हिटलर की वजह से हुआ जिस कार का जन्म, उसने घोंट दिया दिल्ली का 'दम'

हिटलर की वजह से हुआ जिस कार का जन्म, उसने घोंट दिया दिल्ली का 'दम'
हिटलर की वजह से हुआ जिस कार का जन्म, उसने घोंट दिया दिल्ली का 'दम'

कार कंपनी फॉक्सवैगन को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने 100 करोड़ रु. जुर्माने के तौर पर देने का आदेश दिया है

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2019, 3:36 PM IST
  • Share this:
जर्मन कार कंपनी फॉक्सवैगन को शाम 5 बजे तक 100 करोड़ रु. जुर्माने के तौर पर सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड में जमा करने हैं. फॉक्सवैगन पर ये जुर्माना पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने पर लगाया गया था. रिपोर्ट के मुताबिक फॉक्सवैगन की कारों से साल 2016 में दिल्ली में करीब 48.678 टन नाइट्रोजन ऑक्साइड का उत्सर्जन हुआ था. अगर फॉक्सवैगन ये जुर्माना नहीं देती है तो फॉक्सवैगन के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सकती है. आदेश नहीं मानने पर कंपनी के इंडिया हेड की गिरफ्तारी भी हो सकती है.

हिटलर की 'कार' ने मचाई दिल्ली में तबाही!
फॉक्सवैगन जर्मनी की मुख्य कार कंपनी है जिसका मुख्यालय जर्मनी के वोल्फ़्सबर्ग में हैं. फॉक्सवैगन कंपनी की शुरुआत की बात करें, तो जब जर्मनी की सरकार नेशनल सोशलिस्ट (नाज़ी) पार्टी के नेता एडोल्फ हिटलर के नियंत्रण में थी, तभी 1933 में हिटलर ने फर्डिनेंड पोर्श को एक फॉक्सवैगन कार बनाने का आदेश दिया. जर्मन में फॉक्सवैगन का मतलब पीपल्स कार मतलब लोगों की कार होता है.

हिटलर जर्मनी के लोगों को एक ऐसी कार देना चाहता था, जो 100 किलोमीटर की रफ़्तार से चले और उसमें 4 सीट हों. इसके साथ ही एयर कूल इंजन की भी सुविधा उपलब्ध हो. जिसकी कीमत नॉर्मल बाइक की कीमत के बराबर हो. जर्मनी से शुरू होने वाली फॉक्सवैगन कंपनी आज दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है. फॉक्सवैगन ग्रुप में ऑडी, बेंटले, बुगाटी, लेम्बोर्गिनी, पोर्श, स्कोडा जैसे कई और कार ब्रांड को मिलाकर करीब 12 कार कंपनियां हैं.
1933 में हिटलर ने फर्डिनेंड पोर्श को एक फॉक्सवैगन कार बनाने का आदेश दिया था




विवादों से पुराना नाता
साल 2015 में फॉक्सवैगन की कारों में ऐसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण मिले थे जिसके मानकों से बहुत अधिक धुआं छोड़ने के बावजूद उत्सर्जन जांच में यह मानकों के अनुरूप आता था. फॉक्सवैगन ने इस धोखाधड़ी की बात भी कबूल की थी. फॉक्सवैगन की 1.1 करोड़ कारों में ये इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगे थे.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज