• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • क्या होते हैं भूचुंबकीय तूफान और क्या होता है पृथ्वी पर उनका असर

क्या होते हैं भूचुंबकीय तूफान और क्या होता है पृथ्वी पर उनका असर

भूचुंबकीय तूफान (Geomagnetic Storm) पृथ्वी के बहुत से तकनीकी तंत्र को प्रभावित कर सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

भूचुंबकीय तूफान (Geomagnetic Storm) पृथ्वी के बहुत से तकनीकी तंत्र को प्रभावित कर सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

पृथ्वी (Earth) पर एक भूचुंबकीय तूफान (Geomagnetic Strom) आने वाला है जिसका असर सैटेलाइट से लेकर विद्युत ग्रिड तक को हो सकता है. लेकिन कम से कम इससे ध्रुवों पर ऑरोर (aurora) जरूर बनेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    पिछले एक दो दिनों से इस बात की आशंका जताई जा रही है कि पृथ्वी पर एक भूचुंबकीय तूफान (Geomagnetic Storm) आने वाला है जो काफी हद तक हमारे सैटेलाइट और विद्युत ग्रिड तक को नुकसान पहुंचा सकता है. अमेरिका के नेशनल ओशियानिक एंड एट्मॉस्फियरिक एडमिनिस्ट्रेशन (NOAA) की स्पेस वेदर प्रिडिक्शन सेंटर (SWPC) ने यह ऐलान किया है. इसके समय को लेकर सटीक स्पष्टता नहीं है, लेकिन यह जरूर बताया गया है कि भूचुंबकीय तूफान सैटेलाइट और विद्युत ग्रिड में उतार चढ़ाव ला सकता है.

    भूचुंबकीय तूफान या सौर तूफान वास्तव में अंतरिक्ष के मौसम को प्रभावित करने वाली बड़ी घटना होते हैं जिसमें सूर्य से अति चुंबकीय कण निकल कर उसके कोरोनल मास इजेक्शन (CME) का कारण बनते हैं. यह सूर्य के बाहरी आवरण पर प्लाज्मा का औरा (Aura) होता है. सीएमई  से ही सौर ज्वाला और सौर पवनें निकलती है जो इस तूफान के प्रमुख तत्वों का निर्माण करती हैं.

    पृथ्वी पर व्यवधान
    इन तूफानों की तीव्रता का आंकलन G-1से G-5 के पैमाने पर होता है जिसमें G-1 सबसे कमजोर किस्म का तूफान माना जाता है और G-5 सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने की क्षमता वाला तूफान माना जाता है. यह तूफान पृथ्वी के मैग्नेटोस्फियर में व्यवधान पैदा कर देता है जब पृथ्वी के आसपास के अंतरिक्ष की सौर पवनों और कणों से अंतरक्रिया होती है.

    विद्युत क्षेत्र के रूप में प्रभाव
    वैज्ञानिकों का मानना है कि सबसे ज्यादा खतरनाक तूफान के पैदा होने के हालात का संबंध सूर्य के सीएमई से ही है. लेकिन सीएमई की घटनाओं से निकलने वाले विकरण और चुंबकीय प्रभाव को पृथ्वी के खुद की मैग्नेटिक फील्ड बेअसर कर देती है. फिर भी ये महीन कण पृथ्वी की सतह पर एक शक्तिशाली विद्युत क्षेत्र जरूर बना देते हैं जो अंतरिक्ष में और धरती पर स्थित कई तकनीक तंत्रों की कार्यप्रणाली को खराब कर सकते हैं.

    Earth, Magnetic field of Earth, Geomagnetic Storm, Solar Storm, Electricity Grid, Satellites, aurora

    सूर्य के कोरोनल मास इजेक्शन (CME) के कारण ही पृथ्वी पर ऐसे भूचुंबकीय तूफान आते हैं. (फाइल फोटो)

    क्या क्या हो सकते हैं इसके असर
    इस तूफान का असर पृथ्वी की विद्युत और से संबंधित गतिविधियों पर हो सकता है. इसमें अंतरिक्ष में काम कर रहे सैटेलाइट के इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से लेकर पृथ्वी की इलेक्ट्रिक ग्रीड का कामकाज तो प्रभावित हो ही सकता है. इसके अलावा रेडियो संचार के साथ इंटरनेट भी प्रभावित हो सकता है.

    जानिए कैसे एक हो गए सौरमंडल के ग्रहों की कक्षा के तल

    162 साल पहले भी
    पृथ्वी पर ये तूफान कई घंटों से लेकर कई दिनों तक असर डाल सकते हैं. बताया जाता है कि इसेस पहले 1859 में एक और दो सितंबर को भूचुंबकीय प्रभाव से बहुत ही चमकीला और स्पष्ट ऑरोर (aurora) बना था और उस समय पूरी दुनिया का टेलीग्राफ सिस्टम नाकाम हो गया था. कुछ टेलीग्राफ संचालकों ने तो बिजली के झटके आने तक की भी जानाकरी दी थी.

    Space, Earth, Magnetic field of Earth, Geomagnetic Storm, Solar Storm, Electricity Grid, Satellites, aurora

    पृथ्वी की मैग्नेटिक फील्ड (Magnetic Field of Earth) इस तूफान को बहुत प्रभावित करता है.
    (प्रतीकात्मक तस्वीर: @NASA_Marshall)

    कहां और कितना असर
    एसडब्ल्यूपीसी का कहना है कि यह तूफान G2 स्तर का तूफान होगा और 60 डिग्री भूचुंबकीय अक्षांश से लेकर ध्रुवों तक प्रमुख रूप से प्रभावी होगा, लेकिन इसके असर की तीव्रता ज्यादा नहीं होगी. फिर भी यह तय है कि इससे चमकीला ऑरोर का दिखना तय है.

    ब्रह्माण्ड की शुरुआत के समय में भी थी Dark Energy की मौजूदगी- शोध

    यह तूफान कब आएगा इस पर खबरें अलग अलग रहीं. पहले बताया गया कि यह तूफान 26 सितंबर को आएगा, लेकिन अब बताया जा रहा है कि अंतरिक्ष दर्शियों को 27 और 28 सितंबर की रात को इसका असर आसामान में देखने को जरूर मिलेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज