मृतक के भी होते हैं अधिकार, जानिए कोरोना काल में क्यों उठी इसकी मांग

व्यक्ति के पास सम्मान से जीने, और मौत के बाद भी सम्मान से अंतिम संस्कार का हक होता है- सांकेतिक फोटो (pixabay)

व्यक्ति के पास सम्मान से जीने, और मौत के बाद भी सम्मान से अंतिम संस्कार का हक होता है- सांकेतिक फोटो (pixabay)

कोरोना संक्रमण से मौत के बाद कई मामलों में डरे हुए परिजनों ने मृत शरीर को अंतिम संस्कार (cremation of the deceased during ovid-19) के बगैर जहां-तहां छोड़ दिया. जबकि भारतीय कानून किसी भी तरह से मृतक से हिंसा की इजाजत नहीं देता.

  • Share this:

कोरोना काल में लगातार मृतकों से दुर्व्यवहार की खबरें आती रहीं. संक्रमण से मौत के बाद खुद परिजन भी मृतक का अंतिम संस्कार करने से कतराते दिखे और लाशें जहां-तहां फेंक दी गईं. यही देखते हुए मृतकों के अधिकार की बात उठ रही है. मृत शरीर के भी अधिकार हैं, जिसमें सम्मान से अंतिम संस्कार समेत कई दूसरी बातें शामिल हैं.

क्या मृतक कोई व्यक्ति है?

मृतक के हक की बात करते हुए सबसे पहले तो ये समझना जरूरी है कि क्या मृत शरीर भी कोई व्यक्ति है या फिर वो मौत के बाद वस्तु बन जाता है! इस बारे में न्यूजीलैंड के कानूनविद और शोधार्थी सर जॉन सेलमंड ने एक थ्योरी दी थी, जिसे वैश्विक स्तर पर माना जाता है. इसे सेलमंड थ्योरी भी कहते हैं. इसमें एक व्यक्ति को परिभाषित करते हुए कहा जाता है कि जन्म से लेकर मृत्यु तक कोई इंसान व्यक्ति की श्रेणी में आता है. उसके पास सम्मान से जीने, रहने और मौत के बाद भी सम्मान से अंतिम संस्कार का हक होता है.

मौत के बाद भी बने रहते हैं कुछ अधिकार 
जनरल क्लॉजेस एक्ट (General Clauses Act) के सेक्शन 3(42) में भी व्यक्ति की यही परिभाषा दी गई है यानी वो शख्स जिसे कानूनी अधिकार मिलें हों और जिसकी कानूनी जिम्मेदारियां भी हों. मौत के साथ ही व्यक्ति की कानूनी जिम्मेदारियां और अधिकार खत्म हो जाते हैं लेकिन मौत और अंतिम संस्कार तक ये जस के तस बने रहते हैं.

legal rights of deceased
कोरोना काल में लगातार मृतकों से दुर्व्यवहार की खबरें आती रहीं- सांकेतिक फोटो

वसीयत के पालन पर कानूनी नजर रहती है 



मृतक की वसीयत को भी काफी गंभीरता से लिया जाता है और उसका पूरी तरह से पालन हो सके, कानून ऐसी कोशिश करता है. इंडियन पीनल कोड भी इससे अलग नहीं. वो ध्यान रखता है कि मृतक की आखिरी इच्छा का सम्मान हो और किसी भी तरह से उसकी छवि को धक्का न लगे. यही कारण है कि अगर कोई व्यक्ति या संस्था, मृतक की इमेज को चोट पहुंचाने की कोशिश करे तो कानून समेत मृतक के परिजन इसपर मानहानि का केस कर सकते हैं. बता दें कि जीवित व्यक्ति भी अपनी छवि खराब होने पर मानहानि का मामला दर्ज करवा सकता है.

ये भी पढ़ें: क्यों Mount Everest का नाम राधानाथ सिकदार के नाम पर होना चाहिए?

मृत शरीर से यौन हिंसा की खबरें बढ़ीं

मृतकों के साथ अभी इस तरह की खबरें भी आ रही हैं कि मौत के बाद उनके गहने गायब हो गए. कई बार मृत शरीर के साथ यौन हिंसा जैसी बातें भी दुनिया के कई हिस्सों से आती रही हैं. मृत शरीर के साथ यौन हिंसा को नेक्रोफीलिया कहते हैं. ये एक प्रवृति है, जिसे आमतौर पर अपराधी या बीमार मानसिकता के लोग करते हैं. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) और अमेरिकन साइकेट्रिक एसोसिएशन ने इसे पैराफीलिया भी कहा है. ये भी कानून की नजर में भयंकर अपराध है.

legal rights of deceased
बीते कुछ सालों में शवों से यौन हिंसा जैसी घटनाएं बढ़ीं- सांकेतिक फोटो (pixabay)

कानून मृत शरीर के साथ खराब व्यवहार की इजाजत नहीं देता

खासकर यौन हिंसा या शरीर के साथ क्रूरता के लिए देशों में अलग-अलग सजाओं का प्रावधान है. जैसे न्यूजीलैंड में मृतक के साथ किसी तरह की हिंसा करने वाले को 2 साल की सख्त सजा और जुर्माना देना होता है. अमेरिका, ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका में भी इस तरह की सजा है.

ये भी पढ़ें: कैसे रहती है दुनिया के सबसे महंगे शहर Hong Kong की बड़ी आबादी?

हमारे यहां मृतक से यौन हिंसा पर ठोस कानून नहीं 

भारत में बीते कुछ सालों में शवों से यौन हिंसा जैसी घटनाएं बढ़ीं. कुछ सालों पहले उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में शव खोदकर तीन लोगों ने एक युवती से गैंगरेप किया. साल 2006 में नोएडा में सीरियल किलिंग की खबर आई, जिसमें एक बिजनेसमैन और उसका सहयोगी महिलाओं और बच्चों के शवों से बलात्कार करते थे. मृत शरीर से यौन हिंसा की घटनाएं बढ़ने के बाद भी हमारे यहां इसके खिलाफ कोई पक्का कानून नहीं. हालांकि IPC की धारा 377 में अननेचुरल सेक्स के लिए सजा दी जा सकती है.

legal rights of deceased
मृतक के शरीर से छेड़छाड़ पर सभी देशों में सजा का प्रावधान है- सांकेतिक फोटो (pixabay)

अंतिम स्ंस्कार को लेकर ज्यादा स्पष्टता है 

वहीं IPC के सेक्शन 297 के तहत मौत के बाद किसी का उसकी आस्था या धर्म के मुताबिक अंतिम संस्कार न होने पर सजा का प्रावधान है. या फिर अगर मृतक के शरीर से छेड़छाड़ हो या अंतिम संस्कार में बाधा डालने की कोशिश हो तो भी एक साल की कैद और जुर्माने का नियम है.

ये भी पढ़ें: जानिए, क्यों ट्रांसजेंडर्स पर जमकर मेहरबान हो रही हैं Bangladesh की कंपनियां

गरिमा से होनी चाहिए अंतिम विदाई 

भारत में सेक्शन 21 के तहत मृतक के सारे अधिकार आते हैं. इसमें सबसे जरूरी हिस्सा ये है कि मृतक को हर हाल में गरिमा से इस दुनिया से आखिरी विदा मिलनी चाहिए. यानी उसके शरीर से बगैर किसी छेड़छाड़ उसका अंतिम संस्कार हो. वैसे इसमें ऑर्गन डोनेशन की छूट रहती है अगर मृतक ने ऐसी इच्छा जताई हो या फिर उसके परिजन इसकी अनुमित दें तो. बेघर और अनाम मृतकों के लिए भी कानून यही नियम लागू करता है कि अगर उसके शरीर या कपड़ों से धर्म की पहचान हो सके, तो उसी मुताबिक अंतिम क्रिया हो.

कब्र के साथ छेड़खानी किसी हाल में नहीं 

मृतक के अंतिम संस्कार के बाद भी ये नियम लागू रहता है. खासकर अगर उसे दफनाया गया हो तो उसकी कब्र के साथ कोई छेड़खानी नहीं होनी चाहिए, जब तक कि खुद कोर्ट किसी संदिग्ध मामले की जांच के लिए ऐसा आदेश न दे. यानी अंतिम संस्कार किए जाने से पहले शरीर के अधिकार मृतक के परिजनों के पास होते हैं, लेकिन इसके बाद लाश कानून की जिम्मेदारी हो जाती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज