कौन हैं चीफ जस्टिस मोहंती जो पायलट समेत 19 विधायकों के मामले पर सुनाएंगे फैसला

कौन हैं चीफ जस्टिस मोहंती जो पायलट समेत 19 विधायकों के मामले पर सुनाएंगे फैसला
जयपुर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश इंद्रजीत मोहंती

पूरे देश की निगाहें जयपुर हाईकोर्ट (Jaipur High Court) पर लगी हैं, जो आज कांग्रेस के सचिन पायलट (Sachin Pilot) समेत 19 विधायकों की योग्यता के सवाल पर फैसला सुनाएंगे. कौन हैं वो दो जज. इसमें एक चीफ जस्टिस इंद्रजीत मोहंती (chief justice of jaipur high court Indrajit Mahanty) हैं और दूसरे जस्टिस प्रकाश गुप्ता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 24, 2020, 10:21 AM IST
  • Share this:
पूरे देश में चर्चा का केंद्र बिंदू बने सचिन पायलट (Sachin Pilot) समेत 19 विधायकों की अयोग्यता से जुड़ा फैसला आज जयपुर हाईकोर्ट (Jaipur High Court) करेगा. ये फैसला चीफ जस्टिस इंद्रजीत मोहंती (chief justice of jaipur high court Indrajit Mahanty) और जस्टिस प्रकाश गुप्ता (Justice Prakash Gupta) की बेंच करेगी. जानते हैं कौन हैं चीफ जस्टिस इंद्रजीत मोहंती, जो ये फैसला सुनाएंगे, जिन पर देश की निगाहें लगी होंगी.

न्यायाधीश इंद्रजीत मोहंती की ही बेंच ने पायलट और अन्य विधायकों को 24 जुलाई तक राहत दी थी. अब वो इस बारे में फैसला करेंगे कि राजस्थान विधानसभा के स्पीकर सीपी जोशी ने जो नोटिस इन 19 विधायकों को दलबदल विरोधी कानून के तहत भेजी है, वो कहां तक कानून सम्मत है.

मोहंती करीब एक साल पहले राजस्थान हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने थे. उन्हें राज्यपाल कलराज मिश्र ने राजभवन में पद की शपथ दिलाई थी. वह राज्य के 37वें मुख्य न्यायाधीश हैं.



ये भी पढे़ं - राम मंदिर दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मंदिर होगा, कौन से हैं इससे बड़े दो मंदिर?
पहले बॉम्बे हाईकोर्ट में सीनियर जज थे
चीफ जस्टिस के तौर पर मोहंती ने मुख्य न्यायाधीश एस रविन्द्र भट्ट का स्थान लिया था. इससे पहले वह बॉम्बे हाईकोर्ट के सीनियर जज के पद पर कार्यरत थे. उनका जन्म 11 नवंबर, 1960 को ओडिसा के कटक में हुआ. उन्होंने पश्चिम बंगाल के दार्जलिंग से स्कूली शिक्षा लेकर दिल्ली यूनिवर्सिटी से वकालत की पढ़ाई की है.

जयपुर हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस इंद्रजीत मोहंती राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र के साथ


ओडिसा हाईकोर्ट में कर चुके हैं प्रैक्टिस
इसके बाद जस्टिस मोहंती ने इंग्लैंड की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से एलएलएम की परीक्षा पास की. वह 1989 से 2006 तक उड़ीसा बार काउंसिल के सदस्य रहे. 30 मार्च 2006 को ओडिसा हाईकोर्ट में जज बने. मोहंती 14 नवंबर 2018 को बॉम्बे हाईकोर्ट में जज नियुक्त हुए थे. उनके पिता रंजीत मोहंती ओडिसा. जब उन्होंने वर्ष 1984 में स्टेट बार काउंसिल में खुद को वकालत के लिए पंजीकृत कराया तो पिता के तहत ही प्रैक्टिस के लिए कराया था.

ये भी पढे़ं - हिंदी समेत किन पांच भाषाओं को सीखना सबसे कठिन मानती है दुनिया?

इन कानूनी मामलों के एक्सपर्ट वकील रहे हैं
पिता के निधन के बाद 1989 में उन्होंने खुद की वकालत शुरू की. वो कामर्शियल लॉ, आर्बिट्रेशन, टेक्सेशन, सिविल एण्ड क्रिमिनल, रिट और सर्विस लॉ के एक्सपर्ट वकील रहे हैं. उन्होंने ना केवल ओडिसा हाईकोर्ट बल्कि सुप्रीम कोर्ट में भी प्रैक्टिस की है. लंदन में कई आरबिट्रेशन के मामलो में नियमित तौर पर पैरवी भी की है.

जयपुर हाईकोर्ट, जहां सचिन पायलट और अन्य विधायकों के अयोग्यता के मामले में फैसला सुनाया जाएगा


गोगोई की अध्यक्षता वाली कॉलेजियम ने लगाई थी मुहर
पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता में कॉलेजियम की बैठक में जस्टिस मोहंती के नाम पर मुहर लगाई गई थी. जस्टिस मोहंती देश के उन चुनिंदा जजों में शामिल हैं, जिनकी ख्याति उनकी वकालत के साथ सामाजिक सेवाओं के लिए भी जानी जाती है.

दूसरे जज हैं प्रकाश गुप्ता 
वहीं इस मामले की सुनवाई कर रही जयपुर हाईकोर्ट की खंडपीठ के दूसरे जज प्रकाश गुप्ता कई सालों से हाईकोर्ट में जज रहे हैं. वो राज्य से जुड़े कई अहम फैसले सुना चुके हैं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading