• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • पृथ्वी के भीतर छिपे रहस्य ने वैज्ञानिकों को किया हैरान, सालों से थे अनजान

पृथ्वी के भीतर छिपे रहस्य ने वैज्ञानिकों को किया हैरान, सालों से थे अनजान

कोर-मैंटल के बीच बहुत बड़ा इलाका पाया गया है जो गर्म और अधिक धनत्व वाला है. (फोटो:Doyeon Kim/University of Maryland)

कोर-मैंटल के बीच बहुत बड़ा इलाका पाया गया है जो गर्म और अधिक धनत्व वाला है. (फोटो:Doyeon Kim/University of Maryland)

वैज्ञानिकों ने पृथ्वी (Earth) के अंदर कोर-मैंटल (Core-Mantle)परतों के बीच ऐसी बड़ी संरचना (Structure) पाई है जिसे अब तक कोई भी वैज्ञानिक नही देख पाया था.

  • Share this:
नई दिल्ली: बहुत सालों में वैज्ञानिक भूकंपों का अध्ययन कर रहे हैं. भूंकप (Earthquake) के दौरान पृथ्वी (Earth) के भीतर से आने वाली भूगर्भीय तरंगों (Seismic waves) का अध्ययन कर उन्होंने बहुत सी जानकारी भी हासिल की है. लेकिन एक ताजा शोध ने वैज्ञानिकों को इसलिए हैरान कर दिया है क्योंकि उन्हें वह जानकारी मिली जो इतने सालों के भूकंप का अध्ययन कर रहे वैज्ञानिक पकड़ नहीं सके.

क्या मिला वैज्ञानिकों को
अब तक माना जाता था कि हम पृथ्वी के इस सबसे अंदर की परत क्रोड़ (Core) के बारे में काफी कुछ जानते थे, लेकिन अब यह साबित होता दिख रहा है कि हम काफी कुछ नहीं जानते हैं. वैज्ञानिकों ने खोज निकाला है कि पृथ्वी के 2900 किलोमीटर के अंदर बड़ी संरचनाएं मौजूद हैं. ये संरचनाएं पृथ्वी की पिघली हुई क्रोड़ यानि पृथ्वी की भीतर से दूसरी परत और उसके ऊपर की परत जिसे ठोस मैंटल कहा जाता है, के बीच स्थित हैं. यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इन संरचनाओं का व्यास एक हजार किलोमीटर है और इनकी गहराई 25 किलोमीटर तक है.

कहां है यह संरचना
अमेरिका की मैरीलैंड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह खोज की है. इस शोध में शोधकर्ताओं ने प्रशांत महासागर क्षेत्र में साल 1990 से 2018 में आए 7000 भूकंपों के आंकड़ों का अध्ययन किया, जिसमें कुछ बड़े भूकंप भी शामिल थे. शोधकर्ताओं ने पाया कि जिसे वे अल्ट्रा लो वेलॉसिटी (ULV) जोन कह रहे हैं उसमें से भूगर्भीय तरंगें धीमी गति से गुजरती हैं. इसके बाद भी वैज्ञानिक इस तरह की संरचना और उसके बारे में अन्य जानकारी से अनभिज्ञ थे. इसके लिए शोधकर्ताओं ने सीक्वेंसर नाम के एक मशीन लर्निंग एलगॉरिदम का उपयोग किया. इस एलगॉरिदम को जॉन्स हॉपकिंस यूनवर्सिटी और तेल अवीव यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने विकसित किया जो इस अध्ययन के सह लेखक भी हैं. यह अध्ययन साइंस जर्नल में प्रकाशित हुआ है.

Interior of Earth
वैज्ञानिकों को कोर-मैटल के बीच यह इलका अब तक दिखाई नहीं दिया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


कैसे पता चला इन संरचनाओं का
रिक्टर स्केल पर 6.5 के मान से अधिक वाले भूकंप खास तरह की ईको (Echo) वाली खास तरंगे पैदा करते हैं जो अब तक पकड़ी नहीं जा सकी थीं. इन्हें शियर वेव्स (Shear waves) कहते हैं और ये जहां बहुत सारे भूकंप एक साथ आते हैं वहां वे एक सी थीं और नॉइज से अलग पहचानी जा सकीं. शोध के प्रमुख लेखक डोयओन किम ने बताया कि उन्हें कोर-मैंटल की सीमा से आने वाले हजारों ईको पर ध्यान देने पर नई बात का  पता चला. हमें पता चला की इस सीमा पर बहुत सी ऐसी संरचनाएं हैं जो इस तरह की ईको पैदा कर रही हैं. हम पहले ऐसा इसलिए नहीं देख सके क्योंकि हमारे देखने का नजरिया बहुत ही अलग था.

क्या खास है इस संरचना में
वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि पहला माना गया था कि हवाई द्वीपों के नीचे मौजूद ULV जोन पहले जितना समझा गया था, उससे कहीं ज्यादा बड़ी है. एक अन्य शोधकर्ता ने बताया कि उन्हें यह जानकर हैरानी हुई की हवाई और मार्केसस द्वीपों के इतना बड़ा इलाका मिलेगा जिसके बारे में सभी अब तक अनजान थे. यह इलाका क्रोड़ और मैंटल की बीच बहुत ही गर्म और ज्यादा घनत्व वाला क्षेत्र है.

earthquake
भूकंप के आंकड़ों का अध्ययन कर एक एल्गॉरिदम ने यह संरचना पहचानने में मदद की.


किम का कहना है कि यह बिलकुल वैसा ही है जैसे आप किसी अंधेरी गुफा में हों और ताली बजाने से आवाज के वापस आने पर आप समझ जाते हैं कि सामने एक दीवार है. चमगादड़ अपने आसपास के इलाके के बारे में ऐसे ही पता लगाते हैं.

यह भी पढ़ें:

जानिए कौन सा बड़ा खतरा मंडरा रहा है पाकिस्तान पर, मचेगी बड़ी तबाही

जितना सोचा था, उससे तेजी से दूर जा रहा है शनि का चंद्रमा, क्या बदलेगा इससे

पूरे ब्रह्माण्ड का 3D नक्शा बनाएगा DESI, सुलझ सकेंगे इससे कई रहस्य

खगोलविदों को मिले मिलते-जुलते पृथ्वी और सूर्य, उत्साह जगा रही है यह खोज

वैज्ञानिकों ने की दुनिया के सबसे पुराने कीड़े की खोज, फिर छिड़ गई ये बहस

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज