• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • #BHU: ' उसने गंदा इशारा किया तो मैंने उसे पीटा, पापा बोले- सही किया!'

#BHU: ' उसने गंदा इशारा किया तो मैंने उसे पीटा, पापा बोले- सही किया!'

BHU की लड़कियों को सल्यूट जो उन्होंने अपने लिए आवाज़ उठाई और डंडे खाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
2-3 साल पहले जब हम लखनऊ में थे तब रोज़ रास्ते में एक दूसरे मोहल्ले की दुकान में काम करने वाला कारीगर घूरता रहता था. 3-4 दिन इग्नोर किया उसके बाद जब पांचवें दिन उसने देखकर गंदा इशारा किया तो रहा नहीं गया और गरिया कर उसे पीट दिया.

वापस जाकर जब पापा को बताया तो उन्होंने कहा सही किया बाकि अब तुम शक्ल दिखा देना उस आदमी की तो उसके मालिक से बात कर लेंगे. वापस पहुंचे तो देखा लड़का गायब था. उसके बाद से वह लड़का दोबारा कभी नहीं दिखा. पापा ने पलटकर सवाल नहीं किया कि क्यों मारा या पीटने से पहले हमें बताया क्यों नहीं. फैमिली का साथ होना ऐसी सिचुएशन में बहुत मायने रखता है.


BHU की लड़कियों को सल्यूट जो उन्होंने अपने लिए आवाज़ उठाई और डंडे खाए. लेकिन इतना सब होने के बाद उनके पैरेंट्स सामने नहीं आए. साथ में आकर वह भी अपनी बेटियों के लिए आवाज़ उठाते तो लड़कियों को हौंसला मिलता. कम से कम उन्हें अपनी बेटियों की सुरक्षा और उनके बहते खून के लिए तो उन्हें विश्वविद्यालय प्रशासन से जवाब मांगना चाहिए था.

पूछना चाहिए था कि अपनी सुरक्षा के लिए आवाज़ उठाना कौन सा जुर्म है. पूछना चाहिए था कि कौन से गुनाह के लिए उनकी बेटियों को इस तरह डंडों से पीटा गया. पूछना चाहिए था कि अगर लड़की 8 बजे बाहर गई भी तो क्या लड़कों को उसे छेड़ने का हक़ मिल गया.

लेकिन अगर उन्होंने भी लड़कियों को 7:30 बजे हॉस्टल में बंद हो जाने या फिर लड़कों के कारण रास्ता बदल कर दूसरे रास्ते से जाने के लिए ही यूनिवर्सिटी भेजा है तो बेहतर है कि वह छुट्टियों के बाद उन्हें वापस न भेजें.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज