संघ-बीजेपी के बाद अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी क्यों हुई दारा शिकोह पर फिदा?


हिंदू-मुस्लिम जोड़े की शादी क्यों नहीं स्वीकार कर पाते लोग?

संघ क्यों मानता है दारा शिकोह को अच्छा मुसलमान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 11:09 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...