होम /न्यूज /जीवन शैली /

एलर्जी से होने वाली बीमारियों का मेंटल हेल्थ से कोई कनेक्शन नहीं- रिसर्च

एलर्जी से होने वाली बीमारियों का मेंटल हेल्थ से कोई कनेक्शन नहीं- रिसर्च

मेंटल हेल्थ से जुड़ी सामान्य बीमारियों और एलर्जी की बीमारी का प्रसार कुछ समय से बढ़ रहा है.  (प्रतीकात्मक फोटो- shutterstock.com)

मेंटल हेल्थ से जुड़ी सामान्य बीमारियों और एलर्जी की बीमारी का प्रसार कुछ समय से बढ़ रहा है. (प्रतीकात्मक फोटो- shutterstock.com)

Allergy diseases connection with mental health : एलर्जी वाली बीमारियों से बेचैनी, अवसाद, सिजोफ्रेनिया (anxiety, depression, schizophrenia) जैसे मानसिक रोग होते हैं, या इन रोगों से एलर्जी संबंधी रोग होते हैं?

    Allergy diseases connection with Mental Health : एलर्जी (Allergy) से होने वाली बीमारियों का मानसिक स्वास्थ्य यानी मेंटल हेल्थ (Mental Health) से कोई लेना देना नहीं है. ये जानकारी ब्रिटेन की ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी (Bristol University) के नेतृत्व में की गई रिसर्च में सामने आई है. दैनिक जागरण में छपी रिपोर्ट के अनुसार, इस रिसर्च में दावा किया गया है कि एलर्जी से होने वाली बीमारियां जैसे अस्थमा, दाद (खुजली) और हाई फीवर का मेंटल हेल्थ से कोई लेना-देना नहीं है. इस रिसर्च के नतीजे क्लीनिकल एंड एक्सपेरिमेंटल एलर्जी (Clinical and Experimental Allergy) जरनल में प्रकाशित किए गए हैं. करीब 12 हजार से लेकर साढ़े 3 लाख लोगों के बड़े सैंपल पर यह प्रयोग किया गया.

    आपको बता दें कि पहले स्टडी में मेंटल हेल्थ और सामान्य एलर्जी से जुड़े रोगों के बीच अवलोकनात्मक संबंध यानी ऑब्जर्वेशनल रिलेशनशिप (observational relationship) होने की बात बताई गई थी. लेकिन अभी तक उसके कारक कारणों के बीच संबंध स्थापित नहीं हो सका है. ब्रिस्टल मेडिकल स्कूल के पॉपूलेशन हेल्थ साइंस और साइकॉलोजिकल साइंस (Population Health Science and Psychological Science) के रिसर्चर्स ये पता चलाना चाहते थे कि एलर्जी वाली बीमारियों से बेचैनी, अवसाद, सिजोफ्रेनिया (anxiety, depression, schizophrenia) जैसे मानसिक रोग होते हैं, या इन रोगों से एलर्जी संबंधी रोग होते हैं? रिसर्च करने वालों ने एलर्जी से होने वाले रोगों और मानसिक रोगों के लक्षण के बीच अवलोकनात्मक संबंध की पहचान की. लेकिन रिसर्च टीम को इसके विश्लेषण में वो बात नहीं मिली.

    यह भी पढ़ें- अगर आप अपनी जिंदगी में खुश रहना चाहते हैं तो इन आसान तरीकों को अपनाइए

    रिसर्च में क्या निकला
    इस रिसर्च के मुताबिक, एलर्जी की बीमारी की शुरुआत और मेंटल हेल्थ के बीच मिले बहुत कम सबूत ये बताते हैं अवलोकनात्मक संबंध भ्रमित करने या पूर्वाग्रह के अन्य रूपों के कारण पाए गए थे.

    रिसर्च के लेखकों ने निष्कर्ष निकाला है कि एलर्जी रोग की शुरुआत में हस्तक्षेप करने से मानसिक स्वास्थ्य परिणामों में सुधार की संभावना नहीं है. इसी तरह, मानसिक स्वास्थ्य लक्षणों की शुरुआत को रोकने से एलर्जी की बीमारी का खतरा कम नहीं होगा. हालांकि, यह जांचने के लिए और शोध की आवश्यकता है कि क्या शुरुआत के बाद एलर्जी की बीमारी के बढ़ने पर हस्तक्षेप करने से मानसिक स्वास्थ्य पर कोई प्रभाव पड़ता है या नहीं.

    यह भी पढ़ें- वायु प्रदूषण से बुजुर्गों को इन बीमारियों का हो सकता है खतरा, ऐसे करें बचाव

    मुख्य शोधकर्ता ने क्या कहा
    इस रिसर्च की मुख्य लेखक और ब्रिस्टल मेडिकल स्कूल में सीनियर रिसर्च एसोसिएट डॉ एशले बुडु-एग्रे (Dr Ashley Budu-Aggrey)ने कहा है, “एंग्जाइटी और डिप्रेशन जैसे कॉमन मेंटल हेल्थ डिसऑर्डर के वैश्विक बोझ में सबसे बड़े योगदानकर्ता हैं, मेंटल हेल्थ से जुड़ी ऐसी सामान्य बीमारियां और एलर्जी से होने वाली बीमारियों का प्रसार कुछ समय से बढ़ रहा है. इस रिसर्च से एलर्जी रोगों और मानसिक स्वास्थ्य के बीच संबंधों की प्रकृति को अलग करने से एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य प्रश्न का उत्तर देने में मदद मिलती है, वो ये है कि एलर्जी रोग की शुरुआत मानसिक स्वास्थ्य लक्षणों की शुरुआत नहीं बनती है, ऐसे ही मानसिक स्वास्थ्य लक्षणों की शुरुआत एलर्जी रोग की शुरुआत का कारण नहीं बनती है.”

    Tags: Health, Health News, Lifestyle

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर