अरेंज मैरिज बनी सुंदरता का पैमाना? 90 फीसदी महिलाएं रिजेक्शन की शिकार

अरेंज मैरिज सुंदरता का पैमाना बनती जा रही है? जानें

अरेंज मैरिज सुंदरता का पैमाना बनती जा रही है? जानें

'इंडिया ब्यूटी टेस्ट' नाम के इस सर्वे में 1057 महिलाओं ने भाग लिया. स्टडी में यह बात सामने आई कि 68 फीसदी महिलाओं को रिजेक्शन (ठुकराए जाने) की वजह से आत्म सम्मान और आत्म विश्वास को काफी ठेस पहुंची

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 2:14 PM IST
  • Share this:
अरेंज मैरिज (पारंपरिक विवाह) में अक्सर ही गोरी दुल्हनें पसंद की जाती हैं. टाइम्स ने एक ब्यूटी ब्रांड की स्टडी का हवाला देते हुए यह रिपोर्ट छापी है. इस स्टडी में यह बात सामने आई कि कई महिलाएं 'पतली, लंबी और गोरी' के पैमाने के कारण अपने शरीर को लेकर भ्रम का शिकार हो जाती हैं.

'इंडिया ब्यूटी टेस्ट' नाम के इस सर्वे में 1057 महिलाओं ने भाग लिया. स्टडी में यह बात सामने आई कि 68 फीसदी महिलाओं को रिजेक्शन (ठुकराए जाने) की वजह से आत्म सम्मान और आत्म विश्वास को काफी ठेस पहुंची और 74 फीसदी महिलाओं ने यह माना है कि अरेंज मैरिज में उनपर खूबसूरत दिखने का काफी दबाव था. साथ ही इतनी ही महिलाओं ने यह भी स्वीकार किया कि सुन्दरता के पैमाने पर खरा न उतर पाने के कारण उन्हें रिजेक्शन का सामना करना पड़ा.

Also Read: प्यार की तलाश में हैं लोग! क्या शादी से उठ गया है विश्वास?



ऑनलाइन मौजूद आंकड़ों पर अगर नज़र डाली जाए तो भारत में होने वाली 90 फीसदी शादियां अरेंज मैरिज (पारंपरिक विवाह) ही हैं. और यहां जो मैच है वो या तो लोगों द्वारा सुझाए जाते हैं या किसी वेबसाइट या कंपनी द्वारा. यहां पर मैच मेकिंग का फार्मूला भी खूबसूरती के पैमाने जैसे त्वचा का रंग, लम्बाई और वजन ही है.
इस स्टडी में मैचमेकर्स वेबसाइट/कंपनी और लोगों की गहराई से पड़ताल की गई है. जैसे कि, अगर किसी लड़की के छोटे बाल हैं तो 1000 मामलों में केवल 1 या 2 के ही चुने जाने के अवसर हैं. ऐसे ही एक मैच मेकर ने बताया कि एक मामले में भावी वर की मां का कहना था- लड़की गोरी होनी चाहिए, चेहरा गोल होना चाहिए, नाक लंबी होनी चाहिए, लंबे बाल होने चाहिए. लंबा चेहरा (वी शेप चेहरा) बिलकुल नहीं चलेगा .
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज