• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • Ambedkar Jayanti 2020: अंबेडकर जयंती पर शेयर करें बाबा साहब के ये प्रेरणादायक विचार

Ambedkar Jayanti 2020: अंबेडकर जयंती पर शेयर करें बाबा साहब के ये प्रेरणादायक विचार

डॉक्टर भीमराव आंबेडकर के ये प्रेरणादायक विचार पढ़ें

डॉक्टर भीमराव आंबेडकर के ये प्रेरणादायक विचार पढ़ें

अंबेडकर जयंती (Ambedkar Jayanti 2020): डॉक्टर भीमराव आंबेडकर ने भारतीय संविधान के निर्माण में अमूल्य योगदान दिया. हालांकि अपने प्रारंभिक जीवन में उन्हें जातिगत भेदभाव का सामना करना पड़ा.

  • Share this:
    अंबेडकर जयंती (Ambedkar Jayanti 2020): डॉक्टर भीमराव अंबेडकर (BabaSahed Ambedkar) को भारतीय संविधान का जनक कहा जाता है. बाबा साहब स्वतंत्र भारत के पहले विधि एवं न्याय मंत्री थे. डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने भारतीय संविधान के निर्माण में अमूल्य योगदान दिया. हालांकि अपने प्रारंभिक जीवन में उन्हें जातिगत भेदभाव का सामना करना पड़ा. शायद तभी ही बालक अंबेडकर ने मन में यह निश्चय कर लिया था कि वो समाज को इस कुप्रथा से आजाद करा कर रहेगा. आज बाबा साहब का जन्मदिन हैं. पढ़ें उनकी कुछ प्रेरणादायक विचार...

    -जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते,कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके लिये बेमानी है.

    - अगर मुझे कभी भी इस बात का एहसास हुआ कि संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा. जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते,कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके लिये बेमानी है.

    - मैं ऐसे धर्म को मानता हूं जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाता है.यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं तो सभी धर्मों के शास्त्रों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए. समानता एक कल्पना हो सकती है लेकिन इसे गवर्निंग सिद्धांत के रूप से स्वीकार करना जरुरी है.

    - जो कौम अपना इतिहास तक नहीं जानती है वो कौम कभी अपना इतिहास भी नहीं बना सकती है. कौन सा समाज कितना तरक्की कर चुका है, इसे जानने के लिए उस समाज के महिलाओं की डिग्री देख लीजिए.

    -इतिहास बताता है कि जहां नैतिकता और अर्थशास्त्र के बीच संघर्ष होता है, वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है. निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है, जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल न लगाया गया हो.

    - जीवन लम्बा होने के बजाय महान होना चाहिए. मैं ऐसे धर्म को मानता हूं जो स्वतंत्रता,समानता और भाईचारा सिखाता है. यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं तो सभी धर्मों के शास्त्रों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए. हिन्दू धर्म में विवेक, कारण और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज