कौन हैं गुप्ता बंधु, जो औली में शाही शादी के कारण चर्चाओं में हैं

गुप्ता ब्रदर्स 24 साल पहले सहारनपुर से बिजनेस अवसर की तलाश में दक्षिण अफ्रीका गए थे. वो दक्षिण अफ्रीका के टॉप फाइव धनी लोगों में शुमार होते थे

Sanjay Srivastava | News18Hindi
Updated: June 17, 2019, 6:03 PM IST
कौन हैं गुप्ता बंधु, जो औली में शाही शादी के कारण चर्चाओं में हैं
गुप्ता ब्रदर्स एक साल पहले तक दक्षिण अफ्रीका के टॉप फाइव धनी लोगों में शुमार होते थे. (फाइल फोटो)
Sanjay Srivastava
Sanjay Srivastava | News18Hindi
Updated: June 17, 2019, 6:03 PM IST
दक्षिण अफ्रीका में बसे हुए सहारनपुर के गुप्ता बंधुओं के परिवार की औली में होने वाली शादी चर्चाओं में है. 200 करोड़ की इस महंगी शादी के लिए जिस तरह इंतजाम किए जा रहे हैं, उससे किसी की भी आंखें फटी की फटी रह सकती हैं. हेलिकॉप्टर से मेहमानों को लाने ले जाने के अलावा शानो-शौकत के जितने इंतजाम हो सकते हैं, वो सब इस शादी में नजर आएंगे.

कौन हैं ये गुप्ता बंधु, जो देश की सबसे महंगी शादी करने जा रहे हैं
गुप्ता भाई दक्षिण अफ्रीका के शीर्ष कारोबारियों में हैं. एक साल पहले तक वहां उनकी तूती बोलती थी लेकिन अब हालत डावांडोल है. वो दक्षिण अफ्रीका के टॉप फाइव धनी लोगों में शुमार होते थे. पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा की सरकार उनके इशारों पर नाचती थी. उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति के परिवारजनों को अपने यहां ऊंची नौकरियां दे रखी थीं. बाद में गुप्ता बंधुओं पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे. इसके चलते राष्ट्रपति जैकब जुमा को भी पद से इस्तीफा देना पड़ा.

गुप्ता ब्रदर्स करीब 25 साल पहले सहारनपुर से बिजनेस अवसरों की तलाश में दक्षिण अफ्रीका गए थे. फिर उनका कारोबार वहां ऐसा फैला कि वो वहां के टॉप टेन धनी कारोबारी परिवारों में शुमार होने लगे. वैसे उन पर हमेशा जुमा और उनके कई मंत्रियों के नजदीकी होने और सियासी फायदे से कारोबार में आगे बढ़ाने के आरोप लगते रहे. दक्षिण अफ्रीका की नई सरकार अब उनके खिलाफ कई मामलों की जांच करा रही है. फिलहाल दक्षिण अफ्रीका का उनका कारोबार डगमगाया हुआ है. ये भी खबरें हैं कि वो वहां से अपना कारोबार समेटना चाहते हैं.

200 करोड़ की शादी में बस एक हफ़्ता... पंडाल लगने की जगह को लेकर विवाद

कौन हैं गुप्ता ब्रदर्स
ये तीन भाई हैं. अजय (50 साल), अतुल (47 साल) और राजेश (44 साल). इन सभी का जन्म उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हुआ. तीनों की पढ़ाई-लिखाई सहारनपुर में ही हुई. तीनों ने वहां के जेवी जैन कॉलेज से डिग्री ली. बड़े भाई अजय ने बीकॉम किया और फिर सीए का कोर्स किया. अतुल ने बीएससी की और कंप्यूटर हार्डवेयर और असेंबलिंग का कोर्स किया. छोटे भाई राजेश ने बीएससी की. उन्होंने शुरू में पिता के कारोबार में हाथ बंटाया और फिर दक्षिण अफ्रीका चले गए.
Loading...

गुप्ता ब्रदर्स अतुल गुप्ता और अजय गुप्ता (फाइल फोटो)


पिता का सहारनपुर में था कारोबार
पिता शिवकुमार की सहारनपुर में राशन की दुकानें थीं. साथ ही वो दिल्ली में खोली गई अपनी कंपनी एसकेजी मार्केटिंग के जरिए मेडागास्कर और जंजीबार से मसालों का निर्यात करते थे. साथ ही उनकी एक और कंपनी गुप्ता एंड कंपनी टेलकम पाउडर में इस्तेमाल होने वाले सोपस्टोर पाउडर का वितरण करती थी. उनके पास सहारनपुर के रानी बाजार में एक बड़ा मकान था. वह अपने जमाने में सहारनपुर में उन चुनिंदा लोगों में थे, जिनके पास कार थी.

उत्तराखण्ड में शादी के लिए साउथ अफ्रीका के इस व्यापारी ने किराए पर ली हैं दुकान और ढाबे

कैसे दक्षिण अफ्रीका पहुंचे
जब दक्षिण अफ्रीका ने विदेशी निवेश के लिए दरवाजे खोले तो बीच वाले भाई अतुल गुप्ता को पिता शिवकुमार ने वहां भेजा. उन्हें लगता था कि आने वाले समय में दक्षिण अफ्रीका में काफी अवसर बनने वाले हैं. अतुल ने कंप्यूटर का कोर्स किया था. उन्होंने वहां एक कंपनी खोली, जिसने कंप्यूटर की असेंबलिंग और मार्केटिंग, डिस्ट्रीब्यूशन और ब्रांडिंग शुरू की. इस कंप्यूटर को उन्होंने सहारा कंप्यूटर के नाम से बाजार में उतारा. ये कंपनी चल निकली. जल्दी ही सीए का कोर्स पूरा करके बड़े अजय भी वहां पहुंच गए. जब अतुल वहां बिजनेस की शुरुआत कर रहे थे तो पिता ने उनके दक्षिण अफ्रीकी खाते में भारत से 1.2 मिलियन रेंड ट्रांसफर किए. बाद में कुछ और पैसे भेजे गए.

दक्षिण अफ्रीका के वित्त मंत्री नेने, जिन्हें गुप्ता ब्रदर्स के साथ नजदीकियों के आरोप में इस्तीफा देना पड़ा है


कैसे बढ़ा बिजनेस
94 में गुप्ता ब्रदर्स ने 1.4 मिलियन रेंड से जो कंपनी करेक्ट मार्केटिंग शुरू की थी. वो महज तीन साल में 97 मिलियन रेंड की कंपनी में बदल गई. जिसके 10 हजार कर्मचारी थे. इसके बाद उनका बिजनेस बढ़ता ही चला गया. 1994 में ही पिता के निधन के बाद करीब-करीब पूरा परिवार दक्षिण अफ्रीका चला गया. मां अंगूरी को छोड़कर सभी ने दक्षिण अफ्रीका की नागरिकता ले ली.

भारत आया दुनिया का सबसे तेज़ AI सुपर कंप्यूटर, मिनटों में करेगा घंटों का काम

अब क्या है स्थिति
दक्षिण अफ्रीका में गुप्ता बंधुओं का बड़ा कारोबार है. कई कंपनियां हैं. जोहानिसबर्ग और केपटाउन में सैकड़ों एकड़ में फैला आलीशान विला है. वो अब कंप्यूटिंग, माइनिंग, एयर ट्रैवेल, एनर्जी, टेक्नोलॉजी और मीडिया के बिजनेस में हैं.

गुप्ता परिवार अब दक्षिण अफ्रीका से बाहर रह रहा है, उन्होंने अपना काफी कारोबार दूसरे देशों में शिफ्ट कर दिया है (फाइल फोटो)


क्यों गुप्ता ब्रदर्स के खिलाफ बना माहौल
गुप्ता बंधुओं के खिलाफ मार्च 2018 में अचानक तब हवा बहने लगी, देश के पूर्व उप वित्त मंत्री ने मसोबीसी जोनास ने दावा किया कि गुप्ता बंधुओं ने ही मौजूदा पहले फाइनेंस मिनिस्टर को पद से हटाकर नेने को इस पद पर बिठाने का भरोसा दिया था.

जानें क्या होता है राज्य का विशेष श्रेणी दर्जा, जो लगातार मांग रहे हैं बिहार आंध्र और ओडिशा

इसके बाद जुमा सरकार संकट में आ गई. देश में गुप्ता ब्रदर्स के खिलाफ हवा बहने लगी. अजय पर ऐसे ही आरोप पहले भी लग चुके हैं. उन्होंने 2010 में भी एक सांसद को मंत्री बनवाने का आश्वासन दिया था. गुप्ता फैमिली पर दक्षिण अफ्रीका में बिजनेस हितों के लिए सरकार के अंदर मन मुताबिक भर्तियां करने का आरोप लगता रहा है.
सरकार को उंगली पर नचाने का आरोप

गुप्ता ब्रदर्स पर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा से यारी गांठकर फायदे लेने के आरोप हैं. कहा जाता है कि वो जुमा सरकार में मनचाही नीतियां बनवाते रहे हैं. आरोप ये भी है कि उन्होंने सरकार के कुछ प्रोजेक्ट्स में बड़े पैमाने पर घालमेल करके फंड को इधर से उधर किया है.




दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा से गुप्ता ब्रदर्स के पारिवारिक संबंध बताए जाते थे (फाइल फोटो)


जैकब जुमा से पारिवारिक संबंध
जब गुप्ता बंधुओं ने कंप्यूटर कंपनी शुरू की तभी उनके जैकब जुमा से पारिवारिक संबंध हो गए. बाद में जुमा देश के राष्ट्रपति बने. जुमा की पत्नी बोगी नगमा जुमा गुप्ता परिवार की माइनिंग कंपनी में डायरेक्टर, बेटी दुदुजेल जुमा सहारा कंप्यूटर में डायरेक्टर और बेटा दुदुजेन जुमा गुप्ता परिवार की ओकबे इनवेस्टमेंट में डायरेक्टर थे. दक्षिण अफ्रीका में भी गुप्ता परिवार के खिलाफ गुस्से की खबरें हैं. उनके खिलाफ वहां प्रदर्शन भी हो चुके हैं




दुनिया की वो जगहें, जहां तापमान 70 डिग्री के ऊपर पहुंच जाता है

क्या गुप्ता ब्रदर्स अफ्रीका से कारोबार शिफ्ट कर रहे हैं


अभी ऐसा तो नहीं हुआ है लेकिन पिछले दिनों दक्षिण अफ्रीका के मीडिया में ये चर्चाएं थीं कि तीनों भाई कारोबार को दुबई शिफ्ट कर सकते हैं. कुछ महीने पहले जब अजय गुप्ता के बड़े बेटे की शादी तुर्की में हुई तो साउथ अफ्रीका के मीडिया में ये कयास तक लगा लिये गए थे कि वो दक्षिण अफ्रीका से अपने प्राइवेट विमान के जरिए दुबई चले गए हैं.वैसे उन्होंने अपने एक भाई राजेश और कुछ भतीजों को दुबई में शिफ्ट कर दिया है, जहां वो एक बड़ा बिजनेस आधार तैयार कर रहे हैं. हालांकि गुप्ता ब्रदर्स का कहना था कि दुबई और आस्ट्रेलिया में वो लंबे समय से कारोबार कर रहे हैं


दुनियाभर में प्रापर्टी
गुप्ता ब्रदर्स के पास अगर दुबई के सबसे महंगे इलाके में आलीशान आशियाना है तो कई देशों में भी प्रॉपर्टी. पिछले कुछ सालों में उन्होंने दुबई, आस्ट्रेलिया, तुर्की और कई अन्य देशों में अपने व्यवसाय को जबरदस्त ढंग से फैलाया है.

दक्षिण अफ्रीका में जोहांसबर्ग के आलीशान बंगले में जबरदस्त सुरक्षा रहती है (फाइल फोटो)


सहारनपुर से जुड़ाव बरकरार
तीनों गुप्ता बंधु बेशक दो तीन दशक से दक्षिण अफ्रीका में रह रहे हों लेकिन सहारनपुर आते जाते रहते हैं. वहां बड़ी पार्टियों का आयोजन करते हैं. सहारनपुर में उनके दो मकान हैं-एक रानी बाजार में और दूसरा मिशन कंपाउंड में. उनमें कोई रहता तो नहीं लेकिन गार्ड्स का पहरा लगातार रहता है.

मलेशिया के लग्जरी फ्लैट में रहता है भारत में वांटेड जाकिर नाइक, सत्ता से हैं नजदीकियां

सहारनपुर में बनवा रहे हैं भव्य मंदिर
गुप्ता ब्रदर्स पिता की याद में सहारनपुर में अक्षरधाम की तर्ज पर भव्य मंदिर शिवधाम बनवा रहे हैं. स्टेट बैंक कालोनी में उन्होंने एक वृद्धाश्रम शुरू किया था, जो बदस्तूर चल रहा है. कुछ साल पहले तक उनके पिता शिव कुमार गुप्ता के नाम पर सहारनपुर में एक जूनियर क्रिकेट टूर्नामेंट भी हुआ करता था.

सहारनपुर में गुप्ता ब्रदर्स भव्य शिव धाम मंदिर बनवा रहे हैं (फाइल फोटो)


साल 2002 में तो गुप्ता बंधुओं ने भारत दौरे पर आई पूरी दक्षिण अफ्रीका टीम को विशेष तौर पर सहारनपुर बुलवा लिया था. साल 2009 में जब ललित मोदी इंडियन क्रिकेट की सबसे ग्लैमरस लीग आईपीएल को दक्षिण अफ्रीका ले गए थे तो उसकी काफी हद तक व्यवस्था गुप्ता बंधुओं ने ही की थी.

दक्षिण अफ्रीका में गुप्ता बंधुओं की प्रमुख कंपनियां
-ओकबे रिसोर्स एंड एनर्जी
-टिगेटा एक्सप्लोरेशन एंड रिसोर्सेस
-शिवा यूरेनियम माइन
-वेस्टडॉन इन्वेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड
-जेआईसी माइनिंग सर्विसेज एंड ब्लैक एज एक्सप्लोरेशन
-दि न्यूज एज न्यूजपेपर(टीएनए मीडिया प्राइवेट लिमिटेड)
-अफ्रीकन न्यूज नेटवर्क

जानें पांच साल में केवल एक बार ही क्यों कपड़े खरीदता था नीरव मोदी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 17, 2019, 3:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...