• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • तेलंगाना में बीजेपी-कांग्रेस के ‘करीब’ आने का दावा, पहले भी हुए हैं बेमेल गठबंधन

तेलंगाना में बीजेपी-कांग्रेस के ‘करीब’ आने का दावा, पहले भी हुए हैं बेमेल गठबंधन

तेलंगाना में नगर निगम के चुनावों के लिए बीजेपी कांग्रेस के एकसाथ आने का दावा किया जा रहा है

तेलंगाना में नगर निगम के चुनावों के लिए बीजेपी कांग्रेस के एकसाथ आने का दावा किया जा रहा है

बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) के बीच गठबंधन (Alliance) का दावा हैरान करने वाला है. लेकिन इस तरह के गठबंधन पहले भी होते आए हैं. हाल ही में महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी का गठबंधन इसका उदाहरण है.

  • Share this:
    तेलंगाना (Telangana) में सरकार चला रही पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) के मंत्री ने दावा किया है कि राज्य में नगर निगम (Municipal Elections) चुनावों के लिए कांग्रेस और बीजेपी के बीच गठबंधन हुआ है. तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव के बेटे और सरकार में मंत्री केटी रामा राव ने दावा किया है कि आने वाले नगर निगम चुनाव के लिए बीजेपी और कांग्रेस एक साथ आ गए हैं. केटी रामा राव का कहना है कि बीजेपी को नगर निगम चुनाव के लिए उम्मीदवार नहीं मिल रहे हैं. इसलिए ज्यादातर जगहों पर बीजेपी और कांग्रेस एकदूसरे का समर्थन कर रहे हैं.

    पहले भी बने हैं बेमेल गठबंधन
    बीजेपी और कांग्रेस के बीच गठबंधन का दावा हैरान करने वाला है. लेकिन इस तरह के गठबंधन पहले भी होते आए हैं. हाल ही में महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी का गठबंधन इसका उदाहरण है. महाराष्ट्र में विधानसभा का चुनाव बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर लड़ा था. चुनाव नतीजों में गठबंधन को बहुमत भी हासिल हुआ लेकिन जब सरकार बनाने की बारी आई तो शिवसेना सीएम की कुर्सी को लेकर अड़ गई. शिवसेना का कहना था कि बीजेपी शिवसेना की गठबंधन सरकार तभी बनेगी, जब शिवसेना को मुख्यमंत्री का पद दिया जाएगा.

    काफी दिनों तक चले सियासी उठापटक के बाद सरकार बनाने के लिए शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी करीब आए. शिवसेना का कांग्रेस और एनसीपी के साथ किसी तरह का मेल नहीं था. लेकिन इन तीनों का गठबंधन भी बना और राज्य में सरकार भी बनी. उद्धव ठाकरे राज्य के मुख्यमंत्री बने. इस तरह के कई और उदाहरण हैं.

    trs claimed bjp and congress have an alliance in telangana history of mismatach coalition
    केटी रामाराव ने बीजेपी और कांग्रेस के बीच गठबंधन का दावा किया है


    कांग्रेस और बीजेपी में भी हुआ है गठबंधन
    कांग्रेस और बीजेपी के बीच भी गठबंधन हो चुका है. इसकी बाकायदा मिसाल दी जा सकती है. मिजोरम में चकमा स्वायत्त जिला परिषद के गठन के लिए कांग्रेस और बीजेपी के बीच गठबंधन हो चुका है. चकमा स्वायत्त जिला परिषद के 20 सदस्यों के लिए 2018 में चुनाव हुए थे. इस चुनाव में नॉर्थ ईस्ट में बीजेपी की सहयोगी पार्टी मिजो नेशनल फ्रंट सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. मिजो नेशनल फ्रंट के 8 सदस्य चुने गए, कांग्रेस के 7 और बीजेपी के 5 उम्मीदवार विजयी रहे.

    इसके बाद जिला परिषद पर कब्जे के लिए कांग्रेस और बीजेपी के बीच चुनाव बाद गठबंधन हुआ. कांग्रेस के स्थानीय नेताओं ने इस बाबत दिल्ली के सीनियर लीडर्स से बात की. कांग्रेस के स्थानीय नेता इस गठबंधन को उचित मान रहे थे. जबकि केंद्रीय नेतृत्व ने बीजेपी के साथ इस पैक्ट को छुपाने के लिए उसका ऐलान नहीं किया. मसले को स्थानीय स्तर पर सुलझाते हुए कांग्रेस-बीजेपी का गठबंधन बना.

    चकमा स्वायत्त जिला परिषद में कांग्रेस बीजेपी की सरकार बनी. अगस्त 2019 में कांग्रेस के 3 सदस्य बीजेपी में शामिल हो गए. हालांकि बाद में एक सदस्य ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और इस तरह बीजेपी के सदस्यों की संख्या 7 हो गई.

    जब जम्मू-कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी साथ आए
    जम्मू-कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी का गठबंधन भी बेमेल ही था. दोनों पार्टियों की विचारधारा का कोई मेल नहीं, लेकिन सरकार बनाने के लिए दोनों साथ आ गए. 2014 के चुनाव के बाद जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी की गठबंधन सरकार बनी थी.

    गठबंधन में जाने से पहले बीजेपी का मत था कि पीडीपी अलगाववादियों का समर्थन करने वाली पार्टी है. चुनावों के दौरान बीजेपी ने पीडीपी पर तीखे हमले किए थे. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना बीजेपी के घोषणापत्र में शामिल है, जबकि पीडीपी की विचारधारा है कि अनुच्छेद 370 की वजह से ही जम्मू-कश्मीर भारत के साथ जुड़ा हुआ है. हालांकि बीजेपी ने अपने घोषणापत्र के वादे को पूरा करते हुए केंद्र सरकार ने कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म भी कर दिया है. इस स्तर की अलग-अलग विचारधारा रखने के बावजूद जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी की गठबंधन सरकार बनी. हालांकि 2018 में ये गठबंधन टूट गया.

    trs claimed bjp and congress have an alliance in telangana history of mismatach coalition
    जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी की गठबंधन सरकार रही है


    जब कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी की सरकार का समर्थन किया
    2013 के दिल्ली चुनाव में भी इस तरह का गठबंधन बना था. दिल्ली में कांग्रेस की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए आरटीआई एक्टिविस्ट अरविंद केजरीवाल आम आदमी पार्टी बनाकर चुनाव में उतर गए थे. उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस सरकार को खूब कोसा. केजरीवाल ने दिल्ली की शीला दीक्षित सरकार पर तीखे हमले किए.

    चुनाव नतीजों में किसी को बहुमत नहीं मिला लेकिन बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आई. बीजेपी को रोकने के लिए कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी की सरकार को बाहर से समर्थन देना स्वीकार कर लिया. कांग्रेस के सहयोग से अरविंद केजरीवाल दिल्ली के सीएम बने.

    जब कांग्रेस ने कर्नाटक में बीजेपी को रोकने के लिए जेडीएस से हाथ मिलाया
    इसी तरह का गठबंधन 2018 में कर्नाटक में बना. कांग्रेस और जेडीएस एकदूसरे के विरोधी दल थे. चुनाव प्रचार के दौरान दोनों ने एकदूसरे के ऊपर तीखे हमले किए. लेकिन चुनाव नतीजों ने दोनों को एकदूसरे के करीब ला दिया. कर्नाटक के चुनाव नतीजों में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी लेकिन बहुमत के आंकड़े को नहीं छू पाई. बीजेपी को रोकने के लिए कांग्रेस ने कर्नाटक में जेडीएस की सरकार का समर्थन कर दिया. कांग्रेस के सहयोग से एचडी कुमारस्वामी राज्य के मुख्यमंत्री बने. हालांकि ये सरकार भी ज्यादा दिन नहीं चल पाई.

    trs claimed bjp and congress have an alliance in telangana history of mismatach coalition
    अरविंद केजरीवाल कांग्रेस के समर्थन से चला चुके हैं सरकार


    बीजेपी के सहयोग से बीएसपी दो बार बना चुकी है यूपी में सरकार
    विपरीत विचारधारा वाली पार्टियों का परिस्थितिवश एकदूसरे के करीब आने का इतिहास रहा है. कभी सरकार बनाने के लिए बेमेल गठबंधन बने तो कभी किसी खास पार्टी को रोकने के लिए. 1995 में इसी तरह के गठबंधन में बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में बीएसपी की सरकार बनवाई थी.

    1993 के चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के गठबंधन की सरकार बनी थी. मुलायम सिंह यादव राज्य के मुख्यमंत्री बनाए गए थे. लेकिन लखनऊ के मशहूर गेस्ट हाउस कांड के बाद बीएसपी ने समाजवादी पार्टी की सरकार को दिया समर्थन वापस ले लिया. जिस दिन बीएसपी ने समर्थन वापस लिया, उसी दिन बीजेपी ने बीएसपी की सरकार को समर्थन दे दिया और मायावती राज्य की मुख्यमंत्री बनीं.

    ये भी पढ़ें: 

    जानिए क्यों 2000 के ही बन रहे हैं सबसे ज्यादा नकली नोट, कैसे करें पहचान

    कौन था करीम लाला, जिससे इंदिरा गांधी के मिलने का दावा कर संजय राउत ने मचा दी है सनसनी

    धरना-प्रदर्शन पर क्या कहता है संविधान, क्या इस पर लगाई जा सकती है पाबंदी

    CAA पर केरल ने किस आधार पर दी है सुप्रीम कोर्ट में केंद्र को चुनौती

    15 जनवरी को क्यों मनाया जाता है आर्मी डे

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज