Home /News /lifestyle /

आंखों के पास नजर आने लगे हैं क्रो फीट? जानें समाधान

आंखों के पास नजर आने लगे हैं क्रो फीट? जानें समाधान

उम्र के साथ स्किन की इलास्टिन कम होने लगती है. Image: shutterstock

उम्र के साथ स्किन की इलास्टिन कम होने लगती है. Image: shutterstock

How To Get Rid Of Crow Feet: उम्र (Age) बढ़ने के साथ ही आंखों के आसपास क्रो फीट (Crow Feet) यानी झुर्रियां और मोटी-मोटी लाइन्‍स नजर आने लगती हैं. ये बढ़ती उम्र के संकेत हैं.

    Remedies For Crow’s Feet: उम्र बढ़ने के साथ चेहरे पर रिंकल स्‍वाभाविक प्रकिया है जिसे रोका नहीं जा सकता. हालांकि, हम अपने लाइफस्‍टाइल में बदलाव लाकर एजिंग की स्‍पीड को कम कर सकते हैं. दरअसल, जब हमारी उम्र (Age) बढ़ती है तो इसका पहला असर हमारी आंखों के आसपास नजर आता है. यहां की स्किन (Skin) बहुत ही संवेदनशील होती है, जिस वजह से यहां काले घेरे और झुर्रियां सबसे पहले नजर आती हैं. ऐसा ही एक संकेत है क्रो फीट.

    आंखों के आसपास 3-4 धारदार लाइन्स को ही क्रो फीट कहा जाता है. जानें इनसे छुटकारा पाने के तरीके

    जानें क्‍या है क्रो फीट

    हेल्‍थशॉट के मुताबिक, क्रो फीट आंखों के बाहरी कोनों पर बनने वाले फाइन लाइंस और झुर्रियों को कहा जाता है, जो दो तरीके के होते हैं. एक होता है डायनेमिक (Dynamic) और दूसरा होता है स्टेटिक (Static). डायनेमिक रिंकल्स मुख्य रूप से चेहरे के भावों के कारण होती हैं. ये आपकी मुस्कान, भावभंगिमा और भौंहों के एक्‍सप्रेशन से बनते हैं. जबकि स्टेटिक रिंकल्स गुरुत्वाकर्षण और उम्र बढ़ने की वजह से होते हैं. दरअसल, उम्र के साथ स्किन की इलास्टिन कम होने लगती है.

    इसे भी पढ़ें : फ्लोरल दुपट्टे को इस तरह करें स्टाइल, हर ड्रेस लगेगा नया-नया

     

    कैसे रोकें इसे?

    – फेस एक्‍सरसाइज करें.

    – संतुलित आहार लें.

    – यूवी किरणों से बचने के लिए सनस्क्रीन लगाएं.

    – त्वचा को ड्राई होने से बचाएं.

    – धूप में जाने से बचें.

    – धूप में सनग्‍लास का प्रयोग करें.

    – चेहरे को सुबह शाम मॉइस्चराइज करें.

    क्रो फीट का क्‍या है इलाज?

    1. बोटॉक्स

    बोटॉक्स एक ऐसा इलाज है जिसमें फाइन लाइंस को बनने से रोका जा सकता है. ये सेल्‍स को सिकुड़ने से रोकता है.

    2. केमिकल पील

    यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें चेहरे पर एक एसिडिक सॉल्‍यूशन लगाया जाता है और फिर इसे पील ऑफ (Peel off) कर दिया जाता है. इसका प्रभाव धीरे-धीरे बढ़ता है और अगले कुछ दिनों में प्रभावी हो जाता है.

    इसे भी पढ़ें : हेयर कलरिंग से पहले इन 5 बातों का रखें ख्याल, बाल दिखेंगे सिल्‍की और खूबसूरत

    3. लेजर थेरेपी

    यह एक आधुनिक तरीका है जिसमें लेजर की मदद से त्वचा की कई पतली परतों को एक-एक कर हटाया जाता है. जिससे रिंकल्स गायब हो जाते हैं. इससे कोलेजन उत्पादन में बढ़ोतरी होती है.

    4. डर्मल फिलर

    यह एक प्राकृतिक तरीका है जिसमें इंजेक्शन की मदद से हयालूरोनिक एसिड या कोलेजन को प्रभावित एरिया में इंजेक्ट किया जाता है, जिससे झुर्रियां और फाइन लाइंस गायब हो जाती हैं.

    Tags: Beauty treatments, Lifestyle, Skin care

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर