चीन में बड़े पैमाने पर सरकार क्यों तोड़ रही है मस्जिदें

चीन में इस्लाम के लिए यह नियम है कि मुसलमान चीनी तरीके से अपने धर्म का पालन करें, नहीं तो कम से कम चीनी जगह में करें जिसका मतलब है चीनी शैली की मस्जिद.

News18Hindi
Updated: May 17, 2018, 5:21 PM IST
चीन में बड़े पैमाने पर सरकार क्यों तोड़ रही है मस्जिदें
चीन में इस्लाम के लिए यह नियम है कि मुसलमान चीनी तरीके से अपने धर्म का पालन करें, नहीं तो कम से कम चीनी जगह में करें जिसका मतलब है चीनी शैली की मस्जिद.
News18Hindi
Updated: May 17, 2018, 5:21 PM IST
चीन में अरबी शैली के इस्लामी गुंबद और मस्जिदों को तोड़ने का अभियान चलाया जा रहा है. इस अभियान के तहत कोई नई 'अरबी शैली' की मस्जिद नहीं बनाई जा सकती. इस पूरे मसले से चीन का हुई मुस्लिम समुदाय बेहद चिंतित हैं.

दोपहर के ठीक बाद सफेद टोपी पहने हुए लोग मस्जिद में इबादत के लिए कदम रखते हैं और सोने के इस्लामिक रूपों और तीन हरे रंग के गुंबदों के बाहर बने भव्य गए गेट के पीछे गायब हो जाते हैं.  हर एक गुम्बद पर चांदी के चंद्रमा बने हैं और सूरज की रौशनी पड़ते ही हीरे की तरह चमकते हैं.  यह चीन की पहली मध्य पूर्वी-शैली की मस्जिदों में से एक थी, जिसे 1981 में सांस्कृतिक क्रांति के शिकार होने वाले चीन को प्रतिस्थापित करने के लिए बनाया था.  1966 से तबाही के दशक जिसमें हजारों मंदिर, चर्च, मस्जिद और मठों को नष्ट कर दिया गया था यह भी उनमें से एक थी.

लेकिन अब प्याज के आकार की विस्तृत रूपरेखा वाली गुम्बदों और अरबी लिपि के इस्तेमाल को चीन खतरे के रूप में देखने लगा है.  इस्लामीकरण और अरबीकरण की चिंताजनक प्रवृत्ति के रूप में इन मस्जिदों को देखते हुए इन सबको चीन अब अपनी तरह की चीनी रूपरेखा देने का प्रयास कर रहा है.

चीन के नांगुआन शहर में, इस्लामी सजावट और अरबी संकेतों को सडकों से लगातार हटाया जा रहा है. पिछले दशक तक चीनी अधिकारी पर्यटकों को लुभाने के लिए हुई जाति के अल्पसंख्यक मुसलमानों की संस्कृति को उजागर कर रहे थे.  लेकिन अब पीली नदी के धूलदार मैदानों के साथ यिनचुआन शहर  के  दक्षिण में सड़क के किनारे बने हरे, सोने और सफेद रंग के गुम्बदों को हटा दिया गया है.



धर्मनिरपेक्षता  इन इमारतों का पहला लक्ष्य था, लेकिन सरकार ने नई "अरब शैली" मस्जिदों पर भी प्रतिबंध लगा दिया है, और कुछ मौजूदा मस्जिदों को चीनी मंदिरों की तरह दिखाने की योजना है.

नांगुआन मस्जिद में एक महिला कर्मचारी सदस्य ने कहा - यह बात पिछले साल के अंत में शुरू हुई थी. अब सभी डर रहे हैं क्योकि कुछ लोगों के घर भी अभी अरबी शैली में बने हैं. अब उन्हें भी शायद तोड़ा जाए.

बढ़ती असहिष्णुता

चूंकि विध्वंस और असहिष्णुता नांगुआन में लगातार बढ़ रहे हैं इसलिए हुई समुदायों के बीच परेशानी भी बढ़ रही है.  जो दशकों से अपने धर्म  का अभ्यास करने के लिए मशहूर और खुश थे वे अब बड़े संघर्ष का सामना कर रहे हैं.



अरब और मध्य एशियाई सिल्क रोड व्यापारियों के वंशज हुई मुसलमानों की तादाद चीन में 10 मिलियन से अधिक है.  उनमें से ज्यादातर मंदारिन बोलते हैं, बहुसंख्यक हान जनसंख्या के साथ शांति से रहते हैं, और यहां तक कि उनके जैसा ही दिखते हैं.

जिंजिआंग शहर में रहने वाले एक दुसरे मुसलमान समुदाय एगर्स को भी आतंकवाद के नाम पर तंग किया जा रहा है. जिन मस्जिदों को अभी तोड़ा  नहीं गया है उनमें लाउडस्पीकर की आवाज़ बंद करवा दी गई है. पूरे शहर से इस्लामिक साहित्य हटा लिया गया है, अरबी सीखने वाले स्कूलों को बंद कर दिया गया है.

'चीनी इस्लाम'

चीन के कई हिस्सों में इस्लाम के खिलाफ यह सब जो फिलहाल हो रहा है वह चीनी राष्ट्रपति शी जिंगपिंग की 2015 में लाई गई पॉलिसी 'सिनिसाइज़ रिलिजन' के तहत हो रहा है. इस पालिसी के अंतर्गत जिंगपिंग ने प्लान किया की चीन ने बसे अलग अलग धर्मों के लोगों को अपना धर्म अपनाने की इजाज़त हो या लेकिन वह चीनी तरीके से होना चाहिए.



पार्टी के कांग्रेस ने पिछले शरद ऋतु में एक रिपोर्ट में कहा, "हमें अपने देश में धर्मनिरपेक्ष धर्म की दिशा का पालन करना चाहिए, और समाजवादी समाज के अनुकूल बनने के लिए सक्रिय रूप से एक दूसरे का मार्गदर्शन करना चाहिए.

चीन में पांच आधिकारिक मान्यता प्राप्त धर्मों में से, ताओवाद ही एकमात्र स्वदेशी है. बौद्ध धर्म, हालांकि यह भारत में पैदा हुआ था, को भी एक चीनी धर्म के रूप में स्वीकार किया गया है, जो कि तिब्बती बौद्ध धर्म के अलावा, मानव संस्कृति और राजवंशों के प्रवाह के माध्यम से हान संस्कृति में एकीकृत किया गया है.

लेकिन पार्टी अन्य धर्मों से सावधान है - इस्लाम, प्रोटेस्टेंटिज्म और कैथोलिक धर्म - और उन्हें विदेशी प्रभाव या जातीय अलगाववाद से जोड़ती है.

इस्लाम के लिए यह नियम है कि  मुस्लमान चीनी तरीके से अपने विश्वास का अभ्यास करें, नहीं तो कम से कम एक चीनी जगह में करें.

यिनचुआन में नजियाउ मस्जिद में चीनी और अरबी में प्रचार ने मुई मुसलमानों से "देश से प्यार और धर्म से प्यार करने, कानून को समझने और कानून का पालन करने" का आग्रह किया है.
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Knowledge News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर