गर्मी भगाने का एक 'नैचुरल' उपाय है नारियल पानी, टेस्टी भी और हेल्दी भी

कच्चे नारियल को छील कर ही उसमें से नारियल पानी पीया जाता है. Image-shutterstock.com

कच्चे नारियल को छील कर ही उसमें से नारियल पानी पीया जाता है. Image-shutterstock.com

बहुत ही कम फैट वाले नारियल पानी (Coconut Water) में 94 प्रतिशत पानी होता है. यह पूरी तरह से प्राकृतिक तौर पर तैयार हुआ लिक्विड होता है.

  • Share this:
(विवेक कुमार पांडेय)

बढ़ते तापमान की बातें पिछले कई दिनों से चल रही हैं और आने वाले दिनों में यह चर्चा और बढ़ेगी. चूंकि हम खाने पीने की बात करते हैं तो जाहिर सी बात है आज भी मैं ऐसी ही एक चीज की जानकारी देने जा रहा हूं जो गर्मी को काटने का अच्छा जरिया है. वैसे तो नारियल पानी (Coconut Water) के बारे में सब जानते ही हैं लेकिन आज मैं इसके खास फायदे बताने जा रहा हूं. दुनिया के लगभग हर कोस्टल एरिया में नारियल पानी का खूब इस्तेमाल होता है. इसे 'डाब' भी पुकारा जाता है. भारत में यह पिछले कई सदियों से उगाया और इस्तेमाल किया जाता है. नारियल की चर्चा तो हमारे वेदों में विस्तार से है. साथ ही हिंदू रीति-रिवाजों में भी नारियल अहम होता है. हवन में भी पूरे नारियल का इस्तेमाल किया जाता है.

कच्चे नारियल को छील कर ही उसमें से नारियल पानी पीया जाता है. इसे जीवन रक्षक पेय भी माना जाता है क्योंकि दूसरे विश्व युद्ध के दौरान घायल सैनिकों के इलाज में 'इमरजेंसी प्लाज्मा ट्रांसफ्यूजन' के तौर पर इसे इस्तेमाल किया जाता था. आमतौर पर इसे ताजा छील कर ही पीना लोग पसंद करते हैं. हालांकि आजकल बोतल बंद नारियल पानी भी बाजार में उपलब्ध है. बहुत ही कम फैट वाले नारियल पानी में 94 प्रतिशत पानी होता है. यह पूरी तरह से प्राकृतिक तौर पर तैयार हुआ लिक्विड होता है.



इसे भी पढ़ेंः ये 'खस' है बहुत खास, फायदे सुन पीना कर दें शुरू
एक नारियल को पूरी तरह से तैयार होने में 10 से 12 महीने लग जाते हैं जबकि नारियल पानी पहले ही यानी 5-6 महीने में तैयार हो जाता है. पूरे देश में अब यह उपलब्ध है. एनसीआर में आप सड़कों किनारे इसके अंबार लगे देख सकते हैं. एक कप यानी 240 एमएल नारियल पानी में 46 कैलोरी होती है. इसके अलावा 9 ग्राम कार्ब, 3 ग्राम फाइबर, दो ग्राम प्रोटीन, विटमिन सी, मैग्निशियम, मैग्नीज, पोटैशियम, सोडियम और कैल्शियम भी होता है. हालांकि नियंत्रण में रह कर ही इसका इस्तेमाल होना चाहिए वरना कई बार इसके साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं.

पेट खराब होने के दौरान अक्सर चिकित्सक सलाह देते हैं कि नारियल पानी पीया जाए. यह होता भी बहुत अच्छा है. आपको कमजोरी की स्थिति में इसके सेवन से अच्छे परिणाम मिलते हैं. हालांकि, इसको लेकर कई तरह के दावे किए जाते हैं लेकिन अभी भी कई सकारात्मक दावों का वैज्ञानिक प्रमाण मिलना बाकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज