कौन हैं शकुंतला देवी, जिनका ट्रेलर यूट्यूब पर मचा रहा है धूम, फिल्म है तैयार

कौन हैं शकुंतला देवी, जिनका ट्रेलर यूट्यूब पर मचा रहा है धूम, फिल्म है तैयार
गणित कैलकुलेशन की जादूगर माने जाने वाली शकुंतला देवी

विद्या बालन (Vidya Balan) की फिल्म शकुंतला देवी का ट्रेलर (Shakuntala Devi Trailer) यूट्यूब पर रिलीज होते ही ट्रेंड करने लगा. जल्दी ही हम इस मूवी को अमेजन प्राइम पर देख सकते हैं. जानिए कौन थीं मैथ विजार्ड शकुंतला देवी, जो जीते-जी एक किवंदती बन गईं. वो इतनी तेजी से कठिन से कठिन कैलकुलेशन को सेकेंडों में करती थीं कि लोग चकित रह जाते थे

  • Share this:
विद्या बालन (Vidya Balan) अभिनीत फिल्म शकुंतला देवी का ट्रेलर (Shakuntala Devi Trailer) यूट्यूब (YouTube) पर रिलीज किया गया.  इसके बाद वो वहां ट्रेंड करने लगा. जिसने भी इसे देखा है निश्चित तौर पर वो शकुंतला देवी को जानने के बारे में उत्सुक हो रहा होगा कि वो कौन थीं. आखिर उन्होंने ऐसा क्या कर दिया कि उन पर फिल्म बन गई. मोटे तौर पर ये कहा जा सकता है कि शकुंतला देवी वो शख्सियत थीं, जिन्होंने गणित की गणना में कंप्युटर होने की प्रसिद्धी हासिल कर ली थी. पूरी दुनिया उनकी खास प्रतिभा की कायल हो गई थी. हालांकि उनकी जीवन तमाम उतार-चढ़ाव से भरा हुआ था.

शकुंतला देवी को कितना भी बड़ा कैलकुलेशन दे दिया जाता था, वो सेकेंडों में पलक झपकते हल कर देती थीं. लोग दंग रह जाते थे.

शकुंतला देवी ने उस जमाने में मैथ की वंडर गर्ल के तौर पर तहलका मचाना शुरू किया था जब दुनिया में कंप्यूटर के बारे में कोई नहीं जानता था. ऐसे कैलकुलेटर भी तैयार नहीं हुए थे कि जो बड़ी से बड़ी संख्या का सेकेंडों में गुणा, भाग, घटाना या जोड़ना कर दें. शकुंतला जब ये काम तुरंत जुबानी कर दिखाती थीं तो लोग चकित रह जाते थे.



बचपन में ही प्रतिभा आ गई थी सामने 
किसी भी यांत्रिक सहायता के बिना जटिल गणितीय समस्याओं को सुलझाने वाली उनकी असाधारण प्रतिभा बचपन से ही सामने आने लगी थी. उन्हें ये प्रतिभा स्वाभाविक तौर पर हासिल हुई थी. इसीलिए जब कंप्यूटर का प्रचलन शुरू हुआ तो उन्हें मानव कंप्यूटर का नाम भी दे दिया गया.

ये भी पढ़ें - कैसे बिना पंख फड़फड़ाए 160 किमी तक उड़ान भर सकता है यह पक्षी

03 साल की उम्र से गजब की मेमोरी
शकुंतला देवी का जन्म 4 नवंबर, 1939 को बेंगलुरु में हुआ था. उनके पिता सर्कस कलाकार थे. उन्होंने बेटी को ताश के पत्तों के जरिए गणित की दुनिया से रू-ब-रू कराया. शकुंतला में बचपन से ही गजब की स्मरण शक्ति थी. तीन साल की कम उम्र में वो गणनाओं का प्रदर्शन करने लगीं. उनकी इस क्षमता से लोग दंग रह जाते थे.

पिता बेटी को लेकर हिट प्रोग्राम्स करने लगे

शकुंतला देवी को बचपन में कोई औपचारिक शिक्षा नहीं मिली थी. ताश खेलते हुए उन्होंने कई बार अपने पिता को हराया. तब पिता को बेटी की खास क्षमता के बारे में पता चला. फिर पिता ने सर्कस छोड़ शकुंतला देवी पर सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित करना शुरू कर दिया. इससे शकुंतला को लोकप्रियता मिलनी शुरू हो गई.

गूगल ने शकुंतला देवी के जन्मदिन पर डूडल बनाकर उन्हें खास सम्मान दिया था, ये डूडल जाहिर करता है कि कितनी खास प्रतिभाशाली थीं


तब उन्होंने तुरंत जवाब देकर चकित कर दिया
शकुंतला देवी उस समय पहली बार खबरों की सुर्खियों में आईं जब बीबीसी रेडियो के एक कार्यक्रम के दौरान इनसे अंकगणित का एक जटिल सवाल पूछा गया.उसका इन्होंने तुरंत ही जवाब दे दिया. इस घटना का सबसे मजेदार पक्ष यह था कि शकुंतला देवी ने जो जवाब दिया था वह सही था जबकि रेडियो प्रस्तोता का जवाब गलत था.

ये भी पढ़ें - करोड़ों साल पहले पेंग्विन की तरह विशाल पक्षी रहा करते थे उत्तरी गोलार्ध में

ज्योतिष की जानकार भी थीं
धीरे-धीरे, कुछ वर्षों में शकुंतला की स्मरण शक्ति और कैलकुलेटिंग स्किल मजबूत होते गए. वो जटिल मानसिक अंकगणित की विशेषज्ञ बन गईं. उनकी असाधारण क्षमताओं और प्रतिभाओं का सार्वजनिक प्रदर्शन मैसूर विश्वविद्यालय और अन्नामलाई विश्वविद्यालय से शुरू हुआ. फिर दुनियाभर के संस्थानों में फैल गया.

एक कुशल गणितज्ञ होने के साथ ही वो ज्योतिष शास्त्र की जानकार, सामाजिक कार्यकर्ता (एक्टिविस्ट) और लेखक भी थीं. उन्होंने कुछ किताबें भी लिखीं-द जॉय ऑफ नंबर्स’, ‘एस्ट्रोलॉजी फॉर यू’, ‘परफेक्ट मर्डर’ और ‘द वर्ल्ड ऑफ होमोसेक्सुअल्स’.

पिछली सदी की तारीख और दिन भी पूछो तो तुरंत जवाब
शकुंतला देवी कैसी भी जटिल गणितीय समस्याओं को सुलझाने में निपुण थीं. उनकी प्रतिभाओं में जटिल एल्गोरिद्म (लॉजिक) और वैदिक गणित के साथ, जोड़, गुणा, भाग, वर्गमूल और घनमूल की गणनाएं शामिल थीं. वो पिछली शताब्दी से पूछी गई तारीख के दिन और सप्ताह को बताने के लिए एक पल भी नहीं लेती थीं.

शकुंतला देवी उस समय के कुछ सबसे तेज गति वाले कंप्यूटरों को भी हरा सकती थीं. शकुंतला की अनेक उपलब्धियों के बीच, 1995 में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में उनका नाम होना उनकी सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि रही.

शकुंतला देवी 70 और 80 के दशक में कंप्यूटर से भी तेज गणनाएं करके दिखा देती थीं


विवाह एक आईएएस से हुआ लेकिन चल नहीं पाया
शकुंतला देवी का विवाह वर्ष 1960 में कोलकाता के एक बंगाली आईएएस अधिकारी परितोष बनर्जी के साथ हुआ. इनका वैवाहिक संबंध बहुत दिनों तक नहीं चल सका. किसी कारणवश वर्ष 1979 में वो पति से अलग हो गईं.

वर्ष 1980 में वो अपनी बेटी के साथ बेंगलुरु लौट आईं. यहां वो सेलिब्रिटीज और राजनीतिज्ञों को ज्योतिष का परामर्श देने लगीं. अपनी जिंदगी के अंतिम दिनों में शकुंतला बहुत कमजोर हो गई थीं.

ये भी पढ़ें - आखिर कैसे उड़ पाते हैं ये Flying Snakes, वैज्ञानिकों ने लगा लिया पता

शकुंतला देवी का लंबी बीमारी के बाद हृदय गति रुक जाने और गुर्दे की समस्या के कारण 21 अप्रैल, 2013 को बेंगलुरु (कर्नाटक) में 83 वर्ष की अवस्था में निधन हो गया.

शकुंतला देवी का वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं था. वो पति से अलग हो गईं. बाद में उनका झुकाव ज्योतिष की ओर हुआ और एक ज्योतिषी के रूप में उन्होंने खासी धाक जमाई


वो बातें जिससे उन्होंने धाक जमा दी
- जनवरी 1977 में, दक्षिणी मेथोडिस्ट यूनिवर्सिटी, डलास, टेक्सास में शकुंतला देवी ने केवल 50 सेकेंड में संख्या 201 की 23वीं घात/रूट (20123) का सही उत्तर ‘546372891’ निकालकर सबके होश उड़ा दिए. उन्होंने 13,000 निर्देशों वाले उस समय के सबसे तेज कंप्यूटर ‘यूनिवेक’ को भी अपने कौशल से मात दी थी, जिसने यह गणना करने में 62 सेकेंड का समय लगाया था.

- 18 जून 1980 को, शकुंतला देवी ने 13 अंकीय दो संख्याओं 7,686,369,774,870 तथा 2,465,099,745,779’ का गुणा मानसिक रूप से करके अपनी प्रतिभा साबित कर दी, इसके लिए इन्हें लंदन के इंपीरियल कॉलेज के कंप्यूटर विभाग में चयनित किया गया था. उन्होंने केवल 28 सेकेंड में इसका सही उत्तर 18,947,668,177,995,426,462,773,730 दिया था.

- शकुंतला केवल एक मिनट के अंदर 332812557 का घनमूल बता सकती थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading