प्रेग्नेंसी में मूड स्विंग को कंट्रोल करने के 5 आसान उपाय, आपको पता है क्या?

प्रेग्नेंसी में मूड स्विंग को कंट्रोल करने के 5 आसान उपाय, आपको पता है क्या?
कम उम्र में प्रेग्नेंसी के चलते हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है.

मूड स्विंग के दौरान अचानक कभी भूख लग जाती है तो कभी किसी बात पर गुस्सा आ जाता है. यहां तक कि कई महिलाएं इस दौरान छोटी-छोटी बातों पर रोने और चीखने-चिल्लाने भी लगती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2020, 2:14 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में कई तरह के उतार-चढ़ाव आते हैं. हॉर्मोन का लेवल बदलना, शारीरिक परिवर्तन, थकान, स्ट्रेस, खाने में बदलाव और मूड स्विंग आपके लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है. अगर आप प्रेग्नेंट हैं और आपके मूड में बार-बार बदलाव हो रहा है तो आपको इसे समझने की जरूरत है.

प्रेग्नेंट महिलाओं को आमतौर पर 6 से 10 सप्ताह के बीच मूड स्विंग का अनुभव होता है. मूड स्विंग के दौरान अचानक कभी भूख लग जाती है तो कभी किसी बात पर गुस्सा आ जाता है. यहां तक कि कई महिलाएं इस दौरान छोटी-छोटी बातों पर रोने और चीखने-चिल्लाने भी लगती हैं. ऐसे में कुछ टिप्स हैं जिनकी मदद से आप प्रेग्नेंसी के दौरान अपने मूड को सही रख सकती हैं.

इसे भी पढ़ेंः क्या आप बार-बार आंख मसलते हैं? हो सकती है गंभीर बीमारी



भरपूर नींद लें



एक अच्छी और पूरी नींद लेना प्रेग्नेंसी के दौरान बहुत जरूरी होता है. अच्छी नींद लेना बच्चे के विकास के लिए भी बहुत जरूरी होता है. साथ ही एक अच्छी नींद प्रेग्नेंट मां को कई प्रकार के तानव से दूर रखती है. इस दौरान अपने आराम का पूरा ख्याल रखें.

नियमित एक्सरसाइज करें
प्रेग्नेंसी के दौरान नियमित रूप से एक्सरसाइज करना या फिर वॉक करना बहुत जरूरी होता है. एक्सरसाइज, मस्तिष्क को सेरोटोनिन, फील-गुड केमिकल जारी करने के लिए उत्तेजित करता है और तनाव और परेशानी से राहत दिलाने में मदद करता है. प्रेग्नेंसी में योग करने से भी नींद में सुधार, तनाव और चिंता को कम करने में मदद मिलती है.

अच्छे से खाएं-पिएं
गर्भावस्था के दौरान, आपके शरीर को पोषण की बहुत जरूरत होती है. एक खराब डाइट आपके मूड को प्रभावित कर सकता है. छोटे, नियमित और स्वस्थ स्नैक्स खाने से आपके मूड स्विंग को ठीक करने में मदद मिल सकती है. वहीं पानी की कमी से डिहाइड्रेशन हो सकता है, जिससे चिड़चिड़ापन और अवसाद पैदा होने का डर रहता है. इसलिए इस दौरान खूब पानी पिएं. आप हर्बल चाय और जूस का सेवन भी कर सकती हैं.

अपने पसंद का काम करें
अपने पसंद का काम करने से आप खुश रहते हैं. इसलिए गर्भावस्था के दौरान कुछ ऐसा करें जो प्रेग्नेंसी के उन सभी विचारों को मन में आने से रोके, जो आपको परेशान कर सकता है. वहीं गर्भावस्था के दौरन अपने मन के काम में लगे रहने से मूड स्विंग में कमी आ सकती है. ऐसे में दोस्तों के साथ मूवी देखने जाएं, पेंटिंग करें या कुछ इनडोर गेम्स खेलें.

इसे भी पढ़ेंः हेल्दी रहने के लिए ऐसे करें इसबगोल का इस्तेमाल, कब्ज से लेकर बीपी तक की परेशानी होगी दूर

खुल कर हंसें
हंसने से आपके दिमाग में फील-गुड केमिकल्स रिलीज होते हैं, जो तनाव को कम करता है. इस तरह आप तनावमुक्त महसूस करते हैं. हंसना आपकी मांसपेशियों को शांत कर सकता है और आपको सकारात्मक महसूस करने में मदद कर सकता है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.
First published: February 22, 2020, 2:14 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading