पास की गैलेक्सी में तारे बनने वाली जगहों पर क्यों ध्यान दे रहे हैं खगोलविद

शोधकर्ताओं को आसपास की गैलेक्सी (Galaxies) में ऐसे बहुत से स्थान मिले जहां तारों के निर्माण की प्रक्रिया जारी थी. (तस्वीर: @ESA/ PHANGS)

Star-Formation: तारों (Stars) के जन्म की सभी प्रक्रियाओं और उन्हें प्रभावित करने वाले कारकों को जानने के लिए ही आसपास की गैलेक्सियों (Galaxy) में तारों बनने वाली जगहों का अध्ययन किया जा रहा है.

  • Share this:
    हमारे खगोलविदों के पास आज पृथ्वी पर बहुत सारे उन्नत टेलीस्कोप (Telescope) हो गए हैं. इनकी मदद से वे अंतरिक्ष का जितने अच्छे से अध्ययन कर सकते है, वैसे पहले कभी नहीं कर पाए थे. यूं तो अध्ययन के लिए ब्रह्माण्ड में बहुत से ऐसे सवालों के जवाब हैं जिनकी वैज्ञानिकों को तलाश है, लेकिन वैज्ञानिक लंबे समय से पास की गैलेक्सी (Galaxies) में तारों के निर्माण (Formation of Stars) वाली जगहों पर खास तौर से ध्यान दे रहे हैं. यूं तो वैज्ञानिकों के पास तारों के निर्माण की कम जानकारी नहीं है, लेकिन अब भी बहुत सारे सवाल ऐसे हैं जिनके जवाब अभी तक नहीं मिल सके हैं. अब उन्हें उम्मीद है कि उनके जवाब उन्हें मिल जाएंगे.

    इन बातों को जानने की कोशिश
    अभी तक खगोलविद जानते हैं कि तारों का निर्माण गैस के बादलों से होता है. लेकिन वे यह नहीं जानते कि तारों के निर्माण की प्रक्रिया को शुरु करने की वजह क्या है. इसमें गैलेक्सी की क्या भूमिका होती है. इन प्रक्रियाओं को समझने के लिए शोधकर्ताओं ने एनजीसी 1087, एनजीसी 1300, एनजीसी 3627, एनजीसी 4254, और एनजीसी 4303 का अवलोकन किया.

    उन उपकरणों का उपयोग
    इन गैलेक्सी के अध्ययन के लिए वैज्ञानिकों ने ESO के वेरी लार्ज टेलीस्कोप में लगे मल्टी यूनिट स्पैक्ट्रोस्कोपिक एक्सप्लोरर (MUSE) उपकरण और आटाकामा लार्ज मिलीमीटर/सबमिलीमीटर ऐरे (ALMA) का उपयोग किया जिससे वे अलग अलग गैलेक्सी के तारों की पैदाइश वाले इलाकों का अध्ययन कर सकें.

    Space, Star formation, Star birth, Galaxies, Nearby Galaxies, Telescopes, ALMA, ESO, MUSE,
    शोधकर्ताओं ने ALMA और ESO की VLT के MUSE की मदद से गैलेक्सी की तस्वीरें ली. Pixabay


    अलग गैलेक्सी के विभिन्न इलाके
    ESO के खगोलविद और वीएलटी आधारित अवलोनकनों की अगुआई करने वाले डॉ एरिक एम्सेलेम ने बताया कि पहली बार उनकी टीम विस्तृत जगहों और वातावरण तारों के निर्माण की ईकाइयों को अच्छे से देख पा रहे हैं जो अलग अलग गैलेक्सी में हैं. ये अवलोकन फिजिक्स एट हाई एंगुलर रिजोल्यूशन इन नियरबाय गैलेक्सी (PHANGS) परियोजना का हिस्सा हैं.

    विकास की अवस्थाओं के साक्षी
    डॉ एम्सेलेम ने बताया, “हम इस गैस को सीधे अवलोकित कर सकते हैं जो तारों को पैदा करती है. हमने नवजात तारों को खुद देखा और उनके विकास की विभिन्न अवस्थाओं के साक्षी बने. डॉ एम्सेलेम और उनके साथियों ने म्यूज का उपयोग नवजात शिशु तारों और उनके पास की गैस का पता लगाने के लिए किया. यह गैस तारों की गर्मी से गर्म हो जाती है और तारों के निर्माण के लिए स्मोकिंग गन की तरह का करती है.

    ब्लैक होल हो सकते हैं अंतरिक्ष में सुनामी के स्रोत, नासा के शोध बताया कैसे

    कहां चल रहा है तारों का निर्माण
    शोधकर्ताओं ने इस बात का इंतजार नहीं किया है कि कहीं तारा बनना शुरू हो और वे अवलोकन कर सकें. बल्कि उन्होंने MUSE और ALMA की तस्वीरों को मिलाकर गैलेक्सी के इलाकों की पड़ताल की जहां तारों के निर्माण की प्रक्रिया जारी है. इससे वे यह जान सके कि क्या है तो तारों के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत करता है, उनको बढ़ावा देता है और नए तारों को पैदा होने से रोकता है.

    Space, Star formation, Star birth, Galaxies, Nearby Galaxies, Telescopes, ALMA, ESO, MUSE,
    वैज्ञानिकों की तस्वीरें गैलेक्सी के बादलों के पास तारों के निर्माण की जगह तक तो पहुंच गईं, लेकिन वे उसके अंदर की प्रक्रियाओं तक नहीं पहुंच सकीं. ( तस्वीर: Pixabay)


    इन गहरे सवालों के जवाबों की तलाश
    यूनिवर्सिटी ऑफ हेडिल्बर्ग के खगोलविद और फैन्ग्स की सदस्य डॉ कैथरीन क्रेकल ने बताया कि उनकी टीम बहुत से रहस्यों को सुलझाना चाहती है. क्या तारों गैलेक्सी के किसी खास इलाके में ज्यादा पैदा होते हैं. और यदि ऐसा है तो क्यों. और पैदा होने के बाद तारों का विकास कैसे नई पीढ़ी के तारों के निर्माण को प्रभावित करता है.

    गुरु के चंद्रमा के अंदर ही नहीं सतह पर भी मिल सकते हैं संकेत- शोध

    खगोलविद अब MUSE और ALMA के आंकड़ों की मदद से इन सवालों के जवाब हासिल कर सकेंगे शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने जिन नक्शों को बनाया है उनका विभेदन पैदा होते तारों को बादलों से अलग करने के लिए तो काफी है, लेकिन उनके अंदर क्या हो रहा है यह जानने के लिए काफी नहीं हैं. इसलिए अब टीम इस दिशा में और गहराई में जाने का प्रयास कर रहे हैं

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.