कौन हैं वाईवी सुब्बा रेड्डी, जिन्होंने यस बैंक से मोटी रकम निकाल बालाजी को बचाया

तिरुपति तिरुमला देवस्थानम के चेयरमैन वाईवी सुब्बा रेड्डी
तिरुपति तिरुमला देवस्थानम के चेयरमैन वाईवी सुब्बा रेड्डी

यस बैंक के डांवाडोल होने के बाद दक्षिण भारत में अचानक एक शख्स चर्चाओं में आ गया है. वो हैं वाईवी सुब्बा रेड्डी, जिन्होंने कुछ महीने पहले भगवान बालाजी के 1300 करोड़ रुपये यस बैंक के खाते से निकलवाए थे

  • Share this:
अगर देश में यस बैंक की खस्ता हालत और पैसा निकालने के लिए परेशान होते ग्राहकों की खबरें हैं तो उसी के बीच एक खबर दक्षिण भारत में छाई हुई है कि किस तरह कुछ ही महीने पहले तिरुपति के बालाजी यानी भगवान वेंकटश्वरा स्वामी की 1300 करोड़ रुपये की रकम बीमार हो गए यस बैंक से निकाल ली गई. इस फैसले के पीछे थे वाईवी सुब्बा रेड्डी.

कौन हैं वाईवी सुब्बा रेड्डी. वो तिरुमला तिरुपति देवस्थानम यानी टीटीडी के चेयरमैन हैं. टीटीडी ही वो ट्रस्ट है, जो तिरुपति तिरुमला में भगवान बालाजी की सारी गतिविधियों को संचालित करता है. इस पूरे इलाके पर उसी का नियंत्रण है. आमतौर पर इस धार्मिक शहर की ज्यादातर गतिविधियां उसी के इशारों पर चलती हैं.

बालाजी का पैसा निकालने के फैसला सही निकला
टीटीडी देश के सबसे धनी धार्मिक ट्रस्ट में है. जिस तरह कुछ ही महीनों में तिरुपति के भगवान बालाजी के 1300 करोड़ रुपये यस बैंक से निकाले गए, उससे हर कोई चकित है कि कैसे भगवान बालाजी के इस ट्रस्ट ने सही समय पर सही फैसला लिया. हालांकि इस फैसले में सबसे बड़ी भूमिका वाईवी सुब्बा रेड्डी की रही है.
सुब्बा रेड्डी पर विवाद भी हुआ था


उन्होंने हाल ही में टीटीडी के चेयरमैन का पदभार संभाला है. इसको लेकर विवाद भी रहा. वो पूर्व सांसद हैं और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन के रिश्तेदार भी.

कुछ समय पहले जब सुब्बा रेड्डी ने तिरुपति तिरुमला देवस्थानम के चेयरमैन का पद संभाला, तब काफी विवाद भी हुआ


चार प्राइवेट बैंकों में हैं बालाजी का हजारों करोड़ का धन 
तिरुपति तिरुमला देवस्थानम के पास हजारों करोड़ रुपये हैं. हर साल धार्मिक चंदे से उसे सैकड़ों करोड़ रुपये मिलते हैं. वो इस रकम को चार प्राइवेट बैंकों में जमा करता है, जिसमें यस बैंक भी है. जब आंध्र प्रदेश में तेलुगुदेशम का शासन था, तब से ही भगवान बालाजी को आया नकद चढ़ावा इन्हीं बैंकों में जमा होता रहा है.

बालाजी का पैसा निकालने पर विरोध भी हुआ
कुछ महीने पहले जब यस बैंक की हालत डांवाडोल होने की खबरें आने लगीं तो सुब्बा रेड्डी ने इस बैंक की हालत का विश्लेषण किया. इसके बाद अपने अधिकारियों को निर्देश दिया कि यस बैंक से टीटीडी की सारी रकम निकाल ली जाए. हालांकि इसका उस समय विरोध भी हुआ. उन पर ऐसा नहीं करने का खासा दबाव था. इसके बाद भी उन्होंने ऐसा किया.

सुब्बा रेड्डी ने कई महीने पहले यस बैंक की स्थिति का विश्लेषण किया और बालाजी का धन निकालने का फैसला किया. तब उन पर ऐसा नहीं करने का काफी दबाव भी डाला गया


अब पूरे देश के सामने यस बैंक के गहरे वित्तीय संकट में आ जाने की खबरें आ रही हैं. रिजर्व बैंक ने यस बैंक के बोर्ड को भंग करके खुद उसका नियंत्रण संभाल लिया है और बैंक कस्टमर्स को निर्देश दिया गया है कि वो 03 अप्रैल तक बैंक खाते से केवल 50000 की रकम ही निकाल सकते हैं.

जगनमोहन के अंकल हैं सुब्बा रेड्डी
हालांकि जब वाईवी सुब्बा रेड्डी को मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने तिरुपति का चेयरमैन बनाया था तो ये आरोप लगे थे कि सुब्बा रेड्डी खुद भी ईसाई हैं, इसलिए उन्हें ये जिम्मेदारी नहीं दी जा सकती. हालांकि बाद में सुब्बा रेड्डी ने इसका खंडन किया और बताया कि वो ईसाई नहीं हैं. दरअसल जगनमोहन के परिवार ने काफी समय पहले ईसाई धर्म स्वीकार कर लिया था और उनकी गहरी आस्था अब इस धर्म में है.

आरोप लग रहा था कि वह ईसाई हैं
रिश्ते में सुब्बा उनके अंकल हैं. खासकर उनके ईसाई होने की अटकलें तब लगनी शुरू हुईं जब वो टांगातूर के एक चर्च की प्रार्थनसभा में शिरकत करने गए थे. उनके विकीपीडिया पेज को लेकर भी विवाद रहा. तब टीवी9 को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने इसका खंडन करते हुए कहा, 'मैं हिंदू पैदा हुआ और हिंदू ही मरूंगा. मेरे खिलाफ जिस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं वो आघात पहुंचाने वाले हैं.'

उन्होंने ये भी कहा, 'मैं हर कुछ महीने बाद सबरीमाला दर्शन करने के लिए जाता रहा हूं. नियमित तौर पर शिरडी जाता हूं. किसी को अगर मेरे धर्म पर कोई संशय हो तो हैदराबाद में मेरे घर पर आए तो खुद उसे मेरे धर्म का अंदाज हो जाएगा.' बाद में इस विवाद में कूदते हुए भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, 'मैं जानता हूं सुब्बा पक्के हिंदू हैं.'

ये भी पढ़ें :-

न्‍यूटन ने की थी 2060 में दुनिया के अंत की भविष्‍यवाणी, जानें कैसे की विनाश के वर्ष की गणना
सेनिटाइजर्स का ज्यादा इस्तेमाल भी पहुंचाता है शरीर को नुकसान
इस महाराजा ने बना दिया था अपनी रानी को मर्द और चुपचाप ले गया यूरोप
न्‍यूटन ने की थी 2060 में दुनिया के अंत की भविष्‍यवाणी, कैसे की थी विनाश के वर्ष की गणना
आइंस्‍टीन के पसंदीदा खिलौने की होगी नीलामी, जानें कैसा है ये गेम
कोरोना वायरस को आपके पास फटकने नहीं देगा चीन में डिजाइन किया जा चुका ये कवच
एक ऐसा जानवर जो पूरी जिंदगी रहता है प्रेग्‍नेंट, हर 30 दिन में दे सकता है बच्‍चे को जन्‍म
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज