लाइव टीवी

भारत सरकार को अपना फर्जी आधार कार्ड सौंपने को क्यों तैयार हैं ये रोहिंग्या

News18Hindi
Updated: February 23, 2020, 6:35 PM IST
भारत सरकार को अपना फर्जी आधार कार्ड सौंपने को क्यों तैयार हैं ये रोहिंग्या
आधार अथॉरिटी द्वारा हैदराबाद में रह रहे 127 रोहिंग्या शरणार्थियों को नोटिस भेजा गया है.

आधार कार्ड अथॉरिटी ने हैदराबाद में रह रहे रोहिंग्या शरणार्थियों को चिन्हित कर नोटिस भेजा है. ये मामला राजनीतिक रंग भी पकड़ने लगा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2020, 6:35 PM IST
  • Share this:
इस समय देश के सभी हिस्सों NRC और CAA को लेकर बहस जारी है. दिल्ली का शाहीन बाग आंदोलन (Shaheen Bagh Movement) तो पूरे देश के विरोध प्रदर्शनों का केंद्र बन गया है. लेकिन इसी बीच खबर आई है कि तेलंगाना में करीब 127 रोहिंग्या शरणार्थियों ने अपने फर्जी आधार कार्ड सरेंडर करने की पेशकश की है. भारत में अवैध रूप से रहे इन रोहिंग्या समुदाय के लोगों ने यूं ही आधार कार्ड सरेंडर करने की पेशकश नहीं की है. दरअसल आधार कार्ड इंडिया अथॉरिटी ने इन लोगों को चिन्हित कर नोटिस भेजा था. हैदराबाद के बालापुर इलाके में रहने वाले इन लोगों के बीच अथॉरिटी का नोटिस मिलने के बाद भय कायम हो गया.

न्यू इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक रोहिंग्या समुदाय में ये भय है कि अब उन्हें देश से बाहर निकाला जा सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक कई शरणार्थियों ने स्वीकारा है कि उन्होंने अवैध तरीके अपनाकर फर्जी आधार कार्ड हासिल किए.

परवीन अख्तर नाम के एक रोहिंग्या शरणार्थी ने बताया-मुझे ओरल कैंसर हुआ है. मेरे इलाज के लिए दो लाख रुपए की जरूरत थी. मुझे बताया गया कि सरकारी सुविधाओं के लिए आधार कार्ड की जरूरत पड़ेगी. इसी वजह से मैंने आधार कार्ड बनवाया. इसके बाद अब हमें आधार अथोरिटी का नोटिस आया है. एक और शरणार्थी मोहम्मद जुवैल तकरीबन कांप रहा था. उसने कहा कि अब मेरे पास कोई आधार कार्ड नहीं है. मुझे पहले एक आधार कार्ड मकान मालिक ने बनवाया था. इससे पहले भी ऐसे नोटिस मुझे मिल चुके हैं. मुझे इस मामले में जेल भी हो चुकी है. अब एक बार फिर मुझे नोटिस आया है.

क्या बोले राज्य के गृहमंत्री



रोहिंग्या शरणार्थियों को नोटिस का मामला गर्मा गया है. राज्य के गृहमंत्री ने भी इस मामले में प्रतिक्रिया दी है. राज्य के गृहमंत्री महमूद अली ने कहा कि भारत विशेष पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने जिनको नोटिस जारी किया है, उनके पता-ठिकाने पर उनको संदेह था. यही वजह है कि उन लोगों को नोटिस जारी किया गया.

पहले भी पकडे़ गए हैं रोहिंग्या
ये पहली बार नहीं है जब रोहिंग्या शरणार्थियों को पकड़े जाने का मामला सामने आया है. इससे पहले भी अलग-अलग राज्यों से कई बार रोहिंग्या शरणार्थियों के अवैध पहचान पत्रों के कारण पकड़े जाने की खबरें आती रही हैं. विशेष रूप से उत्तर पूर्व के राज्यों से ऐसी खबरों में तेजी आई है. मणिपुर और असम से रोहिंग्या समुदाय के लोगों द्वारा फर्जी आधार कार्ड बनवाने की खबरें प्रमुखता से आती रही हैं.

रेंट एग्रीमेंट का होता है सबसे ज्यादा इस्तेमाल
एक अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक बांग्लादेशी हों या फिर रोहिंग्या शरणार्थी, आधार कार्ड बनवाने के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल रेंट एग्रीमेंट का करते हैं. उत्तर पूर्वी राज्यों से इतर राजस्थान में भी फर्जी पहचान पत्रों के मिलने की खबरें आती रही हैं. राजधानी जयपुर से 56 फर्जी आधार कार्ड समेत अन्य पहचान पत्र बनवाए जाने संबंधित खबरें आई थीं. हालांकि हालिया मामले में तेलंगाना के गृहमंत्री ने कहा है कि हमने एनआरसी का विरोध किया है. फर्जी आधार कार्ड पर अथॉरिटी की कार्रवाई से एनआरसी का कोई लेना देना नहीं है.
ये भी पढ़ें:

जानिए कितना बड़ा गुनाह है देशद्रोह, कितने साल की हो सकती है सजा
चीन के भी हौसले पस्त करेगा भारतीय नौसेना का ‘रोमियो’, जानें किन खूबियों से है लैस
गुलशन कुमार पर बंदूक तानकर बोला था हत्यारा- बहुत हुई पूजा, अब ऊपर जाकर करना!
चीन ने भी छोड़ा पाकिस्तान का साथ, नहीं सुधरा तो होगा ब्लैक लिस्ट

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 23, 2020, 6:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,709

     
  • कुल केस

    6,412

     
  • ठीक हुए

    503

     
  • मृत्यु

    199

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 10 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,152,323

     
  • कुल केस

    1,604,718

    +1,066
  • ठीक हुए

    356,660

     
  • मृत्यु

    95,735

    +42
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर