लाइव टीवी

मास्क पहनने को लेकर गलत जानकारी दे रहा है WHO?

News18Hindi
Updated: March 29, 2020, 7:29 PM IST
मास्क पहनने को लेकर गलत जानकारी दे रहा है WHO?
मास्क पहनने को लेकर WHO के निर्देशों पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं.

CoronaVirus: WHO ने कहा है- अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको सिर्फ उसी वक्त मास्क पहनने की जरूरत है जब आप किसी कोरोना संक्रमित का खयाल रख रहे हों'.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 29, 2020, 7:29 PM IST
  • Share this:
जब दुनिया में कोई महामारी फैलती है तब सभी देश सही जानकारी के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का रुख करते हैं. कोरोना के समय में भी दुनिया ऐसा ही कर रही है. सभी देश कोरोना के खिलाफ लड़ाई में WHO से मिल रही जानकारियों के मुताबिक ही कदम उठा रहे हैं. लेकिन अब जो खबरें आ रही हैं उनके मुताबिक कोरोना के खिलाफ जंग में WHO का मास्क विरोधी एप्रोच गलत साबित हो रहा है.

WHO पर क्या दी गई है जानकारी
इस अंतरराष्ट्रीय संस्था ने अपने वेबसाइट पर कोरोना से बचाव के लिए कई निर्देश दिए हैं. इसके एक सेक्शन ‘When and How to Use Masks’में लिखा है-'अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको सिर्फ उसी वक्त मास्क पहनने की जरूरत है जब आप किसी कोरोना संक्रमित का खयाल रख रहे हों'.

लेकिन अगर WHO की इस जानकारी से इतर देखा जाए तो पता चलेगा कि कई रिसर्च में दावा किया गया है कि सामान्य मास्क भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कारगर साबित हो सकते हैं. अगर रिसर्च को छोड़ भी दें तो हॉन्गकॉन्ग, मंगोलिया, दक्षिण कोरिया और ताइवान जैसे देशों ने कोरोना पर काबू पाने के लिए DIY जैसे सामान्य मास्क का उपयोग किया.







क्या है एक्पर्ट्स की राय
चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के डायरेक्टर जनरल जॉर्ज गाओ के मुताबिक सामान्य मास्क भी संक्रमण से बचने में आपकी मदद कर सकता है. कम से कम ये किसी संक्रमित व्यक्ति की ड्रॉपलेट आपके शरीर में पहुंचने से तो रोकता ही है. साथ ही उन्होंने कहा कि एयरोप्लेन या ट्रेन जैसी जगहों पर मास्क काफी प्रभावशाली साबित होते हैं. जरूरी नहीं है कि बचाव के लिए कोई बेहद महंगा मास्क ही पहना जाए.

साल 2103 के एक अध्ययन के मुताबिक घरों में मौजूद कपड़ों का इस्तेमाल भी मास्क बनाने में करके वायरस से बचा जा सकता है. ऐसा पाया गया कि टीशर्ट के कपड़े को परतों में इस्तेमाल कर एक बेहतर मास्क बनाया जा सकता है.

क्या है ऑक्सफोर्ड की रिसर्च
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की भी एक रिसर्च कहती है कि एक सामान्य सूती कपड़े से अगर मुंह और नाक को ढक कर रखा जाए तो ये वायरस संक्रमण को रोकती है. हालांकि ये स्टडी कोरोना के संदर्भ में नहीं है लेकिन वायरस संक्रमण पर बात करती है. वास्तविकता में इस समय जिन अस्पतालों में एन 95 मास्क खत्म हो गए हैं वहां भी घरों में बने हुए मास्क का ही इस्तेमाल हो रहा है.

MASK

एक डॉक्टर का कहना है कि सबसे पहली बात तो ये है कि मेडिकलकर्मियों के लिए मास्क उपलब्ध नहीं हैं. दूसरी बात, अगर वो सक्रमित हुए तो दूसरों को भी संक्रमित कर सकते हैं. तीसरी बात मास्क पहनना आपको उन लोगों से बचा सकता है जो संक्रमित होने के बाद भी घूम रहे हैं.

ये भी देखें:

कोरोना टेस्‍ट पॉजिटिव आने पर भी जरूरी नहीं है आप संक्रमित हों

कोरोना वायरस के खिलाफ महायुद्ध में ये 7 महारथी दिलाएंगे जीत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 29, 2020, 6:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading