भारत पाक तनाव: क्या करतारपुर कॉरिडोर पर भी पड़ेगा असर?

करतारपुर कॉरीडोर (kartarpur corridor) सिखों के लिए सबसे पवित्र जगहों में से एक है. करतारपुर साहिब सिखों के प्रथम गुरु, गुरुनानक देव जी का निवास स्‍थान था.

News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 9:15 PM IST
भारत पाक तनाव: क्या करतारपुर कॉरिडोर पर भी पड़ेगा असर?
गुरुद्वारा करतारपुर साहिब (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 9:15 PM IST
भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में नया मोड़ आने के आसार बन गए हैं क्योंकि एक तरफ भारत ने ​आर्टिकल 370 के प्रावधान (Article 370) खत्म करते हुए जम्मू और कश्मीर (Jammu & Kashmir) राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांट दिया है, तो दूसरी तरफ, भारत के इस कदम से बौखलाए पाकिस्तान ने भारत के साथ राजनयिक, कूटनीतिक एवं व्यापारिक रिश्तों में कटौती करने या उन्हें निलंबित करने की दिशा में विचार करते हुए धमकी दे दी है. ऐसे में सवाल ये खड़ा हो गया है कि अगर भारत पाकिस्तान के रिश्तों में दरार आती है, तो क्या करतारपुर कॉरिडोर पर भी कोई असर पड़ेगा.

पढ़ें : इन 10 पाकिस्तानी चीज़ों को भारत में किया जाता है बेहद पसंद

पिछले साल ही करतारपुर कॉरिडोर चर्चा में था जब सिख श्रद्धालुओं के लिए इसका रास्ता तैयार करवाया गया था और इस गुरुद्वारे तक सिख यात्रा कर सकें, इसके प्रबंध किए गए थे. भारत पाकिस्तान के बीच चल रहे हालिया तनाव के बीच जानिए कि पाकिस्तान की सीमा में स्थित करतारपुर कॉरिडोर, करतारपुर साहिब का क्या महत्व है.

क्यों इतना खास है करतारपुर साहिब?

करतारपुर साहिब सिखों के लिए सबसे पवित्र जगहों में से एक है. करतारपुर साहिब सिखों के प्रथम गुरु, गुरुनानक देव जी का निवास स्‍थान था. गुरू नानक ने अपनी जिंदगी के आखिरी 17 साल 5 महीने 9 दिन यहीं गुजारे थे. उनका सारा परिवार यहीं आकर बस गया था. उनके माता-पिता और उनका देहांत भी यहीं पर हुआ था. इस लिहाज से यह पवित्र स्थल सिखों के मन से जुड़ा धार्मिक स्थान है.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

बाद में उनकी याद में यहां पर एक गुरुद्वारा बनाया गया. इसे ही करतारपुर साहिब के नाम से जाना जाता है. यह पाकिस्‍तान के नारोवाल जिले में है, जो पाक पंजाब मे आता है. यह जगह लाहौर से 120 किलोमीटर दूर है. जहां पर आज गुरुद्वारा है.
Loading...

गुरुनानक ने रावी नदी के किनारे एक नगर बसाया और यहां खेती कर उन्होंने 'नाम जपो, किरत करो और वंड छको' (नाम जपें, मेहनत करें और बांट कर खाएं) का फलसफा दिया था. इतिहास के अनुसार गुरुनानक देव की तरफ से भाई लहणा जी को गुरु गद्दी भी इसी स्थान पर सौंपी गई थी. जिन्हें दूसरे गुरु अंगद देव के नाम से जाना जाता है और आखिर में गुरुनानक देव ने यहीं पर समाधि ली थी.

यह गुरुद्वारा रावी नदी के पास है और डेरा साहिब रेलवे स्‍टेशन से इसकी दूरी चार किलोमीटर है. यह गुरुद्वारा भारत-पाकिस्‍तान सीमा से सिर्फ तीन किलोमीटर दूर है. गुरुद्वारे भारत की तरफ से साफ नजर आता है. पाकिस्‍तानी अथॉरिटीज इस बात का ध्‍यान रखती हैं कि इसके आसपास घास न जमा हो पाए और वह समय-समय पर इसकी कटाई-छटाई करते रहते हैं ताकि इसे देखा जा सके.

Guru Granth Sahib, Punjab, india pakistan, pakistan, pakistan government, home ministry, Rajnath Singh, navjot singh siddhu, imran khan, guru nanak jayanti, eid e milad, bank holiday in november 2018, bank holidays 2018, 21 november 2018, 21 november 2018 holiday, eid, karthika pournami 2018 date, id e milad, today festival, kartik purnima, eid 2018, guru nanak, purnima in november 2018, guru nanak dev ji, tomorrow holiday, guru teg bahadur, guru nanak jayanti celebration 2018, barawafat 2018, kartik purnima 2018 date, 23 november 2018, ganga snan 2018 date, 21 november holiday, 22 november 2018, करतारपुर, गुरूनानक देव, गुरुनानक जयंती, 550वां प्रकाश पर्व, पाकिस्तान, रावी नदी, कार्तिक पूर्णिमा, नवंबर, नवजोत सिंह सिद्धू, गुरूनानकदेव
करतारपुर साहिब पाकिस्‍तान के नारोवाल जिले में है.


दूरबीन से किए जाते हैं दर्शन
भारतीय सीमा की तरफ बसे श्रद्धालु सीमा पर खड़े होकर ही इसका दर्शन करते हैं. मई 2017 में अमेरिका स्थित एक एनजीओ इकोसिख ने गुरुद्वारे के आसपास 100 एकड़ की जमीन पर जंगल का प्रस्‍ताव भी दिया था. पटियाला के महाराजा ने दी रकम गुरुद्वारे की वर्तमान बिल्डिंग करीब 1,35,600 रुपए की लागत से तैयार हुई थी. इस रकम को पटियाला के महाराज सरदार भूपिंदर सिंह की ओर से दान में दिया गया था. बाद में साल 1995 में पाकिस्‍तान की सरकार ने इसकी मरम्‍मत कराई थी और साल 2004 में यह काम पूरा हो सका.

लेकिन कई बार इसके करीब स्थित रावी नदी इसकी देखभाल में कई मुश्किलें भी पैदा करती है. साल 2000 में पाकिस्‍तान ने भारत से आने वाले सिख श्रद्धालुओं को बॉर्डर पर एक पुल बनाकर वीजा फ्री एंट्री देने का फैसला किया था. साल 2017 में भारत की संसदीय समिति ने कहा था कि आपसी संबंध इतने बिगड़ चुके हैं कि किसी भी तरह का कॉरीडोर संभव नहीं है.

लेकिन पिछले साल गृह मंत्रालय ने कहा था कि इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्रालय पाकिस्तान में स्थित करतारपुर साहिब को देखने के लिए श्रद्धालुओं के लिए एक हाई पावर दूरबीन लगाएगा, जबकि रेल मंत्रालय एक ट्रेन चलाएगा जो सिख गुरू से संबंधित स्थानों से गुजरेगी.

सिद्धू के पाकिस्तान जाने के बाद हुई थी चर्चा
करतारपुर साहिब का मुद्दा पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के एक दावे के बाद चर्चा में आ गया था. उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने उनसे कहा है कि पाकिस्तान करतारपुर साहिब गालियारा खोल सकता है.

दरअसल, सिद्धू अपने दोस्त क्रिकेटर से सियासत में आए इमरान खान के प्रधानमंत्री पद पर शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए अगस्त में पाकिस्तान गए थे और वतन लौटने पर उन्होंने उक्त दावा किया था.

ये भी पढ़ें :
भारत से व्यापारिक रिश्ते तोड़कर क्या पाकिस्तान ने अपने पैर पर मारी कुल्हाड़ी?
जानिए लद्दाख कैसे बना था भारत और कश्मीर का हिस्सा
First published: August 7, 2019, 9:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...