लाइव टीवी

हल्दी दूध अपनी इस खूबी के चलते दुनिया में लोकप्रिय

News18Hindi
Updated: November 4, 2019, 3:24 PM IST
हल्दी दूध अपनी इस खूबी के चलते दुनिया में लोकप्रिय
हल्दी दूध पूरी दुनिया में गोल्डेन मिल्क के नाम से लोकप्रिय हो रहा है.

हल्दी में एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुणों की प्रचुरता के साथ ही एंटी-इंफ्लामेटरी (Anti-inflammatory) के भी गुण पाए जाते हैं. जिससे शरीर के सूजन को कम करने में मदद मिलती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2019, 3:24 PM IST
  • Share this:
भारत (India) में सदियों से इस्तेमाल होता आया हल्दी दूध (Turmeric milk) आजकल दुनिया के कई हिस्सों में खास तौर पर पश्चिमी देशों में तेजी से पापुलर हो रहा है. कई पोषक तत्वों से भरपूर हल्दी दूध पश्चिमी देशों में गोल्डन मिल्क के नाम से जाना जाता है. हल्दी के एंटीसेप्टिक व एंटीबायोटिक गुणों और दूध कैल्शि‍यम का प्रमुख श्रोत होने से शरीर ऊर्जा मिलती है. लाजवाब स्वास्थ्य वर्धक खूबियों के चलते आज हल्दी दूध पीना दुनिया भर में लोग पसंद कर रहे हैं.

हल्दी में एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुणों की प्रचुरता के साथ ही एंटी-इंफ्लामेटरी के भी गुण पाए जाते हैं. जिससे शरीर के सूजन को कम करने में मदद मिलती है. इसलिए प्राचीन समय से ही भारत में चोट लगने और शरीर में दर्द होने पर हल्दी दूध पीने का चलन रहा है.

हल्दी दूध घबराहट, ब्लड प्रेसन का बढ़ना, ब्लड में सूगर कंट्रोल करता है.


खांसी-जुकाम और अच्‍छी नींद लानें में लाभप्रद

हल्दी दूध खांसी-जुकाम और अच्‍छी नींद लानें में भी लाभदायक होता है. रात में हल्दी दूध पीने से दिनभर की थकान दूर होने के साथ-साथ हड्डियों में होने वाले दर्द से भी निजात मिलती है. वहीं कई शोधों से यह साबित हो गया है कि जोड़ों के दर्द और सूजन को कम करने में हल्दी एलोपैथिक दवाइयों से ज्यादा कारगर है.

बता दें कि दूध में कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन और विटामिन जैसे पोषक तत्वों की प्रचुरता होती है. वहीं हल्दी में एंटीबायोटिक के गुण पाए जाते हैं. ऐसे में हल्दी दूध पीने से हमारे स्वास्थ्य में कई सकारात्मक लाभ होते हैं. रात को हल्‍दी वाला दूध मिलाकर पीने से बॉडी से विषैले टॉक्सिन बाहर निकल जाते हैं.

हल्दी दूध से हड्डियों में होने वाले दर्द से भी निजात मिलती है.

Loading...

डाइजेस्टिव सिस्टम में लाभ
हल्दी दूध पीन से शहीर के कई हानिकारक पदार्थ निकल जाते हैं. जिससे शरीर का डाइजेस्टिव सिस्टम सही हो जाता है. पेट की कई बीमारियां जैसे-गैस, एसिडिटी, कब्‍ज आदि हल्दी दूध पाने से सही हो जाता हैं. हल्दी में मौजूद एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल पदार्थों से स्किन संबंधित बीमारी इन्फेक्शन, खुजली, मुंहासे दूर हो जाते हैं. जिससे त्वचा में भी निखार आता है.

एंटी-ऑक्सिडेंट गुण से दूर हो जाते हैं कई रोग
कई शोध रिपोर्ट के अनुसार, हल्दी में एंटी-ऑक्सिडेंट गुण भी होते हैं. जिससे घबराहट, ब्लड प्रेसन का बढ़ना, ब्लड में सूगर कंट्रोल करने और हाजमें से जु़ड़ी समस्या को दूर करने में इस्तेमाल किया जाता है. गौरतलब है कि हल्दी में करीब 200 प्रकार के रसायन पाए जाते हैं. हल्दी में मौजूद टर्मेनॉर को दिमाग की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है.

शोध के अनुसार, हल्दी में पाया जाने वाला एक तत्व मस्तिष्क की कोशिकाओं के विकास मे सहायक होता है. अल्जाइमर और ब्रेन स्टोक पर हल्दी से बनी दवा मदद होती है. वहीं ब्रिटिश डॉक्टरों का मानना है कि अभी तक यह नहीं पता चला है कि हल्दी से बनी दवा से अल्जाइमर को ठीक किया जा सकता है.

हल्दी में मौजूद टर्मेनॉर को दिमाग की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है.


टर्मेरोन पर और रिसर्च की जरूरत
दरअसल उनका मानना है कि हल्दी में पाए जाने वाले तत्व टर्मेरोन पर बहुत कम रिसर्च हुआ है. हालांकि कई शोध में साबित हुआ है कि हल्दी कैंसर में लाभप्रद है. उल्लेखनीय है कि हल्दी कैंसर और अल्जाइमर जैसे गंभीर बीमारियों में कितनी मददगार है, यह रिसर्च का विषय हो सकता है. लेकिन भारत में कई बीमारियों के लिए हल्दी दूध को सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है.

वास्तव में इसके पीछे एक ठोस वजह रही है. इस बात पर कोई बहस नहीं हो सकती कि हल्दी में एंटीबायोटिक और एंटीसेप्टिक गुणों की भरमार है. साथ ही कैल्सियम से भरपूर दूध के साथ इसका सेवन करना निसंदेह स्वास्थ्य वर्धक है. रोज हल्दी वाला दूध पीने से पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिलती है. इस कैल्शियम से हड्डियां स्वस्थ और मजबूत होती हैं. हल्दी वाला दूध ऑस्टियोपोरेसिस के मरीजों को काफी राहत देता है.

ये भी पढे़: 

प्रदूषण से बचने के लिए अपनाएं ये घरेलू नुस्खे, इम्यूनिटी रहेगी ठीक

झारखंड विधानसभा चुनाव: बीजेपी को महाराष्ट्र और हरियाणा वाली गलती से बचना होगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 3:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...