दुनिया के दो सबसे छोटे मुल्क, जहां राजपरिवार बेचते हैं मछलियां

आबादी और विस्तार के लिहाज से सीलैंड को माइक्रो नेशन भी कहा जाता है
आबादी और विस्तार के लिहाज से सीलैंड को माइक्रो नेशन भी कहा जाता है

सीलैंड में रोजगार का कोई साधन न होने के कारण वहां के राजा माइकल बेट्स (the king of Sealand Michael Bates) मछलियों का कारोबार करते हैं, जिसे फ्रूट्स ऑफ द सी नाम दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 6:12 PM IST
  • Share this:
दुनिया के सबसे ताकतवर या फिर सबसे ज्यादा आबादी वाले देशों की बात तो अक्सर होती है लेकिन क्या आप दुनिया के सबसे छोटे देश के बारे में जानते हैं! सीलैंड (Suffolk) नाम का देश दुनिया का सबसे छोटा मुल्क है, जिसकी आबादी भारत के किसी संयुक्त परिवार जितनी है. साल 2002 में यहां आखिरी बार जनगणना हुई थी, जिसके मुताबिक देश में 27 लोग हैं. आबादी और विस्तार के लिहाज से इसे माइक्रो नेशन भी कहा जाता है. जानिए, क्या खास है दुनिया के सबसे छोटे देश में.

सीलैंड कैसे तैयार हुआ
इसे ब्रिटेन की तरफ से सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान बनाया गया था ताकि समुद्री युद्ध में मदद मिल सके. सी-लैंड देश की जमीन एक खंडहर किले पर स्थित है. ये जगह इंग्लैंड के Sophocles coastline से लगभग 10 किलोमीटर दूर है. सीलैंड पर अलग-अलग लोगों का कब्जा रहा है. जिन टावर पर सीलैंड की जमीन है उन्हें रफ टावर कहा जाता. रफ टावर पर फरवरी और अगस्त 1965 में जैक मूर और उनकी बेटी जेन ने कब्जा कर लिया था. सितंबर 1967 में किले पर ब्रिटिश मेजर पैड्डी रॉय बेट्स ने कब्जा किया था.

sealand
सीलैंड को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक देश के रूप में मान्यता नहीं मिली है (Photo-geograph)

सेना प्रमुख ने बसाई आबादी


पैड्डी रॉय बेट्स ब्रिटिश समुद्री डाकू थे, जो साथ में रेडियो प्रसारण भी किया करते थे. वैसे मूल तौर पर वे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश सेना में प्रमुख थे. इन्होंने अपनी जांबाजी से समुद्री डाकूओं के एक विरोधी समूह को बाहर कर दिया था. बेट्स का इरादा समुद्री डाकू रेडियो स्टेशन बनाने और उसे लोकप्रियता दिलाने का था. उन्होंने ऐसी कोशिश भी की, जिसे रेडियो एस्सेक्स नाम दिया था. हालांकि कुछ अज्ञात कारणों से जरूरी उपकरण और रेडियो की जानकारी होने के बावजूद भी कभी प्रसारण शुरू नहीं हो सका.

ये भी पढ़ें: India-China Rift: पहले पल्ला झाड़ रहा रूस अब भारत-चीन में सुलह कराने पर क्यों तुला है? 



तैयार हुआ राष्ट्रगान और करंसी
फिर बेट्स ने रफ टावर की स्वतंत्रता की घोषणा कर इसे सीलैंड रियासत माना. 1975 में बेट्स ने सीलैंड के लिए संविधान पेश किया, जिसमें उन्होंने वहां के लिए राष्ट्रीय झंडा, राष्ट्रगान, करंसी और पासपोर्ट जारी किया. डेली पोस्ट की खबर के मुताबिक रॉय बेट्स ने 9 अक्टूबर 2012 को खुद को सी-लैंड का राजा घोषित किया था. रॉय बेट्स की मौत के बाद उसके बेटे माइकल ने पिता की जगह ली.

sealand
सीलैंड के राजा माइकल बेट्स अब मछलियों का कारोबार करते हैं


समुद्र से कमाते हैं रोजगार
सीलैंड को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक देश के रूप में मान्यता नहीं मिली है. लेकिन दुनिया के बाकी देशों की तरह सीलैंड की अपनी करंसी और पोस्टेज स्टैंप है. इसे माइक्रो नेशन भी कहा जाता है. बता दें कि माइक्रो नेशन उन देशों को कहा जाता है, जिन्हें आधिकारिक तौर पर एक देश के रूप में मान्यता नहीं है. जगह के मामले में सीलैंड बहुत छोटा है, जमीन के इस हिस्से पर रोजगार का कोई स्रोत नहीं है, बल्कि यहां के परिवार बाहर जाकर रोजी-रोटी कमाते हैं. मूलतः वे मछलियां और समुद्री चीजें बेचते हैं, जिन्हें Fruits of the Sea कहा गया है.

इटली के पास एक द्वीप है सीलैंड से भी छोटा
सीलैंड की तरह ही एक और देश भी है, जहां केवल 11 लोग रहते हैं. टली के सार्डीनिया प्रांत के पास बना एक छोटा सा द्वीप किंगडम ऑफ टवोलारा (Kingdom of Tavolara) सबसे छोटी बादशाहत है, जिसमें 11 लोग रहते हैं. यहां एक राजा भी है Antonio Bertoleoni, जो इस द्वीप का इकलौता रेस्त्रां चलाता है.

ये भी पढ़ें: क्या मालदीव का 'इंडिया आउट कैंपेन' China की कोई चाल है?     

द्वीप की कहानी शुरू होती है साल 1807 से, जब वर्तमान राजा Antonio, जिसे टोनियो के नाम से भी जाना जाता है, के दादा के दादा Giuseppe Bertoleoni इटली से भागते हुए इस द्वीप पर पहुंचे. दरअसल उन्होंने दो बहनों से एक साथ शादी की थी और द्विपत्नीत्व के आरोप से बचना चाहते थे. इसी भागमभाग में वे इस सुनसान द्वीप पर पहुंचे.

किंगडम ऑफ टवोलारा में केवल 11 लोग रहते हैं (Photo- pixabay)


ऐसे मिली इस देश को प्रसिद्धि
द्वीप सूना तो था लेकिन वहां की खासियत थी कि वहां सुनहरे दांतों वाली बकरियां पाई जाती थीं. जल्द ही सुनहरे दांतों वाली इन अनोखी बकरियों की बात फैलने लगी और लोग द्वीप पर शिकार के लिए आने लगे. तब शिकार में मदद करते हुए गुसेप के बेटे पाओलो अपने-आप को द्वीप का राजा बताते. धीरे-धीरे टवोलारा को अलग बादशाहत माना जाने लगा. उस दौरान द्वीप पर कुल 33 लोग रहने लगे थे और इस तरह से पाओलो उन 33 लोगों के राजा बन गए.

ये भी पढ़ें: पुरानी दुश्मनी भुलाकर मुस्लिम मुल्क क्यों इजरायल से हाथ मिला रहे हैं?     

फिलहाल राजा चलाते हैं रेस्त्रां
खुद को राजा मानते हुए पाओलो ने अपनी वसीयत में लिखा कि उनकी कब्र पर मुकुट लगाया जाए. इस राजा ने जीते-जी कभी क्राउन नहीं पहना था लेकिन मौत के बाद कब्र पर मुकुट लगाया गया. फिलहाल द्वीप के अकेले रेस्त्रां की कहानी भी दिलचस्प है. इसे द्वीप का वर्तमान राजा यानी एंटोनियो और उसका शाही परिवार चलाता है. ये लोग इटली से इस द्वीप तक लगभग रोज फेरी लगाते हैं और रेस्त्रां में जरूरी सामान लाते- ले जाते हैं ताकि सैलानियों को उनकी पसंद से खिलाया-पिलाया जा सके. तकनीकी तौर पर देखा जाए तो इस द्वीप पर दिनभर रहने वाला सारा शाही खानदान इटली का नागरिक है. हालांकि इटली ने भी इस द्वीप को अपना हिस्सा नहीं माना है इसलिए टवोलारा को टोनियो अपना ही साम्राज्य मानते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज