International women's Day 2021: बेंगलुरु कामकाजी महिलाओं की पहली पसंद, सबसे अधिक प्रोफेशनल्स यहीं

बेंगलुरु में सबसे अधिक महिला प्रोफेशनल्स

बेंगलुरु में सबसे अधिक महिला प्रोफेशनल्स

International women's Day 2021- बेंगलुरु (Bengluru) में महिला शक्तिकरण कई जगहों की अपेक्षा अधिक है. बेंगलुरु बेंगलुरु की वर्कफोर्स में महिलाओं की हिस्सेदारी 39% है, जो देश के किसी अन्य शहर की तुलना में सबसे ज्यादा है.

  • Share this:
International women's Day 2021: आज महिला दिवस मनाया जा रहा है. ऐसे में भले ही आज हम महिलाओं की कामयाबी का जश्न मना रहे हैं लेकिन आज भी देश में पेशेवर कामकाजी वर्ग में महिलाओं की हिस्सेदारी काफी कम है. हालांकि इस मामले में बेंगलुरु में महिला शक्तिकरण कई जगहों की अपेक्षा अधिक है. बेंगलुरु बेंगलुरु की वर्कफोर्स में महिलाओं की हिस्सेदारी 39% है, जो देश के किसी अन्य शहर की तुलना में सबसे ज्यादा है.

दैनिक भास्कर में इंडिया स्किल रिपोर्ट 2021 के हवाले से छापा गया है कि कामकाजी महिलाओं के लिए दिल्ली, मुंबई या किसी अन्य मेट्रो शहर की अपेक्षा बेंगलुरु सबसे अधिक पसंद किया जा रहा है. इस सिलसिले में इंडिया स्किल रिपोर्ट को तैयार करने में मुख्य सहयोगी संस्था व्हीबोक्स की हेड ऑफ इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टीज श्वेता झा ने बताया कि आखिर क्यों बेंगलुरु कामकाजी महिलाओं को काफी लुभा रहा है. उन्होंने बताया कि दरअसल शहर की कॉस्मोपॉलिटिन संस्कृति लोगों को एक खुला प्लेटफॉर्म मुहैया कराती है. कर्नाटक इंजीनियरिंग और तकनीकी शिक्षा का हब है. ऐसे में अधिकतर युवा लड़के और लड़कियां यहां आते हैं ताकि अपना करियर बना सकें.

Also Read: International Women's Day 2021: 45 साल से महिलाओं के स्वास्थ्य को समर्पित डॉक्टर रेखा डावर ने दिया हेल्थ का फॉर्मूला



बेंगलुरु का माहौल देखकर वही युवा वर्ग बेंगलुरु में नौकरी करना पसंद करता है. बेंगलुरु में बेहतर ट्रांसपोर्ट, बराबरी के मौके, ग्लोबल एक्स्पोजर, आईटी सेक्टर में ऑनसाइट काम करने के मौके, निजी स्पेस, सिंगल, कामकाजी लड़कियों के लिए बेहतरीन और सुरक्षित सोसायटी में रेंट पर फ्लैट की सुविधा, जेंडर भेद को लेकर बनती बेहतर समझ, ये सब वो बड़े कारण हैं जो महिलाओं और लड़कियों को इस शहर की ओर आकर्षित कर रहे हैं.
Also Read: Happy Women's Day 2021 Shayari: शायराना अंदाज में महिलाओं को दें महिला दिवस की बधाई




इस सिलसिले में जनप्रिया इंजीनियर्स सिंडिकेट बिल्डर्स एंड डेवलपर्स लिमिटेड के सीओओ एंड ग्रुप सीएचआरओ नटराजन ने दैनिक भास्कर को बताया कि, बेंगलुरु का कॉर्पोरेट कल्चर ही कुछ ऐसा है जहां बिलकुल भी लिंग भेद नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज