लाइव टीवी

चुनाव जीत फिर ब्रिटेन के PM बनेंगे बोरिस जॉनसन, खुद को बताते हैं भारत का दामाद

News18Hindi
Updated: December 13, 2019, 1:39 PM IST
चुनाव जीत फिर ब्रिटेन के PM बनेंगे बोरिस जॉनसन, खुद को बताते हैं भारत का दामाद
बोरिस जॉनसन ने कंजर्वेटिव पार्टी को चुनावों में बड़ी जीत दिलाई है.

ब्रिटेन के चुनावों में लेबर पार्टी की बुरी तरह से हार हुई है, जबकि मौजूदा प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की अगुवाई में कंजरवेटिव पार्टी ने भारी बहुमत हासिल कर लिया है. जॉनसन का फिर प्रधानमंत्री बनना तय है. उनका भारत और भारतीयों से खास कनेक्शन रहा है. उनकी जीत में भारतीयों की अहम भूमिका रही है

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 13, 2019, 1:39 PM IST
  • Share this:

ब्रिटेन के आम चुनाव (UK Elections) में सत्ताधारी कंज़र्वेटिव पार्टी (conservative party) ने बड़ी जीत हासिल की है. स्पष्ट बहुमत हासिल करने के बाद पार्टी फिर सरकार बनाने जा रही है. चूंकि पार्टी ने ये नया जनादेश मौजूदा प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) की अगुवाई में हासिल किया है तो लगता है कि वही फिर ब्रिटेन के पीएम बनेंगे और यूरोप से अलग करने वाली ब्रेग्जिट डील लागू करा सकेंगे. बोरिस जॉनसन को हिंदू और भारतीयों का समर्थक माना जाता है. ऐसा लगता है कि उन्हें भारतीयों का बड़े पैमाने पर चुनाव में समर्थन मिला. वैसे वो खुद को कई बार भारत का दामाद भी बता चुके हैं. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक पत्रकार के रूप में की थी. उनके चुनाव प्रचार में इस बार हिंदी गाने भी खूब बजाए गए हैं.


बोरिस को है पत्रकारिता से प्यार
बोरिस जॉनसन ने पत्रकार, सांसद, मेयर और विदेश मंत्री से प्रधानमंत्री पद तक का सफ़र तय किया है. कहा जाता कि वह तेज़ दिमाग वाले मेहनती शख्स हैं. पत्रकारिता को कई बार पहला प्यार बताने वाले बोरिस अब भी टेलीग्राफ अखबार में साप्ताहिक कॉलम लिखते हैं. शुरुआत में उनके लिखे आर्टिकल्स ब्रिटेन के मिडिल क्लास लोगों को ध्यान में रखकर लिखे जाते थे. इसमें वे पाठकों को my friends कहकर संबोधित किया करते. ये उस दौर के बुर्जुआ सिस्टम के लिए एकदम अलग बात थी. इसी से धीरे-धीरे बोरिस की पहचान बनने लगी.

एलजीबीटी अधिकारों के लिए रहे हैं सक्रिय

एलजीबीटी अधिकारों के लिए बेहद सक्रिय रहे बोरिस ब्रिटेन की राजनीति में विवादास्पद शख्सियत रहे हैं. एक ओर सपोर्टर उन्हें मजाकिया और लोकप्रिय कहते हैं तो दूसरी तरफ विरोधियों के पास अपने तर्क हैं. उनका कहना है कि बोरिस भाई-भतीजावाद को बढ़ावा देते हैं. उन पर अक्सर रेसिस्ट होने के आरोप भी लगते रहे हैं. लंदन में मेयर रहने के दौरान एक बार उन्होंने कह दिया था कि मैंने हाफ सिख से शादी की ताकि ब्रिटेन में रहने वाले सभी सिखों का मुझे वोट मिल सके.

बोरिस का अपनी भारतीय मूल की पत्नी मरिना व्हीलर के साथ फिलहाल तलाक का मामला चल रहा है. बोरिस की पत्नी मरिना की मां दीप सिख थीं.


बोरिस का अपनी भारतीय मूल की पत्नी मरिना व्हीलर के साथ फिलहाल तलाक का मामला चल रहा है. बोरिस की पत्नी मरिना की मां दीप सिख थीं. वेस्ट ससेक्स में रहने के दौरान उन्होंने ब्रिटिश पत्रकार चार्ल्स व्हीलर से दूसरी शादी की. बोरिस और मरिना की 25 साल की शादीशुदा जिंदगी रही. पिछले साल अलगाव की बात बाहर आने से पहले बोरिस और मरिना ने साथ में कई बार भारत की अनौपचारिक यात्रा की थी. बोरिस जब भी भारत आते थे तो अपनी पत्नी के परिवार के पास दिल्ली या मुंबई में रुकते थे. किसी ही ब्रितानी प्रधानमंत्री का भारत से ऐसा जुड़ाव रहा होगा, जैसा बोरिस जॉनसन का रहा है.महिला मित्र से झगड़ा होने से आए चर्चाओं में
ताकतवर पदों पर रहने के दौरान बोरिस ने अपने परिचितों और दोस्तों को फेवर किया. उन्हें नौकरियां देने के लिए जाने जाते रहे. खासकर मेयर के कार्यकाल के दौरान विवाद लगातार उनके साथ रहे.

एक बार महिला मित्र कोरी साइमंड्स के साथ उनका झगड़ा बढ़ गया. ये वही कोरी साइमंड्स हैं, जिनसे प्रेम संबंध की बात सामने आने पर बोरिस को उनकी पत्नी तलाक दे रही हैं. बहरहाल, बोरिस के इस झगड़े पर उनके विरोधी खुलकर सामने आ गए और जनता को सफाई देने की मांग करने लगे. तब ये कहकर बोरिस ने मामला रफा-दफा कर दिया कि जनता को मेरे निजी झगड़े या इस बात में कोई दिलचस्पी नहीं होगी कि मेरे घर पर क्या चल रहा है. मेरे झगड़े से राजनीति, जनता या पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ता.

ताकतवर पदों पर रहने के दौरान बोरिस ने अपने परिचितों और दोस्तों को फेवर किया. वह करीबियों को बड़ी नौकरियां देने के लिए जाने जाते रहे.


बार-बार विवादों में फंसते रहे हैं
बोरिस जॉनसन अपनी दिलचस्प शख़्सियत और बार-बार विवादों में घिरने के लिए चर्चित रहे हैं. राजनीतिक जीवन में भी उनके कम विवाद नहीं रहे हैं, लेकिन लोगों को लगता है कि वो मसले सुलझाने में उस्ताद हैं. साल 1995 में एक दोस्त Darius Guppy के साथ उनका एक फोनकॉल सार्वजनिक हो गया. इसमें दोस्त ने एक केस में फंसने की बात बताते हुए एक पत्रकार का पता मांगा, जिसने उसका क्राइम उजागर किया था. दोस्त बोरिस से उसे पीटने की बात कह रहा था. बोरिस ने मित्र को तसल्ली देते हुए वादा किया कि वो उसे पता दिलवा देंगे. बाद में फोनकॉल सामने आने के बाद बोरिस ने सफाई में कहा कि उन्होंने उस पत्रकार का पता या नंबर नहीं दिया था.

britain election why hindi hindu and hindustan is issue in boris johnson campaign
प्रधानमंत्री मोदी के साथ बोरिस जॉनसन


हेयर स्टाइल के लिए मशहूर
वो अपने हेयर स्टाइल के लिए ख़ासे मशहूर हैं. सार्वजनिक जगहों पर भी वो बिखरे बालों में ही नज़र आते हैं. बोरिस जॉनसन अपने मज़ाकिया भाषणों के लिए जाने जाते हैं.

पार्टी से निकाले भी जा चुके हैं
2004 में उन्हें कंज़र्वेटिव पार्टी से निकाल दिया गया था. वो दो बार लंदन के मेयर रह चुके हैं. साल 2008 में वो पहली बार शहर के मेयर बने. उन्होंने मेयर बनते ही लंदन में सार्वजनिक वाहनों में शराब ले जाने पर रोक लगा दी.

साइकिल चलाने के शौकीन
बोरिस साइकिल चलाने के बेहद शौकीन हैं. उन्होंने लंदन में साइकिल किराए पर देने की स्कीम लॉन्च की, जो बेहद मशहूर हुई. उन साइकिलों को बोलचाल की भाषा में बोरिस बाइक्स कहा जाने लगा.

ये भी पढ़ें: 
ब्रिटेन चुनाव में क्यों छाया है हिंदी, हिंदू और हिंदुस्तान का मुद्दा
आज 13 तारीख है और शुक्रवार भी..क्यों पूरी दुनिया में इसे मानते हैं अशुभ
संसद हमले की बरसी: जब आतंकी हमले में घिर गए थे आडवाणी समेत 100 सांसद
कैसी है बांग्लादेश में हिंदुओं की हालत, क्यों भारत पलायन को हो रहे मजबूर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 12:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर