Bengal Election Result: क्या TMC की सफलता में है कांग्रेस-वाम मोर्चे का हाथ?

टीएमसी (TMC) को बंगाल चुनाव में बड़ी सफलता मिलती दिख रही है. (फाइल फोटो)

टीएमसी (TMC) को बंगाल चुनाव में बड़ी सफलता मिलती दिख रही है. (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल (West Bengal) विधानसभा चुनावों के में तृणमूल कांग्रेस (TMC) को मिल रही भारी सफलता के पीछे कांग्रेस (Congress) और वाम मोर्चे के बलिदान का योगदान बताया जा रहा है.

  • Share this:
देश में पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव (State Assembly Elections) के नतीजों के रुझान तस्वीर साफ करने लगे हैं. सबसे रोचक स्थिति बंगाल की है, जहां तृणमूल कांग्रेस (TMC) को 200 से ज्यादा सीटें मिल रही हैं. वहीं बीजेपी को तमाम ताकत झोंकने के बाद भी 80 के आसपास सीटों में बढ़त मिलती दिख रही है. ऐसे में कई लोगों, खासकर बीजेपी समर्थकों का कहना है कि टीएमसी की इस सफलता के पीछे कांग्रेस (Congress) और सीपीएम के बलिदान का योगदान है. आइए जानते हैं  कि क्या वाकई ऐसा है.

क्या कहते हैं रुझान

चुनाव नतीजों के शुरुआती रुझानों का विश्लेषण बहुत रोचक तस्वीर पेश करता है. अगर केवल साल 2016 के नतीजों से तुलना की जाए तो कई दिलचस्प बातें सामने आती हैं. कुल सीटों के लिहाज से जहां टीएमसी को नफा नुकासान में एकदो सीट का ऊपर नीचे होने की बात सामने आ रही है तो वहीं 75-78 सीटों के फायदे मे दिखाई दे रही है. वहीं कांग्रेस को करीब 44 सीपीएम को 26 सीटों का नुकसान हो रहा है और दोनों का खाता खुलता नहीं दिख रहा है.

सीटवार मामले में उलझन
केवल इन्ही आंकड़ों को देखा जाए तो यही लगता है कि वाम मोर्चे और कांग्रेस की सीटों का टीएमसी और बीजेपी में बंटावारा हो गया है. वहीं अगर आप फौरी तौर पर देखें कि किसी सीट पर कौन सी पार्टी आगे चल रही है और 2016 में उसे किस पार्टी ने जीता था, तो मामला और उलझा हुआ लगने लगता है.

West Bengal, BJP, Left Front, CPI-M, TMC, Congress, West Bengal Elections, Bengal Election Result 2021, Bengal Election Result,
वाम मोर्चे (Left Front) की ज्यादातर सीटें टीएमसी ने जीती हैं.. (फाइल फोटो)


स्पष्ट नहीं तस्वीर



अगर केवल सीट छीनने के नजरिए से ही देखा जाएगा तो करीब 80 सीटों में बढ़त पा रही बीजेपी 50-55 में टीएमसी की सीटों पर आगे है. और यह सीटें छीनने सबसे अधिक है. कांग्रेस की करीब 20 के आसपास सीटें टीएमसी ने तो करीब 15 सीटें बीजेपी छीनती दिख रही है.  इस तरह से देखा जाए तो बीजेपी और टीएमसी ने कांग्रेस सीटें आपस में बांटी हैं जिसमें टीएमसी आगे है.

Bengal Election Results: TMC के जीतने पर ये नया रिकॉर्ड बनाएंगी ममता

Youtube Video


वाम मोर्चे की सीटें

वहीं अगर वाम मोर्चे की सीटों के लिहाज से देखें तो यहां भी जहां टीएमसी ने 25-30 सीटों में बढ़त बनाई है वहीं बीजेपी भी सीपीएम से 10-12 सीटें छीनती दिख रही है. यह बंटवारा इतना स्पष्ट नहीं है कि सीधे तौर पर कहा जा सके कि सीपीएम या कांग्रेस का फायदा सीधे तौर पर किसी पार्टी को मिले.

West Bengal, BJP, Left Front, CPI-M, TMC, Congress, West Bengal Elections, Bengal Election Result 2021, Bengal Election Result,
कांग्रेस (Congress) की शीर्ष नेतृत्व बंगाल चुनाव में प्रचार के लिए नहीं आया था. (फाइल फोटो)


चुनाव प्रचार में सुस्ती

लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि यह दावा पूरी तरह से गलत है. चुनाव प्रचार के दौरान साफ तौर पर दिखाई दिया है कि कांग्रेस और वाम मोर्चे ने चुनाव प्रचार के दौरान सुस्ती दिखाई है. कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व तो बंगाल में दिखा ही नहीं. वाम मोर्चे की सुस्ती भी किसी से छिपी नहीं थी. ऐसे में मतदाता का कांग्रेस और वाम मोर्ची से उदासीनता मिली ही होगी. और यही वोटर टीएमसी और बीजेपी में बंटा होगा.

Bengal Election Results: जानिए 10 प्वाइंट्स में बंगाल के चुनाव का इतिहास

लेकिन इसका फैसला करना आसान नहीं है कि कांग्रेस और वाम मोर्चे की निष्क्रियता का कितना फायदा टीएमसी को मिला. ऐसा भी हो सकता है कि जिन सीटों पर टीएमसी आगे बढ़ रही कांग्रेस और वाम मोर्चे के पूर्व वोटरों ने बढ़त को निर्णायक बना दिया. लेकिन इतना तय है कि बीजेपी ने ज्यादातर सीटें टीमएमसी से छीनी हैं, यह उसके लिए अच्छी खबर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज