कोविड-19 की नई लहर के चलते किन देशों में कैसे हैं लॉकडाउन के हाल?

न्यूज़18 क्रिएटिव

न्यूज़18 क्रिएटिव

लॉकडाउन का साल (One Year of Lockdown) : भारत में कोरोना वायरस संक्रमण (Covid-19) के चलते साल भर बाद महाराष्ट्र (Maharashtra) समेत कुछ राज्यों में फिर लॉकडाउन जैसे चिंताजनक हालात हैं, तो और देश भी साल भर बाद कैसे उसी मोड़ पर खड़े दिख रहे हैं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 9:22 AM IST
  • Share this:
भारत में एक तरफ, होली का त्योहार (Holi Festival) करीब है तो दूसरी तरफ, कोरोना वायरस की नई लहर के मद्देनज़र महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे कई राज्यों में गंभीर या आंशिक लॉकडाउन के हालात बन रहे हैं. इसी तरह जर्मनी (Germany) में नए केसों की संख्या बढ़ रही है तो ईस्टर के त्योहार (Easter Festival) के मद्देनज़र एंजेला मर्केल (Angela Merkel) सरकार ने नए सिरे से अप्रैल के मध्य तक सख्त लॉकडाउन लगाए जाने की कवायद की है. लेकिन जर्मनी अकेला नहीं है, जहां ऐसे हालात बन रहे हैं.

यूरोप में मुश्किल यह भी है कि एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन के कारण ब्लड क्लॉटिंग की शिकायतें पाए जाने के बाद इस वैक्सीन का इस्तेमाल कुछ देशों को रोकना भी पड़ा. एक्सपर्ट मान रहे हैं कि यूरोप में कोविड-19 की तीसरी लहर का प्रकोप जारी है, जिसके चलते कई देशों में प्रतिबंधों की सूरत बन रही है. देखिए कहां क्या हालात हैं.

ये भी पढ़ें : भारत में आज के ही दिन पहली बार बनी थी गैर कांग्रेसी सरकार

जर्मनी में सख्त लॉकडाउन
सरकार ने तीन हफ्तों के सख्त प्रतिबंध की घोषणा करते हुए ईस्टर के त्योहार पर पूरी तरह छुट्टी का माहौल रखे जाने की कवायद की. मर्केल सरकार ने क्षेत्रीय नेताओं के साथ बातचीत के बाद यह ऐलान करते हुए कहा कि हालात बेहद गंभीर हैं और जर्मनी महामारी के जानलेवा प्रकोप से एक बार और सामना नहीं करना चाहेगा. बताया गया है कि 1 से 5 अप्रैल के बीच लॉकडाउन सबसे ज़्यादा सख्त होगा, दुकानें नहीं खुलेंगी और कोई कार्यक्रम नहीं हो सकेगा.

covid-19 lockdown, corona lockdown, lockdown worldwide, where is lockdown, lockdown guideline, कोविड-19 लॉकडाउन, कोरोना लॉकडाउन, लॉकडाउन कहां है, लॉकडाउन गाइडलाइन
जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल


मार्च के महीने में अब तक जर्मनी में आंशिक लॉकडाउन किया गया था और जहां संक्रमण कम था, उन इलाकों में म्यूज़ियम, स्टोर्स आदि स्थान खुले थे, लेकिन सीमित ढंग से. बीते कुछ हफ्तों में जब सख्त लॉकडाउन के बारे में आदेश हुए, लोगों ने सख्त लॉकडाउन का विरोध भी किया और पुलिस के साथ प्रदर्शनकारियों की मुठभेड़ें भी हुई थीं.



ये भी पढ़ें : सरकार ने कोविशील्ड वैक्सीन के डोजों के बीच इंटरवल क्यों बढ़ाया?

फ्रांस में तफरीह पर बैन

पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री जीन कैस्टेक्स ने पैरिस व अन्य प्रमुख स्थानों पर एक महीने लंबे लॉकडाउन का ऐलान किया था. फ्रेंच सरकार के फैसले के मुताबिक स्कूल और ज़रूरी दुकानें इस दौरान खुलेंगी यानी यह लॉकडाउन पहली लहर के समय लगे लॉकडाउन जितना सख्त नहीं होगा. नए लॉकडाउन की गाइडलाइनों में कहा गया है कि लोग अपने घर से 10 किलोमीटर के दायरे में व्यायाम के लिए बाहर जा सकेंगे लेकिन गैर ज़रूरी घूमने फिरने पर पूरी तरह बैन रहेगा.

इटली में ईस्टर को लेकर सतर्कता

पिछले हफ्ते ही इटली पहला यूरोपीय देश बना, जिसने कोरोना की नई लहर के चलते राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन लगा दिया. कोरोना के मामलों के बढ़ते ही करीब साल भर पहले के बुरे अनुभवों के चलते यह फैसला किया गया. खास तौर से ईस्टर वीकेंड के दौरान 3 से 5 अप्रैल के बीच पूरा इटली पूरी तरह बंद रहेगा. हालात ये हैं कि इटली में मार्च की शुरूआत से ही हर हफ्ते 22,000 नए केस और 360 मौतें हो रही हैं. नई गाइडलाइनों के मुताबिक जिन इलाकों में 1 लाख की आबादी पर 250 से ज़्यादा नए केस एक दिन में होंगे, उन्हें रेड ज़ोन बना दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें : भारत की वो कंपनी, जो कोरोना वैक्सीन के लिए हर मिनट बना रही है 3000 सीरिंज

पोलैंड में अप्रैल तक तालाबन्दी

राष्ट्रपति आंद्रेज़ेज ड्यूडा ने संसद में खुले शब्दों में कहा कि हालात बहुत खराब हैं और बुनियादी ज़रूरत यही है कि संक्रमण की रोकथाम की जाए. इसके बाद पिछले हफ्ते ही देश भर में सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान कर दिया. मॉल, स्वीमिंग पूल, सिनेमाघरों, होटलों व गैर ज़रूरी स्टोरों के लिए सीमित तौर पर खुलने की गाइडलाइन दी गई है और पहली क्लास से बच्चों की डिजिटल लर्निंग व्यवस्था को 9 अप्रैल तक जारी रखने के निर्देश हैं.

covid-19 lockdown, corona lockdown, lockdown worldwide, where is lockdown, lockdown guideline, कोविड-19 लॉकडाउन, कोरोना लॉकडाउन, लॉकडाउन कहां है, लॉकडाउन गाइडलाइन
ईस्टर को लेकर यूरोपीय देशों में प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं.


हंगरी और यूक्रेन में चिंता बढ़ी

इस यूरोपीय देश में एक बार फिर अपील की जा रही है कि वर्क फ्रॉम होम को ही बढ़ावा दिया जाए. 8 मार्च से 7 अप्रैल तक यहां लॉकडाउन के चलते प्राइमरी तक स्कूल बंद कर दिए गए, प्राइवेट हेल्थकेयर को छोड़कर कई सेवाएं इस महीने के आखिर तक बंद की गईं. हंगरी में पार्क आदि खुले हैं लेकिन जिम और फिटनेस सेंटरों को बंद किया गया है. इसी तरह, यूक्रेन में सिर्फ फूड और मेडिकल मार्केट खुले रहने की इजाज़त दी गई है.

ये भी पढ़ें : कानू सान्याल पुण्यतिथि: नक्सलबाड़ी आंदोलन के नेता का क्या था चीन कनेक्शन?

अमेरिका में क्या हैं हालात?

कहीं कुछ प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं, तो कहीं नही. मियामी बीच पर हज़ार से ज़्यादा लोग गिरफ्तार किए गए क्योंकि उन्होंने लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन किया. लेकिन यहां राष्ट्रीय स्तर पर या सख्त लॉकडाउन की घोषणा नहीं हुई है जबकि संक्रमण खासा बना हुआ है. इसी तरह ब्राज़ील में भी लोकल स्तर पर लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध हैं लेकिन देश भर के लिए कोई नीति नहीं है. इन दोनों ही देशों में वैक्सीन कार्यक्रम पर फोकस है, सतर्कता के लिए प्रतिबंधों पर नहीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज