Home /News /knowledge /

ज़ीका से पहले इस वायरस ने भारत में बरपाया था कहर

ज़ीका से पहले इस वायरस ने भारत में बरपाया था कहर

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

निपाह नाम का वायरस संक्रामक बीमारी है. निपाह वायरस को ये नाम सबसे पहले मलेशिया के एक गांव में फैलने के बाद दिया गया था.

    देश भर में जीका वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. भारत में जीका का पहला मामला जनवरी 2017 में अहमदामाद में सामने आया था. लेकिन हाल ही में भोपाल में 24 मामलों सहित पूरे मध्य प्रदेश में एक ही दिन में 50 मामले सामने आए हैं. बता दें कि अभी तक जीका के लिए कोई वैक्सीन या दवा नहीं खोजी गई है. इस वायरस के शिकार व्यक्ति को शरीर में दर्द या बुखार की दवा ही दी जाती है.

    ये भी पढ़ें- जीका वायरस से बचने के लिए क्‍या करें और क्‍या न करें

    ज़ीका से पहले मई 2018 में निपाह वायरस ने भी दुनिया और देशभर में कहर बरपाया था. निपाह वायरस से देश में सबसे ज्यादा, 16 मौतें केरल में हुईं थी. एक जुनोटिक (पशुजन्य) वायरस था. जो आमतौर पर चमगादड़ों, सूअरों, कुत्तों और घोड़ों से इंसानों में फैलना बताया गया था. इसका संक्रमण चमगादड़ों के काटे फलों में उनके सलाइवा से फैलना बताया गया था.

    इसके लक्षण दिमागी बुखार, तेज बुखार के साथ कफ और सांस लेने में तकलीफ होती है. इसके मुख्य लक्षण में बुखार होना, सरदर्द, सांस लेने में तकलीफ, दिमाग में सूजन, खांसी, उल्टी होना, मांसपेशियों में दर्द, मानसिक भ्रम, दस्त व ऐंठन होना इत्यादि थी.

    यह भी पढ़ें: गर्भवती महिलाएं जीका वायरस से रहें सावधान! ऐसे करें बचाव

    इससे बचाव के लिए लोगों से इस वायरस से संक्रमित इलाकों में जाने से मना किया गया था. ऐसे फलों को खाने में सावधानी बरतने को कहा गया है जिसे अक्सर चमगादड़ या दूसरे पक्षी काटकर नीचे गिरा देते है. तेज बुखार के साथ गले में समस्या जैसी शिकायत पर तुरंत डॉक्टर के पास जाने की सलाह दी गई थी.

    केरल के कोझिकोड ज़िले में निपाह वायरस से पीड़ित दो भाइयों को बचाने के दौरान नर्स लिनी इस वायरस का शिकार हुई थी. उनकी मौत भी हो गई थी. वे काफी चर्चा में रही थी.

    ये कैसे पैदा हुई
    निपाह नाम का वायरस संक्रामक बीमारी है. ये 1998 में मलेशिया और 1999 में सिंगापुर में फैल चुका है. ये पहले पालतू सुअरों के जरिए फैला और फिर कई पालतू जानवरों मसलन कुत्तों, बिल्लियों, बकरी, घोड़े और भेड़ में दिखने लगा. ये मनुष्यों पर तेजी से असर डालता है. निपाह वायरस को ये नाम सबसे पहले मलेशिया के एक गांव में फैलने के बाद दिया गया. इसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी सूची में शामिल किया हुआ है.

    यह भी पढ़ें:  क्या जीका वायरस से निपटने के लिए कोई वैक्सीन या दवा है?

    Tags: Anti-virus, Antivirus, Health News, Nipah virus, Zika Virus

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर