लाइव टीवी

What is CoronaVirus : कोरोना वायरस के लक्षण, जो फेफड़े पर करता है घातक हमला

News18Hindi
Updated: January 24, 2020, 11:26 AM IST
What is CoronaVirus : कोरोना वायरस के लक्षण, जो फेफड़े पर करता है घातक हमला
जर्मनी एक लैब ने इस बीमारी को तलाशा है

What is CoronaVirus, know about symptoms : न्यू कोरोना वायरस अब तेजी से पूरी दुनिया में पैर पसार रहा है. धीरे-धीरे इसे लेकर लोगों में डर भी बढ़ने लगा है. आखिर क्या है ये वायरस, क्या हैं इसके लक्षण, जिसके बाद सावधान होने और डॉक्टर से संपर्क किए जाने की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 24, 2020, 11:26 AM IST
  • Share this:
पूरी दुनिया में चीन की रहस्यमय बीमारी के नाम से चर्चित कोरोना वायरस ने अब तेजी से पैर पसारने शुरू कर दिए हैं. ये बीमारी भारत में भी पहुंच चुकी है. यहां इसके संक्रमण से चार लोगों के मरने की पुष्टि हो चुकी है जबकि दुनियाभर में कुल 17 लोग इससे मर चुके हैं. हालांकि चीन में इससे बीमार लोगों की संख्या हजारों में है लेकिन वो लगातार अपने देश में इससे मरने वाले और बीमार लोगों की संख्या छिपाने में लगा है. जानते हैं कि क्या हैं इस बीमारी के लक्षण.

कोरोना वायरस की फैमिली लंबी चौड़ी है लेकिन इसमें छह वायरस ऐसे हैं जो काफी खतरनाक हैं. निमोनिया भी इसी से फैलता है. लेकिन जो वायरस चीन से पैदा हुआ और अब पूरी दुनिया को चपेट में ले रहा है उसे वैज्ञानिकों ने न्यू कोरोना वायरस या नोवेल कोरोना वायरस नाम दिया है. इसके नमूनों की सबसे पहले पहचान जर्मनी की एक अंतरराष्ट्रीय लैब ने की. इसी वायरस की फैमिली घातक सार्स बीमारी फैलाने की भी जिम्मेदार ठहराई जा चुकी है.

चूंकि ये बीमारी भारत और एशियाई देशों में फैल चुकी है, साथ ही ये मानव से मानव में ट्रांसमीट हो रही है, लिहाजा इसके लक्षण जान लेने बहुत जरूरी हैं. इस बीमारी के शिकार लोगों में शुरुआत में सिरदर्द, नाक बहना, खांसी, गले में ख़राश, बुखार, अस्वस्थता का अहसास होना, छींक आना, अस्थमा का बिगड़ना, थकान महसूस करना आदि होता है. बाद में ये निमोनिया की तरह लगने लगती है. मूलतौर पर ये फेफड़ों पर हमला करती है और इसे नुकसान पहुंचाती है. जिसके बाद बचना मुश्किल हो जाता है.

कितना गंभीर है ये?

कोरोना वायरस के कारण अमूमन संक्रमित लोगों में सर्दी-जुक़ाम के लक्षण नज़र आते हैं लेकिन धीरे-धीरे इसके गंभीर लक्षण दिखना शुरू होते हैं. तब तक ये वायरस फेफड़ों पर घातक हमला कर चुका होता है. उसके बाद मरीज की हालत गंभीर हो जाती है. उसे बचाना मुश्किल होता है.

इस वायरस के फेफड़े पर हमला करने के बाद मरीज का बचना मुश्किल हो जाता है


यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडिनबर्ग के प्रोफ़ेसर मार्क वूलहाउस का कहना है, "जब हमने ये नया कोरोना वायरस देखा तो हमने जानने की कोशिश की कि इसका असर इतना ख़तरनाक क्यों है. यह आम सर्दी जैसे लक्षण दिखाने वाला नहीं है, जो कि चिंता की बात है."क्या ये बीमारी सार्स से मिलती जुलती है
हां, ऐसा ही लगता है. नए वायरस के जेनेटिक कोड के विश्लेषण से पता चलता है कि ये मानवों को संक्रमित करने की क्षमता रखने वाले अन्य कोरोना वायरस की तुलना में 'सार्स' से काफी मिलता जुलता है.

सार्स नाम के कोरोना वायरस को काफ़ी ख़तरनाक माना जाता है. सार्स के कारण चीन में साल 2002 में 8,098 लोग संक्रमित हुए थे. उनमें से 774 लोगों की मौत हो गई थी. उसी साल पूरी दुनिया में सार्स से करीब 3000 लोग मरे थे.

कोरोना वायरस फैमिली का ये सदस्य सार्स की तरह खासा घातक है. सार्स ने वर्ष 2002 में पूरी दुनिया में खासी तबाही मचाई थी


कहां से आया ये वायरस?
यह बिल्कुल नई क़िस्म का वायरस है. जिसकी उत्पत्ति कोरोना वायरस के जरिए ही हुई लेकिन ये चीन के वूहान प्रांत में सबसे पहले उभरा है. माना जाता है कि इसका ताल्लुक किसी जानवर या समुद्री जीव से है. क्योंकि ये वायरस सबसे पहले उन लोगों में नजर आया जो वूहान के एक सी-फूड मार्केट में काम करते हैं या फिर वहां से उन्होंने सी-फूड खरीदकर बनाया.

पहले साइंटिस्ट को लगा था कि इस वायरस का संक्रमण जानवरों से मानव में तो हो सकता है लेकिन मानव से मानव में नहीं लेकिन अब उनकी धारणा गलत साबित हो चुकी है.

कितनी तेज़ी से फैल रहा है ये वायरस?
अब ये बहुत तेजी से दुनियाभर में फैल रहा है. शुरुआत में जब ये चीन में फैल रहा था तब इसकी घातकता का अंदाज नहीं लग पाया. चीन ने काफी हद तक इसे छिपाने की कोशिश की. इसके चलते चीन के पड़ोसी देशों की सरकारें देर से इसको लेकर अलर्ट हुईं.

ये भी पढ़ें :-

बड़ी संख्या में जहरीला पानी पी रहे अमेरिकी, पर्यावरण एजेंसी की रिपोर्ट
बाल ठाकरे: भारतीय राजनीति का इकलौता नेता जिसने कश्मीरी पंडितों की मदद की
वो महारानी, जिसने सैंडल में जड़वाए हीरे-मोती, सगाई तोड़ किया प्रेम विवाह
अमीर सिंगल चीनी महिलाएं विदेशी स्पर्म से पैदा कर रही हैं बच्चे, नहीं करना चाहती शादी
क्या बकवास है LOVE JIHAD का दावा? पुलिस साबित करने में हमेशा रही नाकाम
Health Explainer : जानें शराब पीने के बाद आपके शरीर और दिमाग में क्या होने लगता है
जानें चीन की फैक्ट्री में किस तरह तैयार की जाती हैं एडल्ट डॉल्स
जब अटल सरकार ने दो राज्यों के कलेक्टर्स को दी थी हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता देने की स्पेशल पॉवर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 11:52 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर