Home /News /knowledge /

शुक्र आज क्यों नहीं है जीवन के अनुकूल, वैज्ञानिकों ने उसके इतिहास में खोजी वजह

शुक्र आज क्यों नहीं है जीवन के अनुकूल, वैज्ञानिकों ने उसके इतिहास में खोजी वजह

एक समय शुक्र ग्रह (Venus) बिलुकल पृथ्वी की ही तरह था, लेकिन आज वह जीवन के प्रतिकूल ग्रह की श्रेणी में है.   (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

एक समय शुक्र ग्रह (Venus) बिलुकल पृथ्वी की ही तरह था, लेकिन आज वह जीवन के प्रतिकूल ग्रह की श्रेणी में है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

शुक्र ग्रह (Venus) की पृथ्वी (Earth) से काफी समानता है और अपने शुरुआती दौर में दोनों ही ग्रह एक से ही थे. लेकिन वैज्ञानिक इस बात की स्पष्ट व्याख्या नहीं कर सके है कि जब पृथ्वी एक जीवन वाला ग्रह हो गया तो वहीं शुक्र जीवन के ही प्रतिकूल ग्रह कैसे बन कर रह गया. नए शोध में बताया गया है कि इसकी पीछे शुक्र ग्रह के इतिहास काल में उल्किपिंडों के तीव्र गति के टकरावों (Impacts) की भूमिका है.

अधिक पढ़ें ...

    अगर पृथ्वी (Earth) से बाहर जीवन की संभावनाओं की तलाश की बात की जाए तो कई वैज्ञानिकों यही लगता है कि शुक्र ग्रह को और ज्यादा गंभीरता से लेने की जरूरत है. इसकी वजह ये है कि एक समय शुक्र, पृथ्वी के जैसा ग्रह था. लेकिन समय के साथ पृथ्वी पर जीवन पनप गया और शुक्र पर जीवन की अनुकूलता तक नही है. वैज्ञानिकों के लिए यह आज भी बड़ी पहेली है कि शुक्र की हालत आज ऐसी क्यों हो गई. इसी की एक अध्ययन में शुक्र ग्रह के इतिहास में छिपी बताई जा रही है. जिसमें बहुत अधिक तेज गति से उल्कापिडों के टकराव को इसके लिए जिम्मेदार बताया गया है.

    शुक्र मंगल और पृथ्वी
    जीवन की संकेतों और अनुकूलता की तलाश में मंगल और शुक्र ग्रह (Venus) शुरू से ही बड़े दावेदार रहे हैं. फिलहाल मंगल ग्रह पर ज्यादा काम हो रहा है. जबकि मंगल और शुक्र दोनों ही ग्रह अभी बिलकुल भी आवासयोग्य नहीं हैं. लेकिन कई वैज्ञानिकों को लगता है कि एक समय पृथ्वी से समानता शुक्र को ऐसे अन्वेषणों के लिए बेहतर दावेदार बनाती है.  नई मॉडलिंग से पता चला है कि तेजी से हुए टकराव इस बात की व्याख्याकर सकते हैं कि पृथ्वी जीवन से भरपूर और शुक्र जीवन विहीन ग्रहों कैसे बन गए.

    सूर्य और पृथ्वी
    इस अध्ययन में सुझाया गया है कि शुक्रग्रह के शुरुआती इतिहास में विशाल, और तीव्र गति वाले टकराव शुक्र और उसके साथी ग्रह पृथ्वी के बीच पैदा हुए अंतर की वजह को समझा सकते हैं. दोनों ग्रहों की आकार, भार और सूर्य से तुलनात्मक दूरी काफी हद तक समान है. फिर भी दोनों में आवासीयत, वायुमंडलीय संरचना, प्लेट टेक्टोनिक जैसे कई प्रमुख अंतर की व्याख्या नहीं कि जा सकी है.

    Space, Venus, Earth, Solar System, Life on Venus, Life Beyond earth, History of Venus, High speed Impactors, Meteorites,

    आज से 4.5 अरब साल पहले पृथ्वी और शुक्र एक ही जैसे ग्रह थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    टकराव कर सकते हैं पूरी व्याख्या
    हाल ही में हुए 2021 की अमेरिकन जियोफिजिकल यूनियन फॉल मीटिंग में प्रस्तुत शोध के बताया गया है कि तीव्र गति वाले टकराव इस बात की व्याख्या कर सकते हैं कि पृथ्वी जीवन के अनुकूल ग्रह के तरह पनप सका जबकि शुक्र नहीं. इस अध्ययन की प्रस्तुति साउथ वेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के ग्रह विज्ञानी सिमोने मार्की ने दी.

    कैसे बने थे पृथ्वी और मंगल जैसे ग्रह, नए शोध ने डाली रोशनी

    पूरा ग्रह हुआ होगा प्रभावित
    मार्की ने बताया कि शुरू में सौरमंडल की शुरुआत में उल्कापिंड जैसे टकराने वाले पिंडों की संख्या बहुत ही ज्यादा हुआ करती थी.  यदि शुरुआती टकराव पिंड व्यास में कुछ सौ किलोमीटर बड़ा था, तो उसने ग्रह की सतह और वायुमडंल के साथ आंतरिक संरचना तक को प्रभावित किया होगा. ये विशाल टकराव ग्रह के हर चीज को प्रभावित करने में सक्षम रहे होंगे.

    Space, Venus, Earth, Solar System, Life on Venus, Life Beyond earth, History of Venus, High speed Impactors, Meteorites,

    विशाल उल्कापिंडों के तीव्र टकरावों ने शुक्र (Venus) को इतना बदल दिया जिससे उसकी आज की स्थिति बन सकी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    4 अरब साल से भी पहले
    अलग-अलग शोध समूहों ने दर्शाया है कि शुक्र ग्रह के पुरातन काल में, यानि करीब 4.5 से 4 अरब साल पहले बहुत ही तेज गति से उल्कापिंडों का टकराव हुआ होगा. ये गति पृथ्वी के टकरावों की तुलना में कहीं ज्यादा रही होगी. करीब एक चौथाई से ज्यादा टकरावों की गति 30 किलोमीटर प्रति सेकेंड की गति के रहे होंगे.

    पर्पटी से लेकर मैंटल तक पिघले होंगे
    शोधकर्ताओं ने दर्शाया कि शुक्र पर  विशाल, तीव्र गति वाले टकरावों से पृथ्वी के मैंटल के पिघलने की तुलना में दो गुना अधिक मैंटल पिघलाव हुआ होगा.  शोध के मुताबिक कम कोणों वाले तीव्र टकराव के कारण शुक्र का मैंटल पूरी तरह से पिघल गया होगा. मार्की ने बताया कि जब केवल एक विशालकाय तीव्र आवेग टकराव ने भी शुक्र ग्रह की आंतरिक विकास प्रक्रिया रोक कर फिर से शुरू कर दी होगी.

    ऐसी स्थिति में शुक्र एक पथरीले पिंड से एक पिघले हुए पिंड में बदल गया होगा जिससे उसकी सतह और आंतरिक संरचना के साथ खजिन विज्ञानतक बदल गया होगा. पहले से रहा वायुमंडल तक खत्म हो गया होगा. केवल एक ही बहुत बड़े और तीव्र गति वाले टकराव ने तय कर दिया होगा कि टेक्टोनिक प्लेट बनी होंगी या नहीं. यहीं से दोनों ग्रहों के निर्माण की दिशा ऐसी बदल गई होगी जिससे दोनों में आज इतना अंतर आ गया है.

    Tags: Earth, Research, Science, Solar system, Space, Venus

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर