कविता के कोड में मिला खजाने का क्लू, फिर मिला सोने के सिक्कों और गहनों से भरा बक्सा

बताया जा रहा है कि खजाने की कीमत करीब 7.54 करोड़ रुपए (£790,000) है (Photo-pixabay)

बताया जा रहा है कि खजाने की कीमत करीब 7.54 करोड़ रुपए (£790,000) है (Photo-pixabay)

कविता का कोड समझकर एक अनाम शख्स ने खजाने की खोज (treasure hunt successful) कर ली. बताया जा रहा है कि खजाने की कीमत करीब 7.54 करोड़ रुपए (£790,000) है.

  • Share this:
खजाने की खोज (treasure hunting) पर कहानियों तो हमने दुनियाभर की सुनी हैं. लेकिन हाल ही में हकीकत में एक ट्रेजर हंटर ने खजाने की खोज कर ली. अमेरिका के उत्तरी हिस्से में रॉकी माउंटेन (Rocky Mountains) पर ये खजाना एक पहाड़ी में जमीन के भीतर दबा हुआ था. एंटीक चीजों के संग्रहकर्ता और खरबपति फॉरेस्ट फेन (antiquities collector Forrest Fenn) ने खुद ही खजाना एक तांबे के संदूक में भरकर जमीन के नीचे छिपाया था. खजाना खोजने वाले शख्स ने अपना नाम जाहिर करने से मना किया है.

दस साल पहले खजाने की खोज की शुरुआत हुई थी, जब फॉरेस्ट फेन ने 25 अक्टूबर को एक संदूक में सोने के सिक्के, कीमती पत्थर, प्री-कोलंबियन एनिमल फिगर्स और कई बेशकीमती चीजें भरकर पहाड़ों के बीच एक जगह चुनकर वहां छिपा दिया. इसके ऊपर मिट्टी की तह इस तरह से जमाई गई कि किसी को शक भी न हो. इसके बाद फेन रॉकी माउंटन से लौट आए. साल 2010 में खजाना छिपाने के बाद फेन ने एक कविता लिखी. इसमें खजाने का जिक्र करते हुए उन्होंने उसे खोजने के क्लू भी दिए. कविता में क्लू कोड तरीके से लिखा हुआ था.

एंटीक चीजों के संग्रहकर्ता और खरबपति फॉरेस्ट फेन ने खजाना एक तांबे के संदूक में भरकर जमीन के नीचे छिपाया (Photo- CNBC)


क्लू के तौर पर फॉरेस्ट फेन ने 24 लाइन की कविता में लिखा हुआ था कि खजाना तांबे के संदूक में 5000 से 10200 फीट की ऊंचाई पर है. इसमें ऊंचाई पर स्थित किसी एक जगह के नाम की बजाए कई जगहों जैसे न्यू मैक्सिको, कोलेराडो और मोंटाना का नाम लिखा हुआ था ताकि खोजने वाले भ्रम में रहें.
ये कविता उनकी अपनी ऑटोबायोग्राफी 'द थ्रिल ऑफ द चेस' में भी थी, जिसमें खजाना खोजने के शौकीनों को आमंत्रित किया गया था. इसके बाद से खजाना खोजने वालों में होड़ मच गई. बहुत से युवा और अधेड़ पर्वतारोही रॉकी माउंटेन पर जाते और नाकामयाब लौट आते. इस कोशिश में दुर्घटनाओं में कई लोगों की जान तक चली गई लेकिन खजाने की खोज चलती रही. खुद फेन के अनुसार इन 10 सालों में लगभग 433,000 लोगों ने खजाना खोजने की कोशिश की.

खतरनाक पहाड़ों पर खजाने की खोज में बहुतों ने अपनी जान जोखिम में डाली (Photo-pixabay)


खतरनाक पहाड़ों पर खजाने की खोज में बहुतों ने अपनी जान जोखिम में डाली. इनमें से 4 लोगों की मौत हो गई. चेजर्स या फेनर्स कहलाने वाले ऐसे बहुत से लोग किसी खाई में गिर गए या गंभीर रूप से जख्मी हो गए, तब उन्हें रेस्क्यू टीम की मदद से बचाया जा सका. बहुत से लोगों ने खोजने की सनक में अपना अच्छा-खासा काम छोड़ दिया और पहाड़-पहाड़ घूमने लगे. आखिरकार नाकामयाब होकर उन्हें वापस लौटना पड़ा. असल में 3000 किलोमीटर में फैली रॉकी माउंटेन पर्वत श्रृंखला कफी खतरनाक हैं. यहां नुकीले पत्थर ही पत्थर हैं और मौसम भी लगातार बदलता रहता है. यही वजह है कि पर्वतारोही यहां कम ही आते हैं.



खोज के बारे में फेन ने मैक्सिको के सबसे पुराने न्यूजपेपर Santa Fe New Mexican को दिए एक इंटरव्यू में बताया. फेन के मुताबिक एक शख्स ने उनकी कविता में छिपे क्लू को समझने हुए उसे खोजने में कामयाबी पाई. खजाने तक पहुंचने के बाद उसने फेन को संदूक की तस्वीर भी भेजी. खोजने वाला चूंकि पहचान जाहिर नहीं करना चाहता, इसलिए उसका नाम गुप्त रखा गया है. फेन ने सिर्फ इतना ही कहा कि वो पूर्वी देश से है.

फेन ने एक कविता लिखी जिसमें खजाने का जिक्र करते हुए उन्होंने उसे खोजने के क्लू भी दिए. (Photo-pixabay)


वैसे खजाने की खोज के बारे में एक स्टडी ये भी कहती है कि इसमें 433,000 लोग जुड़े हुए थे, जो अलग-अलग वक्तों पर पहाड़ पर आए और निराश लौटे. फॉरेस्ट फेन के खजाना छिपाने और लाखों लोगों के अपना काम छोड़कर उसकी खोज में जाने पर कई स्टडीज भी हो चुकी हैं. इसके बारे में University of North Dakota में मनोविज्ञान के प्रोफेसर एलन किंग कहते हैं कि लोग खजाने की खोज तभी करते हैं, जब उन्हें पहुंच से बाहर की किसी चीज को पाने की इच्छा हो. प्रोफेसर किंग ने इस मनोविज्ञान पर जो खोज की, वो ऑनलाइन जर्नल Human Arenas में आ चुकी है.

ये भी पढ़ें:

नोबेल विजेता चर्चिल ने ऐसा क्या किया था, जिससे 30 लाख से ज्यादा भारतीय तड़प-तड़पकर मर गए

कौन थे सफेद मास्क पहने वे लोग, जो रात में घूमकर अश्वेतों का रेप और कत्ल करते?

किस खुफिया जगह पर खुलती है वाइट हाउस की सीक्रेट सुरंग 

क्या है डार्क नेट, जहां लाखों भारतीयों के ID चुराकर बेचे जा रहे हैं

क्या ऑटिज्म का शिकार हैं ट्रंप के सबसे छोटे बेटे बैरन ट्रंप?

अश्वेत लोगों के साथ रहने पर आदतें बिगड़ने का डर था गांधी जी को
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज