• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • इन राज्यों में जाने के लिए आपको नहीं है किसी RT-PCR कराने की जरूरत

इन राज्यों में जाने के लिए आपको नहीं है किसी RT-PCR कराने की जरूरत

देश भर में अब घरेलू उड़ानों में कोविड-19 के नियमों में ढील दी जाने लगी है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

देश भर में अब घरेलू उड़ानों में कोविड-19 के नियमों में ढील दी जाने लगी है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोविड -19 (Covid-19) की दूसरी लहर के कमजोर होने से अब देश के कई हिस्सों में हवाई यात्रियों (Air passengers) के लिए प्रवेश के लिए नियम बदल रहे हैं. अब ऐसे बहुत से राज्य हैं जहां जाने के लिए RT-PCR टेस्ट की जरूरत नहीं हैं.

  • Share this:
    क्या देश में कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) का प्रकोप वाकई कम हो गया है. जिस तरह से अनलॉक (Unlock) प्रक्रिया हो रही है उससे तो ऐसा ही लग रहा है. देश में अब भी रोजाना तीस हजार से ज्यादा मरीज आ रहे हैं, लेकिन ये बहुत बिखरे हैं और दूसरी लहर के आंकड़ों से बहुत कम हैं ऐसे में अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों के लिए नियमों में भी बदलाव हो रहे है कई राज्यों में आरटी-पीसीआई टेस्ट (RT-PCR Test) कराने की अनिवार्यता खत्म हो गई है. आइए जानते हैं कि किन राज्यों ने ऐसा कर दिया है और किसने नहीं.

    दूसरे राज्यों में वायुयान सेवाओं के लिए नियम सबसे सख्त हैं. लेकिन अब हालात तेजी से बदलते दिख रहे हैं. अभी कम से कम सात ऐसे राज्य हैं जो अब यात्रियों के पूरी तरह से खुल चुके हैं. इन राज्यों में फ्लाइट के लिए किसी तरह का टेस्ट अनिवार्य नहीं होगा. वहीं दूसरे 11 राज्यों में आपको प्रवेश की अनुमति होगी अगर आप वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके हैं. घरेलू उड़ाने के लिए नए नियम बन रहे . इन नियमों में भी बदलाव हो सकते हैं.

    किन राज्यों में नहीं है टेस्ट की जरूरत
    फिलहाल मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, तेलंगाना, ऐसे राज्य हैं जहां किसी भी तरह के आरटीपीसीआर टेस्ट की जरूरत नहीं है. लेकिन अगर कोविड संक्रमण मामलों में तेजी दिखी तो यात्रियों को रैंडम सैंपल लिया जा सकते हैं और अभी के नियमों के अनुसार यात्री नमूने देने के बाद ही एयरपोर्ट से बार निकल सकते हैं.

    क्या है गुजरात और तमिलनाडु में नियम
    गुजरात में जाने वालों को किसी भी टेस्ट की जरूरत नहीं है. लक्षण दिखने वाले यात्रयों को अहमदाबाद पहुंचने पर आरटीपीसीआर टेस्ट कराना होगा. वहीं तमिलनाडु में भी किसी तरह के टेस्ट और वैक्सीन सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है. लेकिन अगर आप बाहर के राज्य से कोयम्बटूर जा रहा हैं आप को डिपार्चर से पहले के 72 घंटों की नेगेटिव आरटीपासीआर रिपोर्ट दिखानी होगी, नहीं तो आपको आने पर टेस्ट कराना होगा.

    Corona virus, Covid-19 , Covid-19  Pandemic, Second wave, New Unlock Rules, Indian states, RT-PCR test, Air Travellers, Air passengers,
    RT-PCR Test से वायु सेवा यात्रियों को कई तरह की छूट मिलने लगी है. लेकिन अलग राज्यों में अलग अलग नियम हैं. (फाइल फोटो)


    कर्नाटक के हैं खास नियम
    कर्नाटक में नियम कुछ अलग हैं. यहां महाराष्ट्र और केरल से आने वाले यात्रियों को आरटी-पीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट या फिर कोविड वैक्सीन के कम से कम एक डोज की रिपोर्ट का प्रमाण देना होगा. लेकिन देश के बाकी हिस्सों से आने वाले यात्रियों को किसी भी टेस्ट या रिपोर्ट की जरूरत नहीं होगी.

    Cytomegalovirus: जानिए क्या हैं इसके लक्षण और कोविड-19 से इसका संबंध

    वैक्सीन के एक डोज वालों को सीधा प्रवेश
    कुछ राज्य ऐसे हैं जहां अगर आपको वैक्सीन का केवल एक ही डोज लगा हो तो आपको किसी टेस्ट की जरूरत नहीं है. इसमें राजस्थान प्रमुख प्रदेश  है वहीं नागालैंड में अगर किसी ने एक डोज लिया है और उसे लिए 15 दिन हो चुके हैं तो ऐसे लोग टेस्ट के बिना प्रवेश कर सकते हैं लेकिन ऐसे लोगों को 7 दिन तक क्वारेंटाइन रहना होगा.

    Corona virus, Covid-19 , Covid-19  Pandemic, Second wave, New Unlock Rules, Indian states, RT-PCR test, Air Travellers, Air passengers,
    कई राज्यों ने यात्रियों को RT-PCR Test में शर्तों के साथ छूट दी है. .


    वैक्सीन के दो डोज पर टेस्ट की जरूरत नहीं
    ऐसे भी प्रदेश हैं जहां अगर वैक्सीन के दोनों डोज लगे हों तो ही आरटीपीसीआर टेस्ट से यात्रियों  को छूट मिलेगी. यानि किसी हवाई यात्री को अगर वैक्सीन के दोनों नहीं लगे हों तो उन्हें आरटीपासीआर अनिवार्यतः कराना  होगा. इन राज्यों में छत्तीसगढ़, केरल, मणिपुर, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, और मेघालय शामिल हैं.

    क्या है जीका वायरस, जिसके कई केस मिलने के बाद केरल में हुआ अलर्ट

    गोवा में कुछ तरह के यात्रियों को विशेष छूट मिली है. चिकित्सीय आपातकाल के तहत आने वाले यात्री, व्यावसायिक या रोजगार, उद्योगों के लिए हिस्सा बने यात्री, गोवा के निवासी जो दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं या कुछ दिनों के लिए काम या चिकित्सा उद्देश्य के लिए गोवा से बाहर गए हैं, इस विशेष छूट के अधिकारी होंगे. ऐसे लोगों को अपने पूरे वैक्सीनेश का प्रमाण दिखाना होगा और वे आरटीपीसीआर जैसे टेस्ट से बच सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज