Home /News /knowledge /

world telecommunication and information society day 2022 digital technologies for older viks

World Telecommunication Day: बुजुर्गों के लिए दूसंचार सुलभ करना बड़ी चुनौती

विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस (World Telecommunication and Information Society Day 2022) पहले केवल विश्व दूरसंचार दिवस के रूप में  ही मनाया जाता था. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस (World Telecommunication and Information Society Day 2022) पहले केवल विश्व दूरसंचार दिवस के रूप में ही मनाया जाता था. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस (World Telecommunication and Information Society Day 2022) को मनाने का मकसद यह इंटरनेट और अन्य सूचना एवं संचार तकनीकों (ICT) के जरिए पैदा होने वाले अवसरों और संभावनाओं के प्रति जागरूकता पैदा करना है. इस साल बुजुर्गों और सेहतमंद बढ़ती उम्र के लिए डिजिटल तकनीकों पर जोर दिया जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    कहते हैं कि आज की दुनिया सिमट कर एक गांव हो गई है. दूरंसचार (Telecommunication) की वजह से हजारों किलोमीटर की घटनाओं की खबर मिनटों में एक कोने से दूसरे कोने पर पहुंच जाती है. डिजिटल युग में जानकारी वीडियो, ऑडियो, लंबे टेक्स जैसे हर प्रारूप का आदान प्रदान प्रकाश की गति के समान होने लगा है. इस सबके बीच 17 मई को मनाया जा रहा विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस (World Telecommunication and Information Society Day 2022) इस बदलाव के दौर में बुजुर्गों और उम्र दराज लोगों के लिए उनके स्वास्थ्य के लिए समर्पित डिजिटल तकनीक (Digital Technology) को समर्पित है.

    डिजिटल विभाजन का अंतर
    विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस को दुनिया में बढ़ रहे डिजिटल विभाजन के अंतर को खत्म करने के लिए लोगों में इंटरनेट और अन्य सूचना और संचार तकनीकों के उपयोग के लिए जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है. दूरसंचार की कारण ना केवल लोगों की जीवनशैली बदली है, बल्कि ऊर्जा के उपयोग का तरीकों में बदलाव ला दिया है. यही वजह से लोगों की जीवनचर्याओं में इतना अंतर आ गया है जिसे दूर करने की जरूरत है.

    आज की बड़ी जरूरत
    आज के युग में इस बात पर जोर देने की जरूरत है कि हमें एक दूसरे से संचार करने के लिए तकनीक का सभी लोग उपयोग कर सकें. हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि वह सभी तक सुलभ और सरल तरह से उपलब्ध हो. ऐसे में दूर संचार यानि केबल, टेलीग्राफ, टेलीफोन, रेडियो, या अन्य बेतार के जरिए किए गए संचार का उपयोग  मानव जाति के हर स्वरूप तक सुलभ हो सके. यह बहुत जरूरी है.

    इस साल की थीम
    इस दिवस एक लक्ष्य डिजिटल तकनीकों की वजह से पैदा हुए विभाजन को खत्म करना भी है. इसी को देखते हुए इस साल इंटरनेशनल टेलीकम्यूनिकेशन यूनियन ने इस साल विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस पर थीम रखी है – “बूढ़े लोगों और स्वस्थ्य बढ़ती उम्र के लिए डिजिटल तकनीकी” इसमें शारीरिक, भावनात्मक और वित्तीय स्तर पर दूरसंचार और जानकारी और संचार तकनीकों का स्वस्थ, जुड़े हुए और स्वतंत्र रहने के लिए उपयोग करने पर जो दिया जाएगा.

    Research, World Telecommunication and Information Society Day. World Telecommunication Day, World Telecommunication, Telecommunication

    आज दूरसंचार और सूचना तकनीक (ICT) को सभी तक समान रूप से पहुंचाने की जरूरत है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    सबसे पहले कब मनाया गया यह दिवस
    इस दिन के बारे में बताया जाता है कि सबसे पहले इस दिन को 17 मई 1865 को विश्व दूरसंचार दिवस के नाम से ही मनाया गया था. इसी दिन इंटरनेशनल टेलीकम्यूनिकेशन यूनियन की स्थापना हुई थी. यह स्थापना तुर्की के अंतालिया में हुई इंटरनेशनल टेलीकम्यूनिकेशन यूनियन प्लेनिपोटेंशियरी कॉन्फ्रेंस में हुई थी.

    यह भी पढ़ें: जीन म्यूटेशन से ज्यादा बुद्धिमान भी हो सकते हैं इंसान- शोध

    दो दिवसों का मिलन
    वहीं विश्व सूचना समाज दिवस संयुक्त राष्ट्र आमसभा के एक संकल्प के 17 मई को पारित होने के बाद से मनाया जाता है. इसे साल 2005 में हुई ट्यूनिस में सूचना समाज पर हुए वैश्विक सम्मेलन केबाद से मनाया जा रहा है. इसके बाद नवंबर 2006 में फिर से तुर्की के अंतालिया में आईटीयू का सम्मेलन हुआ और फैसला किया गया कि 17 मई को विश्व दूरंसचार और सूचना समाज दिवस के रूप में ही मनाया जाएगा.

    Research, World Telecommunication and Information Society Day. World Telecommunication Day, World Telecommunication, Telecommunication

    दुनिया में तेजी बुजुर्ग होती जनसंख्या का एक बड़ा भाग है और दूरसंचार तकनीकें (Telecommunication Technologies) इसके लिए बहुत उपयोगी हो सकती हैं. (तस्वीर: Wikimedia Commons)

    दूरसंचार तकनीकी के अवसर
    दुनिया भर में बूढ़ी होती जनसंख्या 21वीं सदी के जनसांख्यिकीय चलन और तौर तरीकों का निर्धारण करेगी. हमारे समाजों को दूरसंचार और सूचना तकनीकी के जरिए पैदा हो रहे अवसरों की बूढ़ी होती आबादी को स्वस्थ रखने के लिए जरूरत है. ये अवसर हमें बेहतर शहर बनाने में मदद कर सकते हैं. कार्यस्थल पर उम्र के आधार पर भेदभाव से लड़ने में मददगार हो सकते हैं. उम्र दराज लोगों को वित्तीय रूप से दुनिया की अर्थव्यवस्था में भागीदार बना सकते हैं.

    यह भी पढ़ें:  फ़्लोरेन्स नाइटिंगेल कैसे बनी ‘द लेडी विद द लैम्प’

    इंटरनेशनल टेलीकम्यूनिकेशन यूनियन के सेक्रेटरी जनरल होऊलिन झाओ ने अपने संदेश में कहा है कि डिजिटल तकनीकियों तक समान रूप से सभी पहुंच ना केवल सभी की नैतिक जिम्मेदारी है, बल्कि यह वैश्विक समपन्नता और संधारणीयता के लिए भी बहुत जरूरी है. ऐसे में उम्रदराज लोगों के लिए स्वास्थ्य तंत्र और उसके लिए काम कर रहे लोगों के लिए तकनीकी सहयता बहुत उपयोगी हो सकती है.

    Tags: Digital world, Research, World

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर