Home /News /lifestyle /

पीरियड्स में होने वाले दर्द को कम करने के 7 असरदार आयुर्वेदिक नुस्खे

पीरियड्स में होने वाले दर्द को कम करने के 7 असरदार आयुर्वेदिक नुस्खे

कुछ महिलाओं को पीरियड्स के दौरान तेज दर्द, सूजन और उल्टी की शिकायत रहती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर - Shutterstock)

कुछ महिलाओं को पीरियड्स के दौरान तेज दर्द, सूजन और उल्टी की शिकायत रहती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर - Shutterstock)

Tips for Period Pain : पीरियड्स के दौरान ऐंठन और दर्द से लंबे समय तक राहत पाने के लिए आप कई चीजों को अपने डेली रूटीन में शामिल कर सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    Tips for Period Pain : महिलाओं के उनके पीरियड्स (Menstrual Cycle ) के दौरान कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. हर महिला के पीरियड्स अलग होते हैं, किसी को यह दर्द रहित होते हैं, तो किसी को इस दौरान तेज दर्द, सूजन और उल्टी की शिकायत रहती है. ये दौर शारीरिक रूप से परेशानी देने वाला ही नहीं होता है, बल्कि इससे मानसिक परेशानी भी बनी रहती है. स्पेशलिस्ट बताते हैं कि दवाओं पर निर्भर रहने से कुछ समय के लिए तो राहत मिल जाती है, लेकिन इस समस्या के मूल कारण का इलाज करने के लिए आपको अपनी इंटरनल हेल्थ पर काम करने की जरूरत है.

    इंडियन एक्सप्रेस डॉटकॉम की खबर के मुताबिक, आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ अलका विजयन ने हाल ही में इंस्टाग्राम पर इससे जुड़े कुछ प्रभावी टिप्स साझा किए हैं.  पीरियड्स के दौरान ऐंठन और दर्द से लंबे समय तक राहत पाने के लिए इसे आप अपने डेली रूटीन में शामिल कर सकते हैं.

    डॉ अलका का कहना हैं, “ये उपाय तुरंत ठीक करने वाले नहीं हैं, लेकिन इससे निश्चित रूप से आपके वात (वायु) को नियंत्रण में रखने के लिए कारगर है. जिसके बिगड़ने से पीरियड्स के दौरान गंभीर ऐंठन, डकार, सिरदर्द, उल्टी और क्या-क्या नहीं होता है.’

    यह भी पढ़ें- कोरोना से घर पर ठीक हुए मरीजों में किडनी डैमेज का खतरा 23% अधिक – रिसर्च

    उन्होंने आगे बताया, ‘ये वो छोटी-छोटी चीजें हैं, जो हमारी दादी-नानी रोजाना खाना पकाने में शामिल करती थीं, जिसने उनके और उनकी बेटी के गर्भाशय के स्वास्थ्य को बरकरार रखा.  दुर्भाग्य से इन उपायों को हमने यह सोचकर दरकिनार कर दिया कि वे मॉडर्न नहीं हैं या उन्हें उपयोगी साबित करने के लिए अभी तक कई ‘स्टडी’ नहीं हुई है.

    डॉ अलका ने 7 टिप्स बताएं हैं

    –  सौंफ की चाय पिएं

    –  खाना पकाने के लिए तिल के तेल का प्रयोग करें

    – तिल के तेल से रोजाना शरीर की मालिश करें

    – खाना पकाने में अधिक जीरा, सौंफ शामिल करें

    –  पीरियड्स के दौरान वर्कआउट से बचें

    –  बाकी दिनों में रूटीन एक्सरसाइज करें.

    –  चीनी और मिठाइयों का सेवन कम करें

    डॉ अलका के अनुसार, “आयुर्वेद में स्पष्ट कारण हैं कि क्यों और कैसे ये हमारी किचन के विकल्प वात या गर्भाशय के संकुचन (Uterine Contractions) को नियंत्रण में रखने में सहायक होते हैं” अब क्या आप इन्हें आजमाएंगे?

    Tags: Health, Health News, Lifestyle, Women Health

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर