• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • आखिर क्या थी जवाहरलाल नेहरू और एडविना माउंटबेटन के रिश्ते की सच्चाई?

आखिर क्या थी जवाहरलाल नेहरू और एडविना माउंटबेटन के रिश्ते की सच्चाई?

भारत के पहले प्रधानमंत्री नेहरू के साथ एडविना माउंटबेटन (तस्वीर साभार: विकिमीडिया कॉमंस)

भारत के पहले प्रधानमंत्री नेहरू के साथ एडविना माउंटबेटन (तस्वीर साभार: विकिमीडिया कॉमंस)

सरोजिनी नायडु की बेटी पद्मजा नायडु भी नेहरू की करीबी थीं.

  • Share this:
इसमें कोई शक नहीं कि जवाहरलाल नेहरू और लेडी एडविना माउंटबेटन के बीच आत्मीय रिश्ते थे. दोनों निःसंदेह एक दूसरे से प्यार करते थे. हां, इन रिश्तों को कहां तक आगे ले जाकर देखा जाए, उसे लेकर जरूर भ्रम हैं. एडविना भारत के आखिरी अंग्रेज वायसराय लार्ड माउंटबेटन भारत की आजादी के कुछ महीनों पहले इस उपमहाद्वीप को ब्रिटिश साम्राज्य से आजादी देने के लिए दिल्ली भेजे गए थे.

उसके बाद नेहरू से लगातार मुलाकातों के बीच उनकी पत्नी एडविना और नेहरू में एक आत्मीयता पनपी. जो भारत की आजादी के बाद तब तक कायम रही, जब तक नेहरू जिंदा रहे. वो लगातार उन्हें पत्र लिखते रहे. ब्रिटेन में उनसे मुलाकात होती रही. एडविना भी सालभर में एक बार जरूर भारत आती थीं. प्रधानमंत्री के तीनमूर्ति स्थित आवास में सरकारी मेहमान के रूप में ठहराई जाती थीं.

उनकी बेटी पामेला माउंटबेटन तक स्वीकार करती हैं कि नेहरू और उनकी मां एक दूसरे को पसंद करते थे. कुछ बरसों पहले कुछ भारतीय पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने स्वीकार किया, दे वर इन लव (यानि वो प्यार में थे) लेकिन वो आगे कहती हैं लेकिन उनमें कोई शारीरिक संपर्क नहीं था. उनके बीच भावनाओं और गहरे प्यार को समझना लोगों के लिए मुश्किल होगा. दोनों काफी एकाकी थे. नेहरू जी की पत्नी का देहावसान हो चुका था. माउंटबेटन खासे व्यस्त रहते थे. एडविना इंट्रोवर्ट चरित्र वाली महिला थीं. उनका लोगों से संवाद बहुत ज्यादा नहीं था. लेकिन जब उनमें और नेहरू जी में बातचीत होने लगी तो ये भी हैरानी की ही बात थी. भारत छोड़ने के बाद भी वो दोनों सालभर में एक-दो बार मिल लेते थे.

जब नेहरू इंग्लैंड जाते तो उनके हैंपशायर स्थित एस्टेट में मेहमान होते थे. दोनों के बीच खूब पत्राचार हुआ. ये बात लार्ड माउंटबेटन को पता थी. एडविना के निधन के बाद उनकी बेटी ने इन पत्रों को पढ़ा. बकौल उनके ये बहुत मैच्योर ढंग से लिखे गए पत्र थे.

नेहरू जी के सचिव केएफ रूस्तमजी की डायरी के संपादित अंश किताब के रूप में प्रकाशित हुए. उसमें उन्होंने भी एडविना और नेहरू के प्यार पर चर्चा करते हुए लिखा. दोनों अभिजात्य थे. दोनों की रुचियां परिष्कृत थीं. दोनों एक दूसरे को काफी पसंद करते थे. नेहरू जी ब्रिटेन से प्रभावित थे और एडविना भारत के प्रति.

नेहरू और अन्य महिलाओं के प्रति उनके अनुराग को लेकर भी काफी कुछ लिखा और कहा गया. रूस्तम जी लिखते हैं कि उन्हें महिलाओं का साथ यकीनन भाता था. लेकिन आमतौर पर वो महिलाएं प्रखर औऱ प्रखर मेघा वाली थीं. सरोजिनी नायडु की बेटी पद्मजा उनके करीब थीं. उनका सेंस ऑफ ह्यूमर गजब का था. वह उनकी अच्छी दोस्त थीं और नेहरू जी का काफी ख्याल रखती थीं.

इंडियन समरः द सीक्रेट हिस्ट्री ऑफ एंड ऑफ एन एम्पायर के लेखक अलेक्स वॉन टेजमन ने कुछ समय पहले एक इंटरव्यू में कहा, एक बार पद्मजा ने गुस्से में एडविना की तस्वीर फेंक दी. हालांकि बाद में दोनों अच्छी दोस्त बन गईं. टेजमन के अनुसार, नेहरू जी को बुद्धिमान महिलाएं पसंद थीं. रूस्तम जी की डायरी में देश की प्रसिद्ध नृत्यांगना मृणालिनी साराभाई का जिक्र है, जो बाद में देश के प्रसिद्ध वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा की पत्नी बनीं. वह भी उनके काफी करीब रहीं.

नेहरू के बाद में सचिव बने एमओ मथाई ने रिमिनिसेंस ऑफ नेहरू में बनारस की किसी महिला का जिक्र किया. शायद वह श्रृद्धा माता थीं. मथाई का कहना है कि वह किसी प्लेबॉय की तरह थे. जब मथाई ने रिमिनिसेंस ऑफ नेहरू लिखी तो उसमें उन्होंने एक अध्याय खासतौर पर नेहरू के जीवन में आई महिलाओं पर था. बाद ये अध्याय उन्होंने खुद ही प्रकाशित होने से रोक दिया. इस अध्याय की जगह प्रकाशक ने एक टिप्पणी लिखी कि चूंकि ये अध्याय लेखक का नितांत व्यक्तिगत अनुभव था और इसे उन्होंने बिना किसी निरोध के डीएच लारेंस शैली में लिखा था, जिसे लेखक ने खुद ही आखिरी समय में प्रकाशन से रोक लिया.

श्रृद्धा माता का जिक्र बाद में खुशवंत सिंह ने भी अपनी किताब में किया. वह उनसे जब मिले तो श्रृद्धा माता ने उनसे नेहरू से करीबी का दावा किया. बताया जाता है कि नेहरू ने उन्हें कुछ पत्र लिखे थे, जिसका खुलासा हो गया था. नेहरू के बारे में इस तरह की बातें लंबे समय से चर्चाओं में हैं. आमतौर पर उनके जिन करीबी या साथ काम करने वालों ने किताबें लिखीं, उसमें संकेतों में नेहरू के महिला प्रेम की ओर संकेत भी किया. हालांकि टेजमन कहते हैं कि बेशक वह रुमानी थे लेकिन सबसे नहीं.

यह भी पढ़ें: चर्च की नन कैसे बन गई दुनिया की चर्चित पॉर्न स्टार

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज