भारत में मांएं स्मार्टफोन के भरोसे पाल रही हैं बच्चे!

शोध में यह बात भी सामने आई है कि भले ही मॉडर्न मॉम्स पैरंटिंग टिप्स के लिए ऐप का इस्तेमाल कर रही हैं लेकिन वो ज़्यादातर भरोसा परिवार और ऑफलाइन सपॉर्ट ग्रुप पर करती हैं.

News18Hindi
Updated: May 13, 2019, 12:43 PM IST
भारत में मांएं स्मार्टफोन के भरोसे पाल रही हैं बच्चे!
indian mothers depend on smartphones for parenting tips
News18Hindi
Updated: May 13, 2019, 12:43 PM IST
पहले के समय में नई माएं शिशु के लालन-पालन और देखभाल के लिए जहां अपनी मां और सासू मां के नुस्खों और बातों पर भरोसा करती थीं वहीँ मॉडर्न मॉम्स अपने नवजात बच्चे की परवरिश के लिए टेक्नोलॉजी पर निर्भर हैं. कुछ समय पहले हुए एक सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है कि वर्तमान समय में ज़्यादातर महिलाएं बच्चे की सही परवरिश के लिए गूगल और स्मार्टफोन पर भरोसा करती हैं. तकनीक ने मॉडर्न मॉम्स को वो आत्मविश्वास दिया है कि वो अपने बच्चे के लालन-पालन को लेकर इतनी आत्म-निर्भर हो चुकी हैं कि अब इसके लिए उन्हें किसी और का मुंह ताकने की जरूरत नहीं है. सर्वे में खुलासा हुआ कि भारत में लगभग 70 फीसदी माएं अपने बच्चों के लिए स्मार्टफोन का प्रयोग करती हैं.

Happy Birthday Sunny Leone: सनी के बर्थडे पर जानिए उनकी फिटनेस का राज और Secret Food मंत्रा!



इस सिलसिले में 10 में से 8 मांओं ने यह बात मानी भी है कि तकनीक की वजह से ही बच्चे की परवरिश के लिए उन्हें अब किसी और का मुंह नहीं देखना पड़ता है और लालन-पालन अब काफी आसान हो गया है. इस मामले में स्मार्टफोन एक ऐसा डिवाइस बन चुका है जिससे मॉडर्न मॉम्स बच्चों की परवरिश सही तरीके से कर पाती हैं. हालांकि इसके बाद भी भारत में केवल 38 फीसदी लोग ही ऐसे हैं जो इस मामले में अपने परिचितों को स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने का परामर्श देते हैं.



इसे लेकर डेटा ऐनालिटक्स फर्म यूगोव (YouGov) और इंटरनेट-बेस्ड मार्केट रिस ने एक शोध किया जिसमें इस बात का खुलासा हुआ कि भारत में तकरीबन 70 फीसदी माएं अपने बच्चों के लालन-पालन और सही परवरिश के लिए स्मार्टफोन और गूगल ऐप पर मौजूद पैरंटिंग ऐप्स का प्रयोग करती हैं.

तुलसी के पास भूलकर भी न रखें ये सामान, हो जाएंगे गरीब!

शोध में यह बात भी सामने आई है कि भले ही मॉडर्न मॉम्स पैरंटिंग टिप्स के लिए ऐप का इस्तेमाल कर रही हैं लेकिन वो ज़्यादातर भरोसा परिवार और ऑफलाइन सपॉर्ट ग्रुप पर करती हैं. हालांकि इसके बाद भी 50 फीसदी नई मांएं ऐसी हैं जो बच्चे की पर्वाशिश के लिए ऑनलाइन जानकारी और ऐप्स को खंगालती हैं.लाइफस्टाइल, खानपान, रिश्ते और धर्म से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार