ट्रंप को Corona के इलाज के लिए दी गई दवा भारत में, जानिए क्या है इसकी कीमत

कोरोना के इलाज के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल दवा अब देश में भी आ चुकी है- सांकेतिक फोटो (news18 English via Reuters)

कोरोना के इलाज के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल दवा अब देश में भी आ चुकी है- सांकेतिक फोटो (news18 English via Reuters)

कोरोना के इलाज के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल दवा के इमरजेंसी इस्तेमाल को हमारे यहां मंजूरी मिल गई है. कहा जा रहा है कि इससे कोरोना संक्रमितों का अस्पताल जाना 70% तक कम हो जाएगा. हालांकि दवा काफी महंगी है.

  • Share this:

कोरोना की दूसरी लहर के खत्म होने से पहले ही तीसरी लहर की आशंकाएं जताई जा रही हैं. इस बीच कोरोना की दवाओं को लेकर लगातार प्रयोग भी हो रहे हैं. बता दें कि दुनिया के किसी भी देश ने अब तक ये दावा नहीं किया कि उसकी कोई दवा वायरस को पूरी तरह खत्म कर सकती है. दवाओं के साथ प्रयोग के बीच ही भारत में एंटीबॉडी कॉकटेल दवा आई है. ये वो दवा है, जिससे पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को कोरोना से राहत मिली थी. हालांकि इसकी कीमत काफी ज्यादा है.

एंटीबॉडी कॉकटेल दवा अब देश में भी आ चुकी है

कई बड़े अस्पताल इस दवा के बारे में बात करते हुए कह रहे हैं कि इससे काफी फर्क पड़ेगा. ऐसे लोग जिन्हें अस्पताल में जाने की जरूरत पड़ती दिख रही हो, ये दवा लेने के बाद उनमें से 70 प्रतिशत लोगों को अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ती.

अस्पताल जाने से बचा सकने की बात कही जा रही
हॉस्पिटलाइजेशन से बचा सकने की बात काफी बड़ा और राहत देने वाला दावा है, खासतौर पर तब जबकि पिछले दिनों भारी संख्या में मरीजों और उनके परिजनों को अस्पताल में बेड मिलने की समस्या से जूझना पड़ा. लगातार ऑक्सीजन संकट की बात भी सामने आती रही. ऐसे में दवा से अगर अस्पताल जाना टल सके, तो मरीजों और परिजनों के लिए इससे बड़ी राहत कुछ नहीं होगी.

antibody cocktail to treat coronavirus infection
एंटीबॉडी कॉकटेल पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दिया गया था

मिली इमरजेंसी यूज की मंजूरी 



सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) ने हाल ही में एंटीबॉडी कॉकटेल के भारत में इमरजेंसी इस्तेमाल को इजाजत दी है. इससे पहले अमेरिका और कई यूरोपियन देशों में भी दवा के इमरजेंसी उपयोग को अनुमति मिल चुकी है.

ये भी पढ़ें: क्या Kamala Harris का कोरियाई राष्ट्रपति से हाथ मिलाकर पोंछना Germophobia है?

लेकिन यहां भी बड़ा पेंच दवा की भारी कीमत 

एंटीबॉडी कॉकेटल के सिंगल डोज की कीमत सारे टैक्स मिलाकर 59,750 पड़ती है. ऐसे में अगर कई डोज लेने की जरूरत पड़ जाए तो ये कमजोर और मध्यम वर्ग के लिए मुमकिन नहीं. वैसे इस दवा के कीमती होने की बात पहले से ही कही जा रही थी. इसके पीछे वो बात भी थी कि ये दवा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप को दी गई थी और वे जल्दी ही अस्पताल से लौट आए थे.

ये भी पढ़ें: समझिए, क्या होता है अगर आप Fungus खा लें?

ट्रंप पर हुआ था दवा का बढ़िया असर

बता दें कि साल 2020 में अमेरिकी चुनाव से ठीक पहले ट्रंप कोरोना से प्रभावित हुए थे और माना जा रहा था कि इससे उनके चुनाव प्रचार पर भारी असर होगा. हालांकि वे जल्दी ही लौट आए और कामकाज शुरू कर दिया. अब एंटीबॉडी कॉकटेल का प्रचार करते हुए लगातार ट्रंप की फास्ट रिकवरी का तर्क दिया जा रहा है. फिलहाल ये दवा बड़े निजी अस्पतालों में मिलेगी, इससे ये भी अनुमान लग रहा है कि हाल-फिलहाल में दवा की कीमत घटने के कोई आसार नहीं.

antibody cocktail to treat coronavirus infection
एंटीबॉडी कॉकेटल के सिंगल डोज की कीमत सारे टैक्स मिलाकर 59,750 पड़ती है (Photo- moneycontrol )

आखिर ये दवा कैसे काम करती है?

ये दो दवाओं का मिश्रण है, ये दो दवाएं हैं- कासिरिविमाब (Casirivimab) और इम्देविमाब (Imdevimab). इन दोनों दवाओं को एक निश्चित मात्रा में (600-600 mg) तक खास तरह से मिलाया जाता है. इससे जो दवा तैयार होती है, उसे ही फिलहाल कॉकटेल दवा कहा जा रहा है. दवाओं का मिक्सचर होने के कारण ये कॉकटेल कहला रहा है.

ये भी पढ़ें: Explained: क्या है 2-DG दवा, जो कोरोना से मची तबाही के बीच उम्मीद लेकर आई?

वायरस को बढ़ने से रोकती है 

कोरोना संक्रमित और मॉडरेट से ज्यादा ऊपर जाते दिख रहे मरीज को ये दवा दी जाए तो ये वायरस को कोशिकाओं के भीतर प्रवेश से रोकती है. इससे वायरस मल्टीप्लाई नहीं हो पाते और वायरल लोड घटता जाता है. बता दें कि वायरल लोड का अर्थ है संक्रमित के शरीर में वायरस कितनी अधिक मात्रा में मौजूद हैं. अगर वायरल लोड ज्यादा होता है तो मरीज के गंभीर तौर पर बीमार होने का डर ज्यादा रहता है. तो ये दवा सीधे वायरस को नष्ट न करते हुए उसका पनपना रोक देती है, जिससे वो खत्म हो जाता है.

लाखों में है मल्टी-डोज पैक की कीमत 

दवा के दो डोज का जो पैक आता है, उसकी कीमत 1,19,500 रुपए बताई जा रही है. मिंट की एक रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल ये कहा जा रहा है कि हर पैक से दो कोरोना मरीजों का इलाज हो सकता है. हमारे यहां ये दवा सिप्ला कंपनी देगी. फिलहाल कुछ निजी अस्पतालों में इसका पहला बैच आ चुका है और अनुमान है कि जून के मध्य तक दूसरा बैच भी आ जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज