US-IranTension : इतने लाख भारतीयों पर संकट, हजारों करोड़ का होगा नुकसान

US-IranTension : इतने लाख भारतीयों पर संकट, हजारों करोड़ का होगा नुकसान
अमेरिका ईरान के बीच तनाव बढ़ने से पश्चिमी एशिया में रहने वाले भारतीयों पर संकट खड़ा होगा

अमेरिका (America) और ईरान (Iran) के बीच तनाव बढ़ने की आशंकाओं के बीच भारत (India) भी अपने हितों को लेकर चिंतित है. अगर संकट बढ़ा तो पश्चिमी एशिया में रहने वाले भारतीय संकट में आ जाएंगे और इससे भारत को हजारों करोड़ का नुकसान भी होगा..

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2020, 11:37 AM IST
  • Share this:
अमेरिका (America) और ईरान (Iran) के बीच जारी तनाव को कम करने की कोशिश जारी हैं. ईरान की कुद्स आर्मी के प्रमुख कासिम सुलेमानी (Qassim Soleimani) के अमेरिकी हवाई हमले में मारे जाने बाद ईरान ने इराक में अमेरिकी दूतावास पर हमले किए. हालांकि इसके बाद अमेरिका की तरफ से संयमित जवाब दिया गया है. पूरी दुनिया चाहती है कि अमेरिका और ईरान के बीच जारी तनाव कम हो और किसी भी तरह युद्ध की स्थिति न बनने पाए.

हालांकि आशंकाओं के बीच भारत भी अपने हितों को लेकर चिंतित है. भारत ने अपने ट्रेड रूट को बचाने के लिए खाड़ी के इलाके में नेवल वारशिप तैनात किया है. किसी भी इमरजेंसी के हालात से निपटने के लिए नेवी के वारशिप को तैयार रखा गया है. भारत की सबसे बड़ी चिंता अपने व्यापारिक मार्ग की सुरक्षा है.

इसके साथ ही भारत ने इराक में रहने वाले अपने लोगों को भी अलर्ट किया है. इराक जाने वाले भारतीयों के लिए सरकार ने एक गाइडलाइन जारी की है. सरकार ने निर्देश दिया है कि अगर बहुत जरूरी नहीं हो तो इराक की यात्रा से बचें. विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में इराक में रहने वाले लोगों को भी अलर्ट रहने को कहा गया है.



तनाव बढ़ा तो इतने लाख भारतीय होंगे प्रभावित



इराक की धरती पर अमेरिका और ईरान एक दूसरे से भिड़े हैं. इस इलाके में भारतीय मूल के लोग भी रहते हैं. अगर अमेरिका और ईरान के बीच जारी तनाव बढ़ता है और युद्ध की स्थिति बनती है तो उन भारतीयों के लिए भी संकट की बात होगी. इस पूरे इलाके में किसी भी तरह की अस्थिरता भारत पर असर डालेगी.

एक आंकड़े के मुताबिक पश्चिमी एशिया में करीब 80 लाख भारतीय रहते हैं. इसमें सबसे ज्यादा खाड़ी के इलाके में भारतीय लोग हैं. किसी भी तरह की अस्थिरता उन सभी लोगों को संकट में डाल देगी. भारत के लिए ये बड़ी चिंता की बात होगी.

what does us iran tension mean for india crisis affect how many indians and what will economic loss
अमेरिकी कार्रवाई में ईरान की आर्मी के जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद तनाव बढ़ा है


भारत 1990 में इस तरह के संकट का सामना भी कर चुका है. नब्बे के दशक में अमेरिका ने इराक पर हमला बोल दिया था. इस युद्ध के बीच इराक में रह रहे भारतीय फंस गए थे. भारत सरकार को इराक से अपने लोगों को निकालने के लिए बड़ा ऑपरेशन चलाना पड़ा था. जंग का मैदान बन चुके इराक से भारत ने अपने 1 लाख 10 हजार लोगों को एयरलिफ्ट किया था. भारत सरकार के लिए ये काफी चुनौतीपूर्ण काम था.

इस वक्त अगर अमेरिका-ईरान के तनाव के बीच स्थितियां बिगड़ती हैं तो भारत को एक बार फिर उसी तरह के संकट का सामना करना पड़ेगा.

संकट बढ़ा तो भारत को होगा हजारों करोड़ का नुकसान
अगर युद्ध नहीं भी होता है और तनाव की स्थिति बनी रहती है तो भारत के लिए ये भी अच्छा नहीं होगा. अस्थिरता की वजह से इलाके की अर्थव्यवस्था प्रभावित होगी और यहां नौकरी और रोजगार करने वाले भारतीयों पर संकट खड़ा होगा. पिछले कुछ वर्षों में इस इलाके के अस्थिर माहौल की वजह से पहले से ही हालात खराब हैं. अब अगर ये और बिगड़ी तो पूरे इलाके के लिए बुरा होगा.

what does us iran tension mean for india crisis affect how many indians and what will economic loss
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर प्रतिबंध लगाकर दंड देने की बात कही है


संकट की स्थिति पैदा होने पर पश्चिमी एशिया में रह रहे भारतीयों को वापस लौटना पड़ेगा. इससे भारत पर अतिरिक्त दबाव बढ़ेगा. एक आंकड़े के मुताबिक इस इलाके से भारत को 40 बिलियन डॉलर यानी करीब 2,859 करोड़ रुपये की विदेशी पूंजी प्राप्त होती है. भारत के कुल विदेशी जमापूंजी का पचास फीसदी हिस्सा पश्चिमी एशिया से आता है. संकट की स्थिति बनने पर भारत के फॉरेन रिजर्व पर असर पड़ेगा, जो भारत के लिए बिल्कुल ठीक नहीं है.

ईरान में पैदा हुए संकट की वजह से तेल की कीमतें भी बढ़ेंगी. पिछले कुछ दिनों से तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में इजाफा देखा गया है. अगर ये जारी रहता है तो इसका भारत की अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक असर पड़ेगा. भारत अपनी 84 फीसदी तेल की जरूरतें आयात करके पूरी करता है. तेल की कीमतें बढ़ने से भारत को नुकसान उठाना पड़ेगा. इसकी वजह से यहां महंगाई भी बढ़ेगी.

ये भी पढ़ें: 

US-Iran Tension : जब 444 दिनों तक ईरान के चंगुल में छटपटाता रहा था अमेरिका
US-Iran Tension: ईरान से लड़ाई में अमेरिका का दोस्त इजरायल तक क्यों नहीं दे रहा ट्रंप का साथ
Iran Attack on Iraq US Forces Airbase: अमेरिका-ईरान में तनाव का हमारे ऊपर भी पड़ रहा है असर, जानें कैसे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading