चीन में disagree और I oppose जैसे शब्दों के इस्तेमाल पर है पाबंदी, जानिए क्यों?

चीन में disagree और I oppose जैसे शब्दों के इस्तेमाल पर है पाबंदी, जानिए क्यों?
चीन में कुछ खास शब्दों के इस्तेमाल पर भी सरकारी निगरानी होती है.

VOX न्यूज पर प्रकाशित एक रिपोर्ट कहती है चीन में कई शब्द के इस्तेमाल पर प्रतिबंध (Ban on many words) हैं. आइए जानते हैं कि ये शब्द क्या हैं और चीनी सरकार (Chinese Government) ने इन्हें क्यों बैन किया है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बीते कुछ सालों में राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेतृत्व में चीन ने तानाशाही की तरफ तेजी के साथ कदम बढ़ाए हैं. कोरोना वायरस के बाद चीन के उठाए गए हालिया कुछ कदम तो स्पष्ट तानाशाही के संकेत दे रहे हैं. हांगकांग से लेकर ताइवान तक चीन हर लोकतांत्रिक आवाज को कुचलने पर तुला हुआ है. लेकिन ये तानाशाही प्रक्रिया सिर्फ इतने तक ही सीमित नहीं है. VOX न्यूज पर प्रकाशित एक रिपोर्ट कहती है चीन में कई शब्दों के इस्तेमाल पर भी प्रतिबंध हैं. आइए जानते हैं कि ये शब्द क्या हैं और चीनी सरकार ने इन्हें क्यों बैन किया है.

तकरीबन दो साल पहले शी जिनपिंग को लंबे समय तक शासन में बनाए रखने के बाद राष्ट्रपति पद का कार्यकाल खत्म कर दिया गया था. इरादा साफ था कि इसके बाद शी जिनपिंग मनचाहे समय तक देश की गद्दी पर काबिज रह सकेंगे. इसके तुरंत बाद चीनी सरकार ने देश के विख्यात माइक्रोब्लॉगिंग weibo पर my emperor और lifelong control जैसे शब्दों को बैन कर दिया गया था. दरअसल इन शब्दों को प्रख्यात लेख जॉर्ज ऑरवेल ने अपने नॉवेल में तानाशाही के साथ जोड़ा था. उनकी यह किताब कम्युनिस्ट शासन पर अब तक की सबसे शानदार राजनीतिक व्यंग्य मानी जाती है.

Spy dossier, China, obstructed, Coronavirus vaccine, US, covid-19, अमेरिका, ख़ुफ़िया एजेंसी, कोरोना वायरस, कोरोना की दवा, वैक्सीन
शी जिनपिंग के खिलाफ जाने वाले हर आवाज को दबा दिया जाता है.




to board a plane के इस्तेमाल पर बैन



इतना ही नहीं चीन में to board a plane के प्लेन जैसे आम इस्तेमाल के टर्म्स को भी बैन कर दिया था. तब China Digital Times ने उन शब्दों की पूरी लिस्ट पब्लिश की थी जिनमें बताया गया था कि किन शब्दों को इस्तेमाल करने की मनाही है. तब कहा गया था to board a plane का मतलब कुछ-कुछ सिंहासन पर काबिज होने से मिलता-जुलता है.

इतना ही नहीं माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट पर disagree यानी असहमति शब्द को भी बैन कर दिया गया था. दरअसल ये सब कदम सरकार को उन प्रतिक्रियाओं के मद्देनजर उठाने पड़े थे जो चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर आ रही थीं. इसके बाद सरकार ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स की निगरानी और बढ़ा दी और लोगों की व्यक्तिग पोस्ट्स पर भी सेंसरशिप शुरू हो गई.

कंडोम के ऐड पर मच गया बवाल
कंडोम बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी ड्यूरेक्स के ऐड पर भी बवाल मच चुका है. दरअसल कंडोम के एक ऐड में 'doing it twice is not enough' टर्म का इस्तेमाल किया गया था. कंडोम के इस ऐड को भी शी जिनपिंग के दो बार के शासन से जोड़कर देखा गया. कंपनी मुश्किल में पड़ गई.

इतना ही नहीं देश में immortality, incapable ruler, and I oppose जैसे शब्दों का इस्तेमाल भी माइक्रोब्लॉगिंग साइट्स और सोशल मीडिया पर नहीं किया जाता.

Coronavirus, china, USA, China Hoarded PPE, White House, donald trump, covid19, चीन, पीपीई, व्हाइट हॉउस, डोनाल्ड ट्रंप, जमाखोरी, मास्क, कोरोना वायरस

वैश्विक मीडिया की निगाहें न पड़े इसी वजह से चीन में वहीं की सोशल साइट्स चलती हैं. ट्विटर, फेसबुक जैसे दुनिया के बड़े सोशल प्लेटफॉर्म्स पर पाबंदी है. ऐसा इसलिए किया गया है कि वहां की सरकार के किसी भी तानाशाही कदम के खिलाफ अगर लोगों की प्रतक्रिया भी आए तो सिर्फ देश तक ही सीमित होकर रह जाए. इंटरनेशनल सोशल प्लेटफॉर्म्स से ये बातें पूरी दुनिया में फैल सकती हैं. कहा जाता है कि शी जिनपिंग ने खुद को लंबे समय तक सत्ता में बनाए रखने के लिए किसी भी तरह की विरोधी आवाज को खत्म कर दिया है. जब वो सत्ता में आए थे तभी से देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ भी बड़ी मुहिम चल रही है. लेकिन आलोचक बड़े विश्वास के साथ कहते हैं कि शी जिनपिंग भ्रष्टाचार को नहीं बल्कि अपने विरोधियों का सफाया कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

अब सेक्स के दौरान कोरोना से बचाव की एक्सपर्ट्स ने दी ये सलाह

इस महिला ने तलाक के बाद भरा था 16 हजार करोड़ का 'हर्जाना'

शराब के पैग की वजह से मनु शर्मा ने छीन ली थी जेसिका लाल की जिंदगी, अब हुआ रिहा

तलाक लेकर 24 हजार करोड़ की मालकिन बनी ये महिला, देश के रईस लोगों में हुई शुमार

इस देश में नहीं होता है तलाक, सिर्फ मरने के बाद अलग होते हैं पति-पत्नी
First published: June 4, 2020, 9:03 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading