85 साल की शांताबाई पवार कोरोना काल में भी नहीं रुकीं, 'चला रही' हैं लाठी!

85 साल की शांताबाई पवार कोरोना काल में भी नहीं रुकीं, 'चला रही' हैं लाठी!
अपने परिवार की आजीविका के लिए वह बूढ़ी महिला लॉकडाउन में शहर की सड़कों पर अपने छड़ी से लड़ने का कौशल दिखा रही हैं.

महाराष्ट्र के पुणे (Pune) में एक 85 वर्षीय महिला शांताबाई पवार (Shantabai Pawar) आजीविका कमाने के लिए सड़कों पर 'लाठी काठी' (Lathi Kathi) का करतब करती नजर आईं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 25, 2020, 12:48 PM IST
  • Share this:
कोरोना (Corona) महामारी से बचने के लिए चल रहे लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान ही महाराष्ट्र के पुणे (Pune) में एक 85 वर्षीय महिला शांताबाई पवार (Shantabai Pawar) आजीविका कमाने के लिए सड़कों पर 'लाठी काठी' (Lathi Kathi) का करतब करती नजर आईं. अपने परिवार की आजीविका के लिए वह बूढ़ी महिला लॉकडाउन में शहर की सड़कों पर अपने छड़ी से लड़ने का कौशल दिखा रही हैं. उनके परिवार में अनाथ बच्चे भी शामिल हैं जिनका वह पालन-पोषण करती हैं. उनका वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर जमकर वायरल (Viral) हो रहा है. 85 वर्षीय शांताबाई उन सारी महिलाओं के लिए एक बहुत बड़ी प्रेरणा हैं जो इस समय घरों में बंद है. इस उम्र में और इस संकट की घड़ी में इस तरह के करतब दिखाना आसान बात नहीं है. इस उम्र तक आते आते तो कई पुरुष भी हौसला खो देते हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो को न केवल तारीफ मिल रही है बल्कि कई लोग राशन और वित्तीय सहायता देने के लिए आगे आए हैं. फिल्म अभिनेता रितेश देशमुख ने उन्हें माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट पर 'योद्धा आजी' (योद्धा दादी) के रूप में वर्णित किया और उनसे संपर्क भी किया है. पवार ने कहा कि उन्होंने 8 साल की उम्र से लाठी चलाने का कौशल सीखना शुरू कर दिया था और इसे प्रदर्शित करने के लिए विभिन्न स्थानों की यात्रा की, लेकिन लॉकडाउन के चलते सब कुछ रुक गया.
शांताबाई ने बाताय कि उनके पिता ने उन्हें कड़ी मेहनत करना सिखाया था. इस वक्त ज्यादातर लोग कोरोना के कारण घर के अंदर ही रहते हैं. ऐसे में वह करतब दिखाने के साथ उन्हें सचेत भी करती हैं. उन्होंने बताया कि दुकान वालों ने उन्हें किराने का सामान देना बंद कर दिया था. एक बड़े परिवार में इतने सारे बच्चे थे जिनका पेट भरना मुश्किल हो रहा था, इसलिए उन्होंने सड़कों पर अपने करतब को  दिखाने का फैसला किया, ताकि उनके करतब को देखकर लोग उन्हें पैसे दे सकें. आर्थिक सहायता मिलने से परिवार के सारे सदस्य खुश नजर आ रहे थे.

इन दिनों सड़कों पर शांताबाई के करतब को देखने के लिए काफी भीड़ उमड़ रही है. सभी लोग उनके करतब को काफी पसंद कर रहे हैं. 85 साल की उम्र में भी उनके करतब हैरतअंगेज हैं, जो किसी भी चौंका सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading