होम /न्यूज /नॉलेज /World Heart Day 2022: दिल की सेहत के लिए क्यों है भावनात्मकता की जरूरत?

World Heart Day 2022: दिल की सेहत के लिए क्यों है भावनात्मकता की जरूरत?

विश्व हृदय दिवस (World Heart Day 2022) दुनिया में हृदय एवं रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारियों के प्रति जागरूकता फैलाने का एक अवसर है. (फाइल फोटो)

विश्व हृदय दिवस (World Heart Day 2022) दुनिया में हृदय एवं रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारियों के प्रति जागरूकता फैलाने का एक अवसर है. (फाइल फोटो)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) और विश्व हृदय संघ (World Heart Federation) हर साल 29 सितंबर को विश्व ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

दुनिया में हृदय एवं रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारियों हर साल 1.86 करोड़ लोग मरते हैं.
गैर संक्रमण बीमारियों के कारण हुए मौतों में से आधी दिल और स्ट्रोक के कारण होती हैं.
इन बीमारियों से बचने के लिए हो प्रयासों से लोगों को भावनात्मक रूप से जोड़ना जरूरी है.

सेहत के प्रति जागरूकता एक बड़ा मुद्दा है. दुनिया का हर इंसान सेहतमंद रह सके इसके लिए एक अलग से वैश्विक संस्था विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) काम करता है. संगठन कई तरह के मुद्दों पर काम कर रहा है और दुनिया में हृदय एवं रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारियों (Cardiovascular Disease) या सीवीडी के प्रति विशेष ध्यान देने के साथ अतिरिक्त सजगता की जरूरत है. इसी के लिए विश्व हृदय संघ और विश्व स्वास्थ्य संगठन मिल कर दुनिया भर में 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस (World Heart Day 2022) मनाते हैं.

हर साल लाखों की मौत
दिल की बीमारी और स्ट्रोक दुनिया में मौत के प्रमुख कारणों में से एक है जिससे हर साल 1.86 करोड़ लोगों को मौत होती है. साल 2012 में दुनिया भर के नेताओं ने प्रण किया था कि वे साल 2025 तक गैर संक्रामक बीमारियों से होने वाली मौतों को 25 प्रतिशत तक कम कर  देंगे. इन बीमारियों में से आधी बीमारियां हृदय एवं रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारियां होती हैं.

एक आदर्श मंच
बीमारियों से होने वाली मौतों में में हृदय एवं रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारियां दुनिया में मौतों को सबसे प्रमुख कारण है. इसी लिए माना जाता है कि विश्व हृदय दिवस सीवीडी समुदाय के लिए दुनिया के लोगों को एक करने के लिए एक आदर्श मंच हो सकता है. जिससे दुनिया भर में इन बीमारियों का  भार कम करने में मदद मिल सके.

भावनाओं से जुड़ाव जरूरी
वैज्ञानिक भी मानते हैं कि क्रियात्मक रूप से दिल भले ही भावनाओं से  नियंत्रित ना होता हो, लेकिन वह भावनाओं से प्रभावित जरूर होता है. वर्ल्ड हार्ट फाउंडेशन के मुताबिक विश्व हृदय दिवस हर व्यक्ति के लिए एक अवसर है जिससे वह रुक कर यह विचार कर सकता है कि कैसे वह दिल का उपयोग मानवता, प्रकृति और दूसरों के लिए कर सकता है.

World, Health, world heart day 2022, world heart day 2022 theme, Use Heart for Every Heart, World Heart Day, विश्व हृदय दिवस, वर्ल्ड हार्ट डे

दिल (Heart) की सेहत के लिए उपचार के साथ ही जागरूकता भी बहुत जरूरी है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

इस साल की थीम
हृदय एवं रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारियों को हराना हर धड़कते दिल के लिए मायने रखता है. इसलिए वर्ल्ड हार्ट फाउंडेशन और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस साल विश्व हृदय दिवस की थीम “यूज हार्ट फॉर एवरी हार्ट” यानि “सभी हृदयों के लिए हृदय का उपयोग करें.” तय की है. इस थीम का मकसद लोगों को एक जोड़ना है जिससे वे मिल कर सेहतमंद हृदय के लिए काम कर सकें.

यह भी पढ़ें: International Day of Sign Languages 2022: लोगों को एक करती है सांकेतिक भाषा

दिल का उपयोग करें
इस थीम को मायने समझने के लिए इसे दो हिस्सों में बांटा जा सकता है. पहला यूज हार्ट यानि दिल का उपयोग करें. इसकामतलब है कि हमें दिमाग से नहीं दिल से सोचते हुए कुछ अलग सोचना चाहिए. सभी फैसले लेने के लिए, साहसिक कदम उठाने के लिएत इस महत्वपूर्ण कार्य के बड़े लक्ष्यों से जुड़ना होगा. दिल ही ऐसा एकमात्र अंग है जिसे सुना और महसूस किया जा सकता है. यह जीवन का पहला और अंतिम संकेत होता है. इसमें लोगो को आपस में जोड़ने की क्षमता होती है.

World, Health, world heart day 2022, world heart day 2022 theme, Use Heart for Every Heart, World Heart Day, विश्व हृदय दिवस, वर्ल्ड हार्ट डे

दिल (Heart) की सेहत के मामले में खुद पर भी ध्यान देना बहुत जरूरी है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

हर एक दिल के लिए
हर दिल के लिए का मतलब है कि अपने ही लाभ के लिए कार्यों हटाकतर दूसरों के लिए कार्य करना . इससे इस अभियान को एक व्यापक आयाम मिल सकेगा और ज्यादा व्यापक स्तर पर लोग जुड़ सकेंगे और एक  दूसरे को जागरूक कर सकेंगे. इससे लोग इस अभियान में एक निजता का तत्व और भाव भी ला सकेंगे.

यह भी पढ़ें: क्या Covid-19 जैसी कयामती आफत से बच सकता है इंसान, नए अध्ययन ने कहा, हां!

जबकि इसके तीन बड़े स्तभ को आधार बनाया गया है. सीवीडी से निपटने के लिए लोगों तक उपचार की पहुंच बहुत जरूरी है क्योंकि  दुनिया में सीवीडी की वजह से दो तिहाई मौत कम से मध्यम आय के देशों में होती है. इसलिए दिल के इंसानियत के लिए उपयोग करने पर जोर दिया जा रहा है. वहीं बढ़ते प्रदूषण को सीवीडी की मौतों में 25 प्रतिशत योगदान हैं इसलिए दिल का उपयोग प्रकृति के लिए करने से इसे रोकने में मदद मिल सकेगी. अंत में खुद को सेहतमंद रखना भी जरूरी है इसलिए दिल का उपयोग खुद के लिए भी जरूर करें.

Tags: Health, Research, World, World Heart Day

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें