जानिए क्या-क्या बदल जाता है सर्दी का मौसम आने पर

सर्दी (Winter) के मौसम ने अपनी आहट के संकेत देने शुरू कर दिए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)
सर्दी (Winter) के मौसम ने अपनी आहट के संकेत देने शुरू कर दिए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 25, 2020, 7:49 PM IST
  • Share this:
इस समय पूरी दुनिया में मौसम (Season) के बदलने का समय है. भारत में मानसून (Monsoon) का मौसम जा चुका है, और सर्दी (Winter season) आने के संकेत देने लगी है. ऐसे में लोग भी मौसम में होने वाले बदलावों (Changes) के प्रति सचेत होने लगते हैं. कई परिवारों में बुजुर्गों से लेकर छोटे बच्चों के माता पिता भी चिंतित होने लगते हैं कि अब मौसम बदलने के साथ बच्चों के स्वास्थ के लिए परेशान होते दिखाई देते है. लेकिन यह समय मौसम के साथ ही बहुत सारे बदलाव (Changes) लाता है.

पूरी दुनिया के मौसम में बदलाव
अगर हमें दुनिया के दो ही प्रमुख मौसमों लिहाज से देखें तो पाएंगे कि यह पृथ्वी के उत्तरी ध्रुव में गर्मी से सर्दी में बदलने का मौसम है, तो वहीं दक्षिणी ध्रुव में यह मौसम सर्दी के जाने और गर्मी के आने का समय है. लेकिन हम बात भारत के ही लिहाज से बात करेंगे जहां गर्मी जाने को है और सर्दी दस्तक देने की तैयारी कर रही है.

शरीर की तालमेल की कोशिश
यह केवल मौसम में बदलाव का समय नहीं होता हमारा शरीर भी बदलते समय के साथ सामंजस्य बिठाने की कोशिश करने लगता है, दिन छोटे होने लगते है, रातें लंबी होने लगती है. तापमान कम होने लगता है. हवा में नमी भी घटने लगती है. लेकिन इसके साथ हवा की दिशा भी बदलने लगती है. मौटे तौर पर जो हवाएं दक्षिण से उत्तर की ओर, और पूर्व से पश्चिम की ओर बहती है, उनकी भी दिशा बदल जाती है.



Winter, season, weather change,
इस मौसम (Season) में कई तरह के खुशनुमा बदलाव (Changes) होते दिखाई देते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


इस मौसम में होते हैं ये अच्छे बदलाव
इस मौसम में बहुत से अच्छे बदलाव भी होते हैं जिसमें एक अच्छी सब्जियों के आने का समय शामिल है. इंसान की भूख बढ़ने लगती है और तो और खाने में वैराइटी तो मिलती है हमारी भूख भी बढ़ने लगती है. इस मौसम में मन भी ज्यादा खुश होने लगता है क्योंकि अब पसीने और गर्मी की बेचैनी अच्छे से खत्म हो जाती है. पानी गिरने पर भी ऊमस नहीं होती है.

जानिए क्यों खारे होते हैं सागर और कहां से आया उनमें इतना नमक

एक बड़ा बदलाव यह भी
मौसम के इस बदलाव का असर केवल भारत में रह रहे लोगों और अन्य जीवों पर ही नहीं बल्कि उत्तरी ध्रुव के पास रहने वाले बहुत से पक्षियों पर भी होता है. उनके लिए यह मौसम घर बदलने का मौसम होता है और वे कम सर्दी वाले इलाके की ओर रुख करते हुए भारत की ओर आते हैं जिसमें साइबेरियन सारसों का सबसे प्रमुख नाम है. यही वह समय है जब राजस्थान के भरतपुर और उसके आसपास के इलाके में तरह तरह के पक्षी दूर दूर से जमा होने लगते हैं. और यह समय ऐसी जगहों के पर्यटन के लिए बहुत मुफीद होता है.

Roses, Flowers, Winter, season, weather change,
इस मौसम (Season) में बढ़िया फूल (Flowers) खिलते हैं जो दिल को खुशी से भर देते हैं. (तस्वीर: Pixabay)


और सेहत पर असर?
इस मौसम में सबसे ज्यादा आशंका सर्दी लगने की होती है. क्योंकि हमारा शरीर मौसम से तालमेल बिठाने की  कोशिश कर रहा होता है इस वजह से उसे ज्यादा ऊर्जा की जरूरत होती है. इस मौसम में संक्रमण तकलीफ देता है खास तौर पर बच्चों को जिनके शरीर को मौसम के अनुकूल ढलने में समय लगता है.

जानिए पक्षियों की तरह क्यों नहीं उड़ सकता इंसान

अगर मौसम के बदलाव के अनुसार हम पहले से ही बदलाव करने लग जाएं तो हम सर्दी के साथ ही संक्रमण से भी काफी हद तक बच सकते हैं. हमें केवल इतना ही करना है कि थोड़ा संवेदनशील होकर यह ध्यान रखना है कि हमारे शरीर को जल्दी जल्दी ठंडा गर्म का सामना न करना पड़े. अगला एक महीना बहुत अच्छा हो सकता है जबतक कि सर्दी अपना रूप भीषण न कर ले.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज