Home /News /knowledge /

लोगों के कंप्यूटर पर नजर रखने वाले सरकारी हैकर कैसे बनें?

लोगों के कंप्यूटर पर नजर रखने वाले सरकारी हैकर कैसे बनें?

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

इस जॉब में आपकी शुरुआती कमाई 3.5 लाख से 5 लाख हो सकती है और अगर आप एक्सपर्ट हैं तो आप सालाना 20 लाख रुपये तक भी कमा सकते हैं.

    पिछले एक दशक में भारत में इंटरनेट का विस्तार बेहद तेजी से हुआ है. और उतनी ही तेजी से बढ़ा है साइबर क्राइम. कुछ साल पहले तक हैकर्स को बहुत सीरियसली नहीं लिया जाता था. लेकिन 2013 में देश की कई साइबर सिक्योरिटी फर्म के कराए एक सर्वे में पता चला कि केवल उसी साल भारतीय कंपनियों को 4 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा का घाटा हैकर्स के चलते हुआ.

    ऐसे में अगर आप टेक्नोलॉजी को पसंद करते हैं. और इसी दिशा में करियर बनाना चाहते हैं तो एथिकल हैकिंग आपके लिए काफी पैसे देने वाला करियर ऑप्शन हो सकता है. यह बिल्कुल ऑफ-बीट करियर है लेकिन तेजी से नई जेनरेशन के बीच लोकप्रिय होता जा रहा है.

    एथिकल हैकिंग सीख लेने के बाद आपको प्राइवेट और सरकारी दोनों ही तरह की नौकरियां मिल सकती हैं. प्राइवेट कंपनियां भी अपनी ऑनलाइन सिक्योरिटी को लेकर आजकल बहुत चिंतित हैं. इसके अलावा लगातार बढ़ते ऑनलाइन क्राइम के चलते कई बार सरकारी संस्थाओं को भी एथिकल हैकर्स की जरूरत पड़ती है. एथिकल हैकर्स को कई बार प्राइवेट और सरकारी संस्थाएं फ्रीलांसर के तौर पर भी हायर करती हैं.

    कैसे बन सकते हैं एथिकल हैकर?
    हालांकि देश के प्रमुख कॉलेज अभी एथिकल हैकिंग का कोर्स नहीं कराते. लेकिन देश में कई सारे इंस्टीट्यूट हैकिंग का डिप्लोम कोर्स कराते हैं. बहुत सारे अच्छे हैकर भी हैकिंग की ट्रेनिंग देते हैं.

    एथिकल हैकिंग सीखने के बाद आपको नेटवर्क सिक्योरिटी इंजीनियर, नेटवर्क सिक्योरिटी एडमिनिस्ट्रेटर, एंट्रेंस एक्जामिनर, सिक्योरिटी एडवाइजर जैसी पोस्ट पर काम मिल सकता है.

    2015 में नासकॉम की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत को कम से कम 77 हज़ार एथिकल हैकर्स की जरूरत थी. जब तक उस वक्त तक भारत में ऐसे हैकर मात्र 15,000 ही थे.

    एथिकल हैकिंग में क्या करना होता है?
    एथिकल हैकिंग में किसी संस्था की डाटा सिक्योरिटी की जांच करनी होती है. इसी के चलते आईटी के जानकारों की एक पीढ़ी ही सामने आ रही है जिन्हें व्हाइट हैट हैकर्स या एथिकल हैकर्स कहा जाता है. ये किसी संस्था की ऑनलाइन सिक्योरिटी के लूपहोल्स खोजते हैं और उन्हें सुधारने की कोशिश करते हैं.

    इन्हें प्राइवेट कंपनियों के अलावा, प्राइवेट जासूस, सरकार और बैंक भी साइबर क्राइम की जांच के लिए हायर कर सकते हैं.

    ये काम भी एथिकल हैकर कर सकते हैं-

    एप्लिकेशन टेस्टिंग: ये लोग कंपनी या संस्था के सिस्टम में कमियां खोजते हैं और उन्हें सुधारने का काम करते हैं.

    रिमोट या वार डायलिंग: ओपन एंडेड मॉडम कनेक्शन को हैकर टेस्ट करते हैं जो कि किसी भी नेटवर्क से न जुड़ जाएं

    लोकल नेटवर्क टेस्टिंग: किसी नेटवर्क की टेस्टिंग के लिए भी एथिकल हैकर की मदद ली जाती है. चाहे वह प्रोटोकॉल्स के लिए, सिस्टम डिवाइस के लिए या वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क के लिए ही टेस्टिंग क्यों न हो!

    वायरलेस सिक्योरिटी: वायरलेस सिस्टम में अगर कोई कमी आ रही हो तो इसका पता भी एथिकल हैकर ही लगाते हैं.

    खोई डिवाइस का पता लगाना: किसी डायल अप सॉफ्टवेयर में अगर व्यक्तिगत जानकारी स्टोर की गई है तो इसका पता भी एथिकल हैकर लगा सकता है. ऐसा वह किसी महत्वपूर्ण कर्मचारी के पर्सनल कंप्यूटर का प्रयोग करके कर सकता है.

    सोशल इंजीनियरिंग: ऐसी हैकिंग बहुत कठिन और ख़तरनाक होती है क्योंकि इसमें लोग, महत्वपूर्ण लोग और कर्मचारी भी शामिल होते हैं.

    कितनी होती है हैकर की शुरुआती सैलरी?
    इस करियर में आपको शुरुआती 3.5 से 5 लाख रुपये सालाना तक की शुरुआती सैलरी ही मिल सकती है. लेकिन अगर आईटी से जुड़ी चीजों पर आपकी अच्छी पकड़ हो गई है तो आपको 9 से 20 लाख रुपये तक की सालाना सैलरी भी मिल सकते हैं.

    यह भी पढ़ें: आपके कंप्यूटर पर रहेगी सरकार की नज़र तो क्या होगा आप पर असर?

    Tags: Government jobs, Hack, Internet users, Job and career, Job Search, Online business, Private sector employees, Social media

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर