होम /न्यूज /ज्ञान /

कुत्ते कब इंसान के साथी बने थे, हिमयुग के DNA ने दिया जवाब

कुत्ते कब इंसान के साथी बने थे, हिमयुग के DNA ने दिया जवाब

जानवरों के इतिहासे में कुत्ते (Dogs) इंसान के दोस्त कब इसकी जानकारी स्पष्ट नहीं थी.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

जानवरों के इतिहासे में कुत्ते (Dogs) इंसान के दोस्त कब इसकी जानकारी स्पष्ट नहीं थी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

जानवरों (Animals) के इतिहास में कुत्ते (Dogs) इंसान के दोस्त (Human Friends) कब बने इसकी स्पष्ट जानकारी नहीं है. वैज्ञानिकों को बर्फ में दबे हिमयुग के जंगली भेड़ियों के अवशेष और उनके DNA हासिल किए और उनके जीनोम सीक्वेंसिंग कर पता लगाया कि कुत्ते वंश के दृष्टिकोण से जंगली भेड़ियों से अलग कब हुए थे और उनका घरेलूकरण कब शुरू हुआ था

अधिक पढ़ें ...

    वैसे तो घोड़े, बिल्ली और अन्य जानवर भी इंसान के पालतू जानवरों की श्रेणी मे आते हैं. लेकिन कुत्तों की बात ही अलग है. लेकिन कुत्ते हमेशा ही इंसान के दोस्त (Dogs became friends of Humans) नहीं थे. जानवरों का इतिहास बताता है कि जंगली भेड़ियों से अलग होने के बाद ही कुत्तों का घरेलूकरण (Domestication) होना शुरू हो गया था, लेकिन यह कब और कैसे हुआ यह अभी तक रहस्य ही बना हुआ था. जीनोम सीक्वेंसिंग (Genome Sequencing) के जरिए नए अध्ययन में हिमयुग से बर्फ में दबे जंगली भेड़ियों के अवशेष और उनके DNA से पता चला है कि कैसे जंगली भेड़िए इंसानों के दोस्त होते चले गए.

    पुरातन भेड़ियों के जीनोम सीक्वेंसिंग
    यूके के फ्रांसिस कर्क इंस्टीट्यूट के अनुवाशिकविद एंडर्स् बर्गस्ट्रॉम ने बताया कि वैज्ञानिकों ने इस प्रोजेक्ट के जरिए पुरातन भेड़ियों के जीनोम की सीक्वेंसिंग की संख्या में भारी मात्रा में इजाफा किया जिससे शोधकर्ताओं को भेड़ियों के वंश के इतिहास की विस्तार से जानकारी मिल सकी और वे कुत्ते के उदय के समय का पता लगा सके.

    भेड़ियों के वंश इतिहास में कुत्ते
    बर्गस्ट्रॉम ने बताया कि वंश के इतिहास की इस तस्वीर में कुत्तों को सही जगह पर रखने के प्रयास में शोधकर्ताओं ने पाया कि कुत्ते अपना वंशइतिहास कम से कम दो अलग भेड़ियों की जनसंख्या से लेकर कर आए हैं. इनमें से एक पूर्वी स्रोत है जिसका सभी कुत्तो में योगदान है और एक अलग पश्चिमी स्रोत है जिसका कुछ कुत्तों में योगदान है.

    धुंधला कालक्रम
    आज के, छोटे चिहुआहुआ से लेकर ताकतवर मास्टिफ, सभी पालतू कुत्ते एक ही प्रजाति के हैं, वह है कैनिस फैमिलियारिस है. वहीं भेड़ियों के सभी वंशज आज के भूरे भेड़ियों (कैनिस लूपस) के साझेदार हैं.  लेकिन इनका कालक्रम बहुत ही धुंधला और विवादित रहा है. कई वैज्ञानिकों ने सुझाया है कि यह प्रक्रिया एक लाख साल से भी ज्यादा पहले के समय से शुरू हुई थी. लेकिन इस पर भी विवाद है.

    Environment, Evolution, History, Domestication of Dogs, Genome Sequencing, Grey Wolf, Dogs, Dogs became Human Friends, Ice Age,

    भेड़ियों (Wolf) से अलग होने के बाद ही कुत्तों के इंसान के लिए पालतू होने का सिलसिला शुरू हो सका. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    कब हुई शुरुआत
    हालिया अध्ययन में बर्गस्ट्रॉम और उनका साथियों ने 100 से 32000 साल के बीच के कुत्तों का डीएनए को शामिल किया और पाया कि कुत्ते 11 हजार साल पहले अलग हुए थे और उनके अलग होने की प्रक्रिया इससे पहले ही शुरू हुई होगी. माना जाता रहा कि कुत्तों का घरेलूकरण यानि भेड़ियों से अलग होने की प्रक्रिया करीब 40 से 20 हजार साल पहले शुरू हुई होगी और यह भी कि ऐसा दुनिया के अलग अलग हिस्सों में हुआ होगा.

    यह भी पढ़ें: ठंडे खून के जानवर और लंबी उम्र में क्या है संबंध?

    जीनोम की तुलना
    यह शोध 72 पुरातन भेड़ियों के जीनोम पर आधारित है, जिसमें से 66 को हाल ही में विश्लेषण के लिए स्कैन किया गया था करीब एकलाख साल पुराने हैं. इसमें यूरोप, साइबेरिया और उत्तर अमेरिका के भेड़ियों की करीब 30 हजार पीढ़ियों को शामिल किया है. इनकी तुलना आधुनिक भेड़ियों, पुरातन और आधुनिक कुत्तों और कोयोट्स जैसे अन्य कैनिड प्रजातियों के 68 जीनोम से तुलना की.

    Environment, Evolution, History,  Domestication of Dogs, Genome Sequencing, Grey Wolf, Dogs, Dogs became Human Friends, Ice Age,

    अध्ययन में यह भी पता चला भेड़िये (Wolf) साइबेरिया में ही नष्ट होने के बजाय दूसरे गर्म इलाकों में चले गए थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    साइबेरिया के अवशेष
    इन नमूनों में कुछ साइबेरिया के स्थायी तुषार में 18 हाजर साल से दबे डोगोर कब  और 32 हजार साल से दबे भेड़िया का सिर भी शामिल था. जीनोम ने खुलासा किया कि आधुनिक और पुरातन दोनों ही कुत्ते, यरोप की तुलना में एशिया में रहने वाले पुरातन भेड़ियों के ज्यादा नजदीकी संबंधी थे. इससे पता चला कि घरेलूकरण और विविधिकरण पश्चिम की जगह पूर्व में शुरू हुआ होगा.

    यह भी पढ़ें: क्या है समुद्री ड्रैगन के इतना अजीब होने के पीछे का रहस्य

    नेचर में प्रकाशित इस अध्ययन से शोधकर्ता पुरातन भेड़ियों के बारे में और जानकारी भी हासिल कर सके. उन्हें यह भी पता लगा कि बहुत से म्यूटेशन और उससे संबंधित बदलाव सभी भेड़ियों और फिर कुत्तों में भी देखने को मिले. अब शोधकर्ता यह जानने का प्रयास कर रहे हैं वास्तव में कुत्ते भेड़ियों कि किस प्रजाति से अलग होना शुरू हुए थे.

    Tags: Environment, Research, Science

    अगली ख़बर