लाइव टीवी

जानें मैथेमेटिक्स के क्षेत्र में क्यों नहीं दिया जाता नोबेल प्राइज

News18Hindi
Updated: October 16, 2019, 9:49 AM IST
जानें मैथेमेटिक्स के क्षेत्र में क्यों नहीं दिया जाता नोबेल प्राइज
हर साल छह कैटेगरी में दिया जाता है नोबेल प्राइज

हर साल छह कैटेगरी में नोबेल प्राइज (Nobel Prize) दिया जाता है. सवाल है कि फीजिक्स, केमिस्ट्री में नोबेल मिलता है तो मैथेमेटिक्स (Mathematics) में क्यों नहीं. इसको लेकर कुछ दिलचस्प कहानी है..

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2019, 9:49 AM IST
  • Share this:
हर साल की तरह इस बार भी नोबेल प्राइज (Nobel Prize) विनर की घोषणा हो रही है. अर्थशास्त्र (Economics) के क्षेत्र में भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी (Abhijit Banerjee) को भी नोबेल प्राइज मिला है. हर साल छह कैटेगरी में नोबेल प्राइज दिए जाते हैं. इसमें साहित्य, फीजिक्स, केमिस्ट्री, पीस, इकोनॉमिक्स और फीजियोलॉजी एंड मेडिसीन जैसे विषय शामिल होते हैं.

अब सवाल उठता है कि जब इतने सारे विषयों मे नोबेल प्राइज दिए जाते हैं तो गणित (Mathematics) का नोबेल प्राइज क्यों नहीं दिया जाता? फीजिक्स, केमिस्ट्री और इकोनॉमिक्स जैसे विषयों पर नोबेल प्राइज मिलता है तो मैथेमेटिक्स में क्यो नहीं? आखिर इसके पीछे क्या वजह है?

इस सवाल के दिलचस्प जवाब मिलते हैं. रिसर्चर ने इस सवाल को खंगालने की कोशिश की तो कुछ मजेदार जानकारी हासिल हुई. नोबेल प्राइज स्वीडिश बिजनेसमैन, केमिस्ट, इंजीनियर और खोजकर्ता अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर शुरू हुई. लेकिन अवॉर्ड की कैटेगरी को लेकर नोबेल के मन में कोई विचार नहीं था. इसलिए जानबूझकर नहीं बल्कि यूं ही मैथेमेटिक्स अवॉर्ड की कैटेगरी में आने से छूट गया.

अल्फ्रेड नोबेल की पार्टनर के साथ एक मैथेमेटिशियन के रोमांस की कहानी

मैथेमेटिक्स को नोबेल प्राइज में नहीं शामिल किए जाने को लेकर एक मजेदार मिथ है. कहा जाता है कि अल्फ्रेड नोबेल गणितज्ञों को नापसंद करते थे. क्योंकि एक मैथेमेटेशियन का उनकी पार्टनर के साथ अफेयर था. वैसे, अल्फ्रेड नोबेल ने कभी शादी नहीं की.

why there is no nobel prize in mathematics know interesting facts about alfred nobel partner love affair
अल्फ्रेड नोबेल


कहा जाता है कि अल्फ्रेड नोबेल ने मैथेमेटिक्स में नोबेल प्राइज का चलन इसलिए नहीं शुरू किया क्योंकि उन्हें अंदेशा था कि ये प्राइज स्वीडिश मैथेमेटिशियन गोस्टा मितग-लेफ़लर को मिल जाएगा. लेफलर का अल्फ्रेड नोबेल की पार्टनर सोफी हेस के साथ अफेयर था. अल्फ्रेड नोबेल लंबे वक्त तक सोफी हेस के साथ रिलेशनशिप में रहे. हालांकि इतिहासकार इस बात की पुष्टि नहीं करते कि अल्फ्रेड नोबेल की पार्टनर सोफी हेस के एक मैथेमेटिशियन के साथ अफेयर की वजह से ही गणित में नोबेल प्राइज नहीं दिया जाता.एक बात ये भी कही जाती है कि गोस्टा मितग-लेफलर को अल्फ्रेड नोबेल नापसंद करते थे. उनके बीच रिश्ते इतने खराब थे कि अल्फ्रेड नोबेल ने सिर्फ उनकी वजह से मैथेमेटिक्स में नोबेल प्राइज नहीं रखा.

अल्फ्रेड नोबेल को गणित में नहीं थी कोई रुचि

इसके पीछे कुछ वाजिब वजहें भी बताई जाती हैं. मसलन नोबेल प्राइज किसी आविष्कारक या खोजकर्ता को देने के विचार के साथ शुरू हुई थी. ऐसा खोजकर्ता जिसकी खोज ने पूरी दुनिया को फायदा पहुंचाया हो. एक व्यवसायी और खोजकर्ता होने के नाते अल्फ्रेड नोबेल को लगता था कि मैथेमेटिक्स बहुत ज्यादा थ्योरिटिकल है. वो इसके प्रैक्टिकल अप्लीकेशन में ज्यादा नहीं घुसना चाहते थे. इसलिए उन्होंने गणित को एक किनारे रख दिया.

why there is no nobel prize in mathematics know interesting facts about alfred nobel partner love affair
नोबेल प्राइज


अल्फ्रेड नोबेल का अपना काम फीजिक्स और केमेस्ट्री के क्षेत्र में था. वो साहित्य और मेडिसीन में रूचि रखते थे. शांति का नोबेल प्राइज इसलिए शुरू किया गया क्योंकि उनकी छवि ठीक करनी थी. डायनामाइट की खोज की वजह से उन्हें मर्चेंट ऑफ डेथ यानी मौत का सौदागर कहा जाता था. अपनी पब्लिक इमेज ठीक करने के लिए अल्फ्रेड नोबेल ने शांति के क्षेत्र में नोबेल प्राइज देने का चलन शुरू किया. मैथेमेटिक्स में उन्हें कोई रूचि नहीं थी.

एक बात ये भी कही जाती है कि मैथेमेटिक्स के क्षेत्र में उस वक्त नोबेल की तरह प्राइज देने का चलन शुरू हो चुका था. किंग ऑस्कर द्वितीय एक मशहूर मैथमेटिसियन थे. उन्होंने मैथेमेटिक्स के क्षेत्र में अच्छा काम करने वालों को मैथ अवॉर्ड देना शुरू किया था. शायद अल्फ्रेड नोबेल ने सोचा हो कि जब पहले से ही मैथेमेटिक्स के क्षेत्र में एक अवॉर्ड दिया जा रहा है तो फिर इस क्षेत्र में नया प्राइज देने की क्या जरूरत. इसकी बजाय उन्होंने अपनी रुचि के विषयों में नोबेल प्राइज देने की परंपरा डाली.

ये भी पढ़ें: सारे बड़े अर्थशास्त्री बंगाल से ही क्यों आते हैं?
FATF के डार्क ग्रे लिस्ट में आने से कंगाल पाकिस्तान का होगा कितना बुरा हाल
 एयरफोर्स की परीक्षा में फेल न हुए होते तो मिसाइल मैन नहीं बनते कलाम साहब
भारत का वो बेमिसाल शहर, जहां से ताल्लुक रखते हैं 4 नोबेल विजेता
'पैदा तो हिंदू हुआ पर मरूंगा हिंदू नहीं' कहने वाले अंबेडकर क्यों बने थे बौद्ध?
 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 16, 2019, 9:49 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर