Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    अगर जो बाइडेन राष्ट्रपति बने तो कैसे होंगे व्हाइट हाउस में उनके पहले 100 दिन

    जो बाइडेन (Joe Biden) के चुने जाने के  बाद उनका आने वाला समय काफी चुनौतीपूर्ण हो सकता है.
    जो बाइडेन (Joe Biden) के चुने जाने के बाद उनका आने वाला समय काफी चुनौतीपूर्ण हो सकता है.

    अगर जो बाइडेन (Joe Biden) अमेरिका के राष्ट्रपति (US President) बन जाते हैं तो अमेरिका सहित दुनिया (World) के स्तर पर भी हमें कई बदलाव देखने को मिल जाएंगे.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 28, 2020, 6:48 PM IST
    • Share this:
    अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव (US Presidential election)के लिए मतदान (Voting) में अब केवल एक सप्ताह से भी कम का समय रह गया है. अमेरिकी राष्ट्रपति और रिपब्लिकन के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और  डेमेक्रेट उम्मीदवार जो बाइडेन (Joe Biden) के बीच मुकाबला तगड़ा माना जा रहा है बावजूद इसके कि पूर्वानुमान और सर्वेक्षण में बाइडेन के पक्ष में हवा दिख रही है. कोई भी पक्ष किसी इस मुकाबले में निश्चिंत नहीं है. ऐसे में अगर जो बाइडन राष्ट्रपति चुने (Elected) जाते हैं तो उनका बहुत ही कठिन चुनौतियां इंतजार कर रही हैं जिसका उन्हें सामना करना होगा.

    प्राथमिकताओं की लंबी सूची
    ट्रम्प और बाइडेन का भविष्य तो दिसंबर में ही तय होगा, लेकिन राष्ट्रपति के सामना बहुत सारे काम हैं जिसे निपटाने का काम प्राथमिकताओं के तौर पर पूरा करना होगा. इसकी सूची बहुत लंबी है. इसी के आधार पर गर्जियन ने बाइडेन के चुने जाने पर उनके व्हाइट हाउस में 100 दिन कार्यकाल का एक संभावित लेखा जोखा तैयार किया है.

    कोरोना संकट और अर्थव्यवस्था
    बाइडेन से सामने सबसे बड़ी चुनौती कोरोना वायरस के कठिन चुनौती से पार पाना होगा और पटरी से उतर चुकी अर्थव्यवस्था को राह पर लौटाने का होगा. यह काम बाइडेन के लिए ज्यादा चुनौतीपूर्ण इसलिए होगा क्योंकि इसके लिए उन्हें ऐसे कदम उठाने होंगे जिनसे नतीजे जल्दी मिल सकें.



    बदलाव का एक दौर
    ट्रम्प ने अपने शासनकाल में बहुत सारे ऐसे बदलाव किए थे जो बहुत सारे लोगों खास तौर डेमोक्रेट्स को सख्त नापसंद रहे. इस वजह से बाइडेन को अब संस्थागत बदलावों का दौर लाना पड़ेगा. जिससे उन पर उनकी पार्टी के लिबरल विंग का दबाव कम हो सके. डेमोक्रोट्स को बाइडेन से काफी ज्यादा बदलाव की उम्मीद है क्योंकि वे मानते हैं कि उन्हें खराब विरासत मिली है और उन्हें कुछ बड़ा करना होगा.

    Donald trump, Joe biden
    सर्वेक्षणों के मुताबिक राष्ट्रपति चुनाव (Presidential Election) की दौड़ में अभी जो बाइडेन (Joe Biden) आगे चल रहे हैं.


    कोई रोकने वाला नहीं?
    अपेक्षाओं के साथ बाइडेन की जीत उन पर बहुत ही बड़ी जिम्मेदारी देगी क्योंकि उन्हें हर तरह के बदालव के लिए एक तरह से पूरी छूट होगी. इसकी वजह यह है कि डेमोक्रेट्स की पहले से ही कॉन्ग्रेस के दोनों ही सदनों में मजबूत पकड़ है. ऐसे में उन्हें रोकना वाला कोई  नहीं होगा.

    US Election 2020: क्या जो बाइडेन का समर्थन कर रहे हैं वैज्ञानिक

    1930 या 2009
    अगर बाइडेन चुने जाते हैं तो कुछ उनकी स्थिति की तुलना 1930 के दशक में राष्ट्रपति फ्रैंकलीन रूजवेल्ट से तुलना कर रहे हैं जब अमेरिका ग्रेड डिप्रेशन से गुजर रहा था. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि बाइडेन की स्थिति वही है जब साल 2009 में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने राष्ट्रपति पद संभाला था. लेकिन साथ में यह भी कहा जा रहा है कि आज के हालात 2009 से ज्यादा खराब हैं.

    वैक्सीन से पहले ही
    पहले 100 दिन में बाइडेन को बिना वैक्सीन का इंतजार किए अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण होती मौतों को थामने के लिए कारगर कदम उठाने होंगे. गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार अनुमान है कि जनवरी 2021 तक कोरोना वैक्सीन आने से पहले तक साढ़े तीन लाख अमेरिकी इस बीमारी की वजह से मर चुके होंगे.

    US Elections, Joe Biden
    जो बाइडेन (Joe Biden) के चुने जाने के बाद उनका आने वाला समय काफी चुनौतीपूर्ण हो सकता है.


    पेरिस समझौते में वापसी
    बाइडेन का कार्यकाल में बहुत सारे चुनावी वायदे किए हैं इसमें सबसे ज्यादा चर्चा पेरिस समझौते में वापसी का वादा है जिससे ट्रम्प ने अमेरिका को बाहर निकालने का फैसला किया था. मजेदार बात यह है कि अमेरिका को इस समझौते से बाहर मतदान के 24 घंटों के बाद ही बाहर होना है.

    डोनाल्ड ट्रंप को विष्णु का अवतार क्यों मानते हैं कुछ अमेरिकी भारतीय

    इसके अलावा बाइडेन साल 2015 की ईरान की न्यूक्लियर डील से फिर से जुड़ने की बात कह चुके हैं. इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय और स्वदेशी स्तर पर हमें बहुत सारे बदलाव देखने को मिलना तय है जैसा कि हमें ट्रम्प प्रशासन की शुरुआत में देखने को मिला था.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज