Ayushman Bharat Diwas: क्या है आयुष्मान भारत योजना, कैसे करती है ये काम

आयुष्मान भारत दिवस पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के बारे में जागरूकता पैदा करने के साथ ही सामाजिक, आर्थिक और जातिगत जनगणना डेटाबेस को सत्यापित और अपडेट करने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में ग्राम सभाओं का आयोजन किया जाता है.
आयुष्मान भारत दिवस पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के बारे में जागरूकता पैदा करने के साथ ही सामाजिक, आर्थिक और जातिगत जनगणना डेटाबेस को सत्यापित और अपडेट करने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में ग्राम सभाओं का आयोजन किया जाता है.

केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत देश के निम्न आय वाली एक बड़ी आबादी के प्रत्येक परिवार को हर साल पांच लाख रुपए तक की स्वास्थ्य सुविधा निशुल्क दी जाती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 3:49 PM IST
  • Share this:
आयुष्मान भारत योजना का उद्देश्य देशवासियों के स्वास्थ्य का ख्याल रखना और उनकी लंबी आयु की कामना करना है. योजना के नाम से ही इसका उद्देश्य साफ नजर आता है. इस योजना को प्रत्येक वर्ष 30 अप्रैल को देश में आयुष्मान भारत दिवस के रूप में मनाया जाता है. दरअसल दो साल पहले 2018 में आज ही के दिन देश में आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत हुई थी. केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत देश के निम्न आय वाली एक बड़ी आबादी के प्रत्येक परिवार को हर साल पांच लाख रुपए तक की स्वास्थ्य सुविधा निशुल्क दी जाती है. दुनिया के दूसरे देश भी भारत की इस स्वास्थ्य योजना का लोहा मानती है.

आयुष्मान भारत योजना देश के गरीब वर्ग के लोगों के लिए काफी मददगार साबित हो रही है और लोग इसका लाभ ले पा रहे हैं. आयुष्मान भारत दिवस पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के बारे में जागरूकता पैदा करने के साथ ही सामाजिक, आर्थिक और जातिगत जनगणना डेटाबेस को सत्यापित और अपडेट करने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में ग्राम सभाओं का आयोजन किया जाता है. हालांकि इस बार देश में जारी लॉकडाउन के कारण बहुत सारे कार्यक्रम संभव नहीं हो पा रहे हैं. देशभर के स्वास्थ्यकर्मी फिलहाल कोरोना के खिलाफ जंग में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं. आयुष्मान भारत योजना का मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों खासतौर पर बीपीएल कार्डधारकों को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है.

कब शुरू हुई आयुष्मान भारत योजना 
21 मार्च 2018 को केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन शुरू करने की मंजूरी दी थी और 30 अप्रैल 2018 से इसकी शुरुआत कर दी गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ के बीजापुर में इस योजना का शुभारंभ किया था जिसके माध्यम से 10 करोड़ से ज्यादा परिवारों के लगभग 50 करोड़ लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा देने का दावा किया गया है. इस योजना के अंतर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को पांच लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जाता है. इसके तहत बेहद गंभीर बीमारियों को भी इलाज के लिए बीमा कवर में शामिल किया गया है.
दरअसल राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना ही आयुष्मान भारत योजना में तब्दील हो चुकी है जिसके तहत केंद्र सरकार 10 करोड़ गरीब और कमजोर परिवारों के लगभग 50 करोड़ सदस्यों का स्वास्थ्य बीमा कवर कर रही है. यह योजना हर परिवार के लिए प्रत्येक साल 5 लाख की धनराशि तक को अस्पताल में देखभाल के लिए कवर करती है. आपको बता दें कि इस योजना का लाभ पूरे देश में कहीं भी सरकारी या सूचीबद्ध निजी अस्पतालों में लिया जा सकता है.



यह योजना कल्याण केंद्र योजना से भी जुड़ी है जिसके तहत स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र में दी जाने वाली सेवाओं को शामिल किया गया है. इसमें निम्नलिखित योजनाएं शामिल हैं.

गर्भावस्था देखभाल और स्वास्थ्य सेवाएं
नवजात और शिशु स्वास्थ्य सेवाएं
बाल स्वास्थ्य संक्रामक रोग
मानसिक बीमारी के लिए आपातकालीन चिकित्सा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज