होम /न्यूज /ज्ञान /

विटामिन तो खूब खाए होंगे, क्या मालूम है इनका आविष्कार करने वालों के बारे में

विटामिन तो खूब खाए होंगे, क्या मालूम है इनका आविष्कार करने वालों के बारे में

विटामिन सी खून को साफ करता है तो ठंड से शरीर की रक्षा करता है. हड्डियों को मजबूत रखने के लिए विटामिन डी की जरूरत होती है. ये कॉड लीवर आयल, अंडे की जर्दी में पाया जाता है. विटामिन ई मोटे अनाजों और अन्य तरह भोज्य पदार्थों में मिलता है. विटामिन के खून के धक्के जमाने में जरूरी काम करता है. ये चोट लगने की स्थिति में निकलने वाले खून को रोकता है ये विटामिन हरी सब्जी जिगर में मिलता है (ShutterStock)

विटामिन सी खून को साफ करता है तो ठंड से शरीर की रक्षा करता है. हड्डियों को मजबूत रखने के लिए विटामिन डी की जरूरत होती है. ये कॉड लीवर आयल, अंडे की जर्दी में पाया जाता है. विटामिन ई मोटे अनाजों और अन्य तरह भोज्य पदार्थों में मिलता है. विटामिन के खून के धक्के जमाने में जरूरी काम करता है. ये चोट लगने की स्थिति में निकलने वाले खून को रोकता है ये विटामिन हरी सब्जी जिगर में मिलता है (ShutterStock)

हम सभी अपनी जिंदगी में विटामिन की दवाएं भी खाते हैं और विटामिन की कमी से हम बीमारियों के शिकार भी हो जाते हैं. विटामिन के बारे में कभी नहीं जानने के बाद ये अंदाज तो हम सभी को है, इनकी कमी तमाम बीमारियों को जन्म देती है. सबसे पहले इनके बारे मे जानते हैं.

अधिक पढ़ें ...

विटामिन वो रासायनिक तत्व हैं जो हमारे शरीर के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होते हैं. अलग अलग भोजन से संबंधित पदार्थों में अलग विटामिन पाए जाते हैं. विटामिन शरीर के लिए इतने अपरिहार्य हैं कि इनके बगैर हम तमाम बीमारियों का शिकार हो सकते हैं. विटामिन हमें निरोग भी रखते हैं और स्वस्थ भी. (ShutterStock)

विटामिन मुख्य तौर पर 06 तरह के होते हैं – ए, बी, सी, डी, ई और के. वास्तव में विटामिन बी विटामिनों का समूह है. सबसे पहले दुनिया को विटामिनों के बारे में एक डच बैक्टीरिया एक्सपर्ट क्रिश्चियन एजिकमेन ने बताया था. (ShutterStock)

उन्हें भी इसका पता कुछ रिसर्च के बाद लगा. उन्होंने देखा कि जिन चूजों को पालिश किया हुआ चावल खिलाया जाता है वो बीमार पड़ जाते हैं. इससे उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि चावल के दानों की ऊपरी परत निकालकर पालिश करने से उस तत्व की कमी हो जाती है. जिसे विटामिन कहा जाता है.

वर्ष 1886 में एजिकमेन इंडोनेशिया गए. वहां उस समय बेरबेरी बीमारी फैली हुई थी. वह इस बीमारी के बारे में रिसर्च करना चाहते थे और ये देखना चाहते थे कि इसके फैलने के पीछे वजह क्या है. इससे बहुत से लोग मर भी गए थे. बाद में वह इस बात का पता लगाने में सफल हो गए कि दरअसल ये बीमारी कुछ पोषक तत्वों की कमी से हो रही है. इसी बात से विटामिनों की खोज शुरू हुई और ये पता लगा कि कैसे विटामिन हमारे शरीर के लिए जरूरी हैं.

एजिकमेन ने अपनी पूरी जिंदगी विटामिन के बारे में जानने में लगा दी लेकिन वह पूरी तरह इसके महत्व को नहीं जान सके. बाद में ब्रिटेन के वैज्ञानिक फ्रेडरिक हापकिन ने सिद्धांत दिया कि मनुष्य को स्वस्थ रहने के लिए कुछ खास तत्वों की निश्चित मात्र की जरूरत होती है. उन्होंने बताया कि रिकेट्स (सूखा रोग) और स्कर्वी (एक तरह की खून की बीमारी) जैसी बीमारियों को भोजन में कुछ जरूरी चीजों का इस्तेमाल करके ठीक किया जा सकता है. बाद में उनकी ये बात सही पाई गई. उन्हीं के अनुसार विटामिनों के नाम दिए गए.

वास्तव में विटामिनों को कई स्रोतों से पाया जा सकता है. जैसे विटामिन ए दूध, मक्खन, मछली और हरी सब्जियों से मिलता है. रोगों से लड़ने में ये बहुत कारगर होता है. विटामिन बी की जरूरत स्वस्थ, भूख, ताकत, त्वचा और स्नायुओ के लिए होती हैये मांस, अनाज और खमीर में मिलते हैं. (ShutterStock)

विटामिन सी खून को साफ करता है तो ठंड से शरीर की रक्षा करता है. हड्डियों को मजबूत रखने के लिए विटामिन डी की जरूरत होती है. ये कॉड लीवर आयल, अंडे की जर्दी में पाया जाता है. विटामिन ई मोटे अनाजों और अन्य तरह भोज्य पदार्थों में मिलता है. विटामिन के खून के धक्के जमाने में जरूरी काम करता है. ये चोट लगने की स्थिति में निकलने वाले खून को रोकता है ये विटामिन हरी सब्जी जिगर में मिलता है (ShutterStock).

विटामिन हमारे शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत जरूरी. खासकर थकान, आलस दूर करने औऱ ऊर्जा बनाए रखने के लिए ये उपयोगी है. इस खास खोज के लिए क्रिश्चियन एजिकमेन औऱ फ्रेडरिक हाफकिन को 1929 में नोबल पुरस्कार से भी नवाजा गया. (ShutterStock)

Tags: Health, Medicines, Nutrition

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर